Hindi News »Haryana »Gurgaon» 85% लड़कियां व 75.33% लड़के चाहते हैं क्लास में यौन शिक्षा पर की जाए चर्चा

85% लड़कियां व 75.33% लड़के चाहते हैं क्लास में यौन शिक्षा पर की जाए चर्चा

मनाेज धर द्विवेदी | गुड़गांव स्कूलों में स्टूडेंट्स को किशोरावस्था में आने वाले शारीरिक बदलाव या कहें कि यौन...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 07, 2018, 02:00 AM IST

  • 85% लड़कियां व 75.33% लड़के चाहते हैं क्लास में यौन शिक्षा पर की जाए चर्चा
    +3और स्लाइड देखें
    मनाेज धर द्विवेदी | गुड़गांव

    स्कूलों में स्टूडेंट्स को किशोरावस्था में आने वाले शारीरिक बदलाव या कहें कि यौन शिक्षा दी जाए या नहीं, बहस का मामला रहा है। लेकिन, शिक्षा विभाग के सर्वे में प्रदेश में 81 फीसदी छात्रों ने इस पर कक्षा में चर्चा का समर्थन किया, जबकि 14.55 फीसदी ने विरोध। 85 फीसदी लड़कियों व 75.33 लड़कों ने कहा कि चर्चा होनी चाहिए। सर्वे में प्रदेश के स्कूलों से 33,460 स्टूडेंट्स ने भाग लिया।

    राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) ने स्टूडेंट्स (किशोर-किशोरी) की स्थिति का आकलन करने के लिए पिछले साल सर्वे कराया था। इसमें कक्षा 9 से 12 तक के सरकारी स्कूलों के स्टूडेंट्स शामिल हुए थे। सर्वे के पार्ट सी में बच्चों से पूछा गया कि स्कूल में यौन विषय पर चर्चा होनी चाहिए की नहीं। 81.1 ने हां, 14.55 ने ना व 4.44 फीसदी ने जानकारी नहीं होने की बात कही। इसमें 75.33 फीसदी लड़कों ने हां, जबकि 19.22 ने ना कहा। लड़कियों में 85.09 ने हां, जबकि 11.08 ने समर्थन नहीं किया। मामले में शहरी 82.48 और ग्रामीण के 80.66 फीसदी छात्रों ने हां में जबाव दिया। गुड़गांव की बात करें तो 82.37 फीसदी ने हां और 12.76 ने ना में जवाब दिया। चर्चा के परिणाम के सवाल पर प्रदेश के 66 फीसदी ने कहा इससे जानकारी बढ़ेगी, 11.98 फीसदी ने कहा कि सेफ्टी, 11.53 फीसदी ने बीमारियों के प्रति जागरुकता बढ़ेगी। गुड़गांव में 68 फीसदी जानकारी होने, 13.27 ने सेफ्टी व 8.36 में बीमारियों से सेफ्टी होने की बात कही। टीचर्स के जनन प्रक्रिया और जनन अंगों से संबंधित जानकारी देने के सवाल पर 62 फीसदी ने हां व 28.12 फीसदी ने ना में जवाब दिया, जबकि 9.41 ने कोई जानकारी नहीं होने की बात कही। वहीं किताब से जानकारी पाने वालों का 63.87 शामिल रहे, जबकि 24.87 अन्य स्रोत से।

    शहरी 82.48 और ग्रामीण 80.66 % छात्रों ने किया चर्चा का समर्थन

    छेड़छाड़ या जबरन शारीरिक संबंध के सवाल पर

    लड़के

    लड़कियां

    सहानुभूति दिखाई

    16.93%

    5.74%

    50.75%

    24%

    कुछ गलत हुआ तो किसे जानकारी दी

    हरियाणा

    33.10%

    4.04%

    48.08%

    2.87%

    5.45%

    यहां जानिए...टीचर, पैरेंट्स और साइकोलॉजिस्ट इस बारे में क्या सोचते हैं

    अभी बच्चों को ऐसी जानकारी देने का कोई दिशा-निर्देश नहीं है। महिला टीचर्स द्वारा लड़कियों को किशोरावस्था में आने वाले बदलाव संबंधी जानकारी बीच-बीच में दी जाती है। यदि सिलेबस में शामिल किया जाए तो टीचरों को कोई आपत्ति नहीं है। -सत्यनारायण यादव, राज्य उपप्रधान, अध्यापक संघ

