--Advertisement--

महिला सुरक्षा पर खास ध्यान, तीन साल में हरियाणा में खोले गए 22 थाने

सीएम होटल लीला एंबियंस में लुंबा फाउंडेशन की स्थापना की 20वीं वर्षगांठ के मौके पर मुख्य अतिथि के रूप में पहुंचे।

Danik Bhaskar | Nov 29, 2017, 08:34 AM IST

गुड़गांव. हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल गुड़गांव के होटल लीला एंबियंस में लुंबा फाउंडेशन की स्थापना की 20वीं वर्षगांठ के मौके पर मुख्य अतिथि के रूप में पहुंचे। उन्होंने लुंबा फाउंडेशन द्वारा विधवा महिलाओं के कल्याण के लिए किए जा रहे कार्यों की प्रशंसा की। समाज को वापस लौटाने की दिशा में लुंबा फाउंडेशन द्वारा इन महिलाओं के जीवन में बदलाव लाने का सराहनीय प्रयास किया जा रहा है।

राज्य सरकार द्वारा महिलाओं विधवा कल्याण के प्रति कटिबद्धता दर्शाते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा में लगभग 6 लाख 44 हजार विधवाओं को हर महीने 1600 रुपए प्रति महिला की पेंशन दी जा रही है, जो भारत के राज्यों में सर्वाधिक है। इसके अलावा उन्हें 21 वर्ष से कम आयु के दो बच्चों की शिक्षा के लिए 700 रुपए प्रतिमाह की वित्तीय सहायता भी दी जा रही है। उन्होंने कहा कि हरियाणा में गत 21 नवंबर को हुई कैबिनेट बैठक में निर्णय लिया गया था कि हरियाणा राज्य चयन आयोग द्वारा की जाने वाली भर्तियों में विधवा उम्मीदवार को 5 प्रतिशत अंकों का लाभ दिया जाएगा। इसी प्रकार का लाभ उन बच्चों को भी मिलेगा, जिनके पिता की मृत्यु उनके 15 वर्ष की आयु से से पहले हो गई थी। अब तक इस प्रकार का लाभ प्रदेश में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं तथा आंगनबाड़ी हेल्परों को मिल रहा था।

सैनिकों की विधवाओं की पेंशन बढ़ी
उन्होंनेबताया कि इसी महीने की पहली तारीख से राज्य सरकार ने द्वितीय विश्व युद्ध के सैनिकों की विधवाओं की पेंशन 4 हजार रुपए मासिक से बढ़ाकर 10 हजार कर दी है। इससे हरियाणा की लगभग 5 हजार विधवाओं को लाभ होगा। इसी महीने की पहली तारीख से सरकार ने 1957 के हिंदी आंदोलन के प्रतिभागियों तथा उनकी विधवाओं के लिए 10 हजार मासिक पेंशन का प्रावधान किया है। इससे पहले इंग्लैंड की पूर्व प्रथम महिला एवं लुंबा फाउंडेशन की अध्यक्ष चैरी ब्लेयर ने स्वागत करते हुए कहा कि इस कार्यक्रम का आयोजन फाउंडेशन की स्थापना की 20वीं वर्षगांठ मनाने तथा रोटरी इंडिया लिटरेसी मिशन के साथ साझेदारी से एक नई परियोजना शुरू करने के लिए किया गया है।