Hindi News »Haryana News »Gurgaon» Job Class Pepole Dissapoint For Budget

गुड़गांव की 6 हजार इंडस्ट्री को मामूली राहत, इनकम टैक्स में छूट नहीं मिलने से नौकरीपेशा मायूस

Bhaskar news | Last Modified - Feb 02, 2018, 07:09 AM IST

वित्तमंत्री अरुण जेटली ने गुरुवार को बजट 2018-19 संसद में पेश किया।
  • गुड़गांव की 6 हजार इंडस्ट्री को मामूली राहत, इनकम टैक्स में छूट नहीं मिलने से नौकरीपेशा मायूस
    +1और स्लाइड देखें

    'गुड़गांव.वित्तमंत्री अरुण जेटली ने गुरुवार को बजट 2018-19 संसद में पेश किया। गुड़गांव के व्यापारियों, इंडस्ट्री और नौकरीपेशा लोगों को इस बजट से काफी उम्मीदें थीं, लेकिन सभी को मायूसी हाथ लगी। हालांकि बजट में 250 करोड़ टर्नओवर वाली कंपनियों को 25 फीसदी कॉर्पोरेट टैक्स की छूट दी गई है।

    गुड़गांव उद्योग एसोसिएशन प्रधान प्रवीन कुमार ने कहा कि नोटबंदी और जीएसटी से कंपनियों के कारोबार पर खराब असर पड़ा था। बजट से कुछ राहत मिलने की उम्मीद है। गुड़गांव में करीब 6 हजार ऐसे छोटी कंपनियां हैं। टैक्स में छूट के बाद लाभ मिलेगा। एसोचैम डायरेक्ट टैक्स काउंसिल के चेयरपर्सन राहुल गर्ग ने बताया कि एनसीआर में काफी कंपनियां ऐसी होंगी, जिनका टर्नओवर 250 करोड़ से कम होगा तो ऐसे में यदि उनका टैक्स रिबेट 25 प्रतिशत हो जाता है, तो उनके लिए फायदेमंद साबित होगा। वहीं इनकम टैक्स में छूट नहीं मिलने से नौकरीपेशा लोग मायूस हैं। इधर नेशनल हेल्थ प्रोटेक्शन स्कीम के तहत गुड़गांव में 20 हजार परिवारों को लाभ मिलेगा। इधर किसानों की बात करें तो जिले के 75 फीसदी किसानों पर कर्ज है, बजट में वित्त मंत्री ने किसानों को राहत दी है।

    गरीबों के लिए आवासों की घोषणा से रियल इस्टेट में बूम आने की उम्मीद
    वित्तमंत्री अरुण जेटली द्वारा पेश किए गए आम बजट में रियल इस्टेट को बूम लाने का प्रयास किया गया है। बजट में हर किसी को खुश करने का प्रयास किया गया है। इस बार हुई घोषणाओं से आम आदमी और रियल एस्टेट सेक्टर को काफी सहारा मिलने की आस है। ऐसे में गुड़गांव के रियल इस्टेट में भी तेजी आने की उम्मीद है।

    रियल एस्टेट अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण योगदान देता है। 2018-19 के बजट में जीएसटी दर में गिरावट से इस क्षेत्र को अतिरिक्त प्रोत्साहन मिलेगा। हालांकि, 99 स्मार्ट शहरों के लिए 2.4 लाख करोड़ रुपए का निवेश बाजार में और अधिक निवेश को आकर्षित करेगा, जो कॉमर्शियल क्षेत्र को बढ़ावा देगा।


    -पुष्पेंद्र सिंह, प्रबंध निदेशक, जेएमएस बिल्डटेक प्रा. लिमिटेड

    यह बजट ज्यादा मायने में देश के अफोर्डेबल आवास के विकास पर केंद्रित है। अगले साल के लिए, हम रियल एस्टेट क्षेत्र के लिए बहुत अधिक अवसर लाने वाले बजट की उम्मीद करते हैं, विशेष रूप से रेडी-टू-मूव क्षेत्र में, जिससे देश के समग्र विकास में मदद मिलेगी।
    - राहुल सिंगला, निदेशक, मैप्सको ग्रुप

    किसानों को अर्थव्यवस्था के केंद्र में लाएगा बजट

    कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ ने आम बजट 2018-19 में फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य को उत्पादन लागत से डेढ़ गुना करने के निर्णय का स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि आज का पूरा का पूरा बजट प्रोफार्मा है, जो किसान पहले हाशिए पर चला गया था, उसे दोबारा से अर्थव्यवस्था के केंद्र में लाया गया है।
    पीडब्ल्यूडी मंत्री ने बजट सराहा: पीडब्ल्यूडी मंत्री राव नरवीर सिंह ने कहा कि किसान, गरीब को मजबूत बनाने वाला बजट है। प्राकृतिक आपदाओं से किसानों को हुए नुकसान की भरपाई के लिए करीब तीन हजार करोड़ रुपए से अधिक की राहत प्रदान की गई।
    बजट निराशाजनक: तंवर
    हरियाणा कांग्रेस अध्यक्ष अशोक तंवर ने बजट को निराशाजनक बताया। बजट में आम लोगों पर बोझ बढ़ाया है, राहत नहीं दी है।

    गुड़गांव में 15-20 हजार परिवार को होगा फायदा
    बजट में 10 करोड़ परिवारों को 5 लाख का स्वास्थ्य बीमा करने की सुविधा पर गुड़गांव के 15-20 हजार परिवारों को लाभ मिलेगा। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के प्रेसिडेंट डॉ. नरेश कुमार ने बताया कि यदि सरकार इसे सीजीएचएस रेट पर लेकर आए तो जरूरतमंदों को फायदा होगा। जिले में करीब 15-20 हजार परिवारों को इसका लाभ मिलेगा।

  • गुड़गांव की 6 हजार इंडस्ट्री को मामूली राहत, इनकम टैक्स में छूट नहीं मिलने से नौकरीपेशा मायूस
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Haryana News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Job Class Pepole Dissapoint For Budget
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      More From Gurgaon

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×