    रिपोर्ट के अनुसार स्कूलों में जरुरी कदम उठाने के लिए कहा जाएगा। जिससे छात्रों की जरूरत के अनुसार शैक्षिक जानकारी दी जा सके। -ज्योति चौधरी निदेशक, एससीईआरटी, गुड़गांव

    17.61%

    डांटकर चुप करा दिया

    3.51%

    कोई ध्यान नहीं दिया

    52.18%

    उचित मार्गदर्शन दिया

    26%

    गुड़गांव

    मां को

    31.10%

    पिता को

    3.56%

    दोस्त को

    55.98%

    भाई या बहन को

    1.87%

    किसी अन्य को

    2.45%

    ऐसे किया गया सर्वे

    119 ब्लॉक के 33,460 छात्र शामिल

    03 स्कूल एक ब्लॉक से लिए गए

    02 ग्रामीण और एक शहरी स्कूल

    1 बॉयज, 1 गर्ल्स और एक को- एड स्कूल

    लड़कियां

    45% ने दोस्तों से देखी अश्लील पिक्चर

    अकेले में कोई गलत जगह हाथ लगाता है, सवाल पर गुड़गांव में 563 लड़कियों ने ना, 44 ने हां कहा।

    किससे होती हैं, परिवार में 6, पड़ोसी से 2, रिश्तेदार से 3, दोस्त से 4 व अज्ञात 12 से व अन्य 17 हुईं। लड़कों में 470 ने ना, 89 ने हां कहा। इसमें परिवार में 3, पड़ोसी 7, रिलेटिव 5, दोस्त 19, अज्ञात 8 व अन्य 47 हैं।

    अकेले में जबरन गले मिलने के बारे में पूछा गया तो गुड़गांव में 402 लड़कों ने ना व 94 ने हां कहा। जिसमें पारिवारिक सदस्य से 1, पड़ोसी से 4, रिश्तेदार 9, दोस्त 34 व अज्ञात 8 व अन्य 38 हुए।

    गुड़गांव जिले में लड़कियों में 573 ने ना व 34 ने हां कहा। लड़कियां में 10 दोस्त व अन्य नौ से हुई । जब छात्रों से पूछा गया कि अश्लील पिक्चर देखी है, तो गुड़गांव में 383 लड़कों ने ना और 113 ने हां में जवाब दिया।

    छात्रों को यौन शिक्षा की जानकारी स्कूल स्तर पर मिलनी चाहिए। इससे संबंधित सामग्री सिलेबस में शामिल हो। किशोरावस्था में हार्मोंस बढ़ते हैं और बच्चों में शारीरिक बदलाव आते हैं। ऐसे में बच्चों के मन में कई सवाल उठते हैं। इसका असर उनके मानसिक स्तर पर भी पड़ता है। ऐसे में जानकारी नहीं मिलने पर वे इंटरनेट में सर्च करते हैं। कई बार उन्हें गलत जानकारी मिल जाती है, अंजाने में अपराध का शिकार हो जाता हैं। ऐसे में बच्चों को यौन शिक्षा देनी चाहिए। डॉ. श्वेता शर्मा, क्लीनिकल साइकोलॉजिस्ट, कोलंबिया एशिया अस्पताल

    ग्रामीण छात्र

    लड़के

    शहरी छात्र

    एड्स की जानकारी

    66.25%

    ने कहा हां

    5.21% ने कोई जवाब नहीं दिया।

    एड्स कैसे फैलता है सवाल पर 21.63 ने संक्रमित खाना खाने, 20 ने छूने, 47.42% ने संक्रमित ब्लड, 51.65% संक्रमित सुई व 48% ने असुरक्षित यौन संबंध से फैलने की बात कही।

    जननांगों की जानकारी

    लड़के

    61%

    ने कहा हां

    31%

    ने कहा नहीं

    8%

    ने जवाब नहीं दिया

    जानकारी कहा से मिली, सवाल पर 19.33 लड़कों ने टीवी, 39.13 ने किताब, 30.57 फीसदी ने इंटरनेट, 25.43 फीसदी ने दोस्तों से व 3.24 फीसदी ने परिवार से जानकारी की बात कही।

    लड़कियों में 43.66 फीसदी ने किताब से, 15.76 ने दोस्त और 14.83 फीसदी को टीवी व परिवार से 10.36 फीसदी को जानकारी मिली।

    बच्चों को यदि स्कूलों में यौन शिक्षा की जानकारी दी जाती है तो बुराई नहीं है। आजकल बच्चों के हाथ में मोबाइल है। ऐसे में सही जानकