Hindi News »Haryana »Gurgaon» हॉस्पिटल में पिता की सेवा देख प्रभावित हुईं तो शुरू किया सीनियर सिटीजन केयर सेंटर

हॉस्पिटल में पिता की सेवा देख प्रभावित हुईं तो शुरू किया सीनियर सिटीजन केयर सेंटर

गुड़गांव |पिता कीतबियत खराब थी और उन्हें हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। यहां उनकी सर्जरी हुई। सर्जरी के बाद यहां...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 08, 2017, 03:15 AM IST

गुड़गांव |पिता कीतबियत खराब थी और उन्हें हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। यहां उनकी सर्जरी हुई। सर्जरी के बाद यहां स्टाफ को पिता की सेवा करते देखा तो उनसे काफी प्रभावित हुई। उसने सोचा जब अस्पताल का स्टाफ बिना किसी जान-पहचान के प्रत्येक व्यक्ति खास तौर पर बुजुर्गों की सेवा कर सकते हैं तो मैं क्यों नहीं कर सकती। इस पर मैंने भी बुजुर्गों की सेवा करने की ठान ली और सीनियर सिटीजन केयर सेंटर की शुरुआत कर दी। यह कहानी है गुड़गांव की अर्चना शर्मा की।

पतिके साथ ने आगे बढ़ाया

अर्चनाने बताया कि वह पहले इंटरग्लोब टैक्नोलॉजी में जनरल मैनेजर के पद पर थी। काम के चलते अक्सर विदेश यात्रा रहती थी, जिसके कारण परिजनों के पास बैठने का मौका कम ही मिलता था। अकेलापन केवल उन्हें खलता था बल्कि मुझे भी अंदर से झकझोर कर रख देता था। इसी दौरान किन्हीं पारिवारिक कारणों के चलते नौकरी छोड़नी पड़ी। नौकरी छोड़ने के बाद पिता की तबियत खराब हो गई। उन्हें हॉस्पिटल में एडमिट करवाया, जहां उनकी सर्जरी हुई। यहां स्टाफ को मेरे पिता की सेवा करते देखा। वे सेवा ऐसे कर रहे थे जैसे मानो वे उनके ही परिवार के सदस्य हों। इसको देखकर मैं काफी प्रभावित हुई और वर्ष 2013 में सीनियर सिटीजन केयर सेंटर शुरू कर दिया। यह सेंटर मैंने अपने सेक्टर-57 स्थित मकान में शुरू किया। यहां मैं उन बुजुर्गों को रखने लगी जो घर पर अकेले रहते हैं। बुजुर्गों की सेवा करने में मेरे पति ने भी मेरा साथ दिया और वे मुझे फाइनेंशियल हेल्प करने लगे। यहां धीरे-धीरे बुजुर्गों की संख्या बढ़ने लगी। शुरूआत में यहां करीब 8 बुजुर्गों की सेवा करने का मौका मिला। यहां बुजुर्गों के लिए विभिन्न गेम्स एक्टिविटी, लाइब्रेरी, कंप्यूटर सेंटर बनाए हुए हैं। इसके साथ ही उन्होंने यहां हेल्थ टॉक वर्कशॉप भी आयोजित कराई जाने लगी। पिछले दिनों हुई नोटबंदी के दौरान बुजुर्गों के लिए स्मार्ट फोन इंटरनेट बैंकिंग की भी वर्कशॉप आयोजित कराई गई।

सेंटर में करीब 30 बुजुर्गों की सेवा कर रही हैं अर्चना

अर्चनाने बताया कि वे यहां बुजुर्गों की सेवा करने के साथ-साथ डिमेंशिया से पीड़ित बुजुर्गों की भी देखरेख करने में लगी रहती हैं। इस दौरान कुछ वालंटियर उनके साथ जुड़ गए जो डिमेंशिया पीड़ितों की सेवा करने में साथ देते हैं। वर्तमान में वे अपने सेंटर में करीब 30 बुजुर्गों की सेवा कर रही हैं। यहां रहने वाले बुजुर्ग भी यहां के माहौल से काफी खुश हैं।

गुड़गांव. सीनियर सिटीजन केयर सेंटर में रह रही महिलाओं के साथ अर्चना शर्मा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Gurgaon

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×