Hindi News »Haryana »Gurgaon» Sanskrit University Open With Modern Subjects Will Soon

कैथल जल्द खुलेगी मॉडर्न विषयों वाली संस्कृत यूनिवर्सिटी, CS, इंजीनियरिंग समेत अन्य विषयों की पढ़ाई

हरियाणा के कैथल जिले में खुलने वाले संस्कृत यूनिवर्सिटी अन्य राज्यों की यूनिवर्सिटी से अलग होगी।

मनोज धर द्विवेदी | Last Modified - Dec 04, 2017, 07:21 AM IST

कैथल जल्द खुलेगी मॉडर्न विषयों वाली संस्कृत यूनिवर्सिटी, CS, इंजीनियरिंग समेत अन्य विषयों की पढ़ाई

गुड़गांव. हरियाणा के कैथल जिले में खुलने वाले संस्कृत यूनिवर्सिटी अन्य राज्यों की यूनिवर्सिटी से अलग होगी। छात्र संस्कृत भाषा में आयुर्वेद, कंप्यूटर साइंस, इंजीनियरिंग समेत अन्य विषयों की पढ़ाई कर सकेंगे। इसमें विभिन्न विषयों के सात संकाय होंगे। हरियाणा संस्कृत अकादमी के उपाध्यक्ष श्रेयांस द्विवेदी ने दैनिक भास्कर से बातचीत में रविवार को बताया कि प्रदेश में कैथल जिले के गांव मुंदड़ी में जल्द ही संस्कृत यूनिवर्सिटी बनाने की योजना है।


प्राचीन ग्रंथों में मुंदड़ी को मुद्रिका नाम से जाना जाता था। पंचायत की ओर से साढ़े 20 एकड़ जमीन यूनिवर्सिटी को मिल गई है। यूनिवर्सिटी एक्ट बना दिया गया है। उपाध्यक्ष ने बताया कि सीएम मनोहर लाल ने इसे स्वीकृत प्रदान कर दी है। यूनिवर्सिटी की फाइल विधि विभाग के पास भेज दी गई है। उन्होंने बताया कि हमारा प्रयास होगा कि संस्कृत यूनिवर्सिटी में बोलचाल की भाषा संस्कृत में हो। यहां पर हर स्तर पर बातचीत संस्कृत होगी। श्रेयांस ने बताया कि मनसा देवी में एक राजकीय संस्कृत कॉलेज खोलने की योजना है। उन्होंने कहा कि देश को अखंड भारत बनना है तो संस्कृत को नहीं छोड़ सकते।


दूसरे राज्यों को मान्यता देने में सक्षम होगी यूनिवर्सिटी
श्रेयांस ने बताया कि संस्कृति यूनिवर्सिटी में एक विशेष प्रावधान किया गया है। इसके तहत यूनिवर्सिटी प्रदेश के बाहर अन्य राज्य के संस्कृत महाविद्यालयों को मान्यता देने में सक्षम होगी। सरकार संस्कृत में एक आधुनिक विश्वविद्यालय बनाने की योजना रखती है। इससे संस्कृत के छात्रों को रोजगार के अवसर मिलेंगे।

70 गुरुकुल को होगा फायदा
हरियाणा में करीब 70 गुरुकुल यानि संस्कृत महाविद्यालय चल रहा हैं। इन गुरुकुलों को मान्यता के लिए परेशानी होती है। ऐसे में यूनिवर्सिटी बनने से 70 गुरुकुल की संबद्धता संबंधी समस्या दूर हो जाएगी। उन्हें एक बेहतर पाठ्यक्रम मिल सकेगा। गुरुकुलों पर यूनिवर्सिटी की नजर रहेगी। संस्कृति के छात्र शोध कर सकेंगे। उन्हें सरकार की ओर से आर्थिक सहायता व छात्रों को वजीफा मिल सकेगा। संस्कृत में अच्छे स्तर के विद्वान तैयार हो पाएंगे। इसका नाम महर्षि बाल्मीकि संस्कृत विश्वविद्यालय होगा।

विश्वविद्यालय में सात संकाय होंगे
उपाध्यक्ष श्रेयांस ने बताया कि यूनिवर्सिटी के एक्ट बनाने से पहले टीम ने संपूर्णानंद संस्कृत यूनिवर्सिटी बनारस, संस्कृत यूनिवर्सिटी उज्जैन, जयपुर संस्कृत यूनिवर्सिटी और राष्ट्रीय संस्कृत संस्थान दिल्ली के प्रावधानों को अध्ययन किया। इसके बाद हरियाणा की संस्कृत यूनिवर्सिटी का बायलाज तैयार किया गया है। इस विश्वविद्यालय में सात संकाय होंगे। जैसे भाषा विज्ञान, आधुनिक विज्ञान, वेद विज्ञान, दर्शन संकाय, शिक्षा शास्त्र, आयुर्वेद संकाय और तकनीकी संकाय शामिल हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Gurgaon

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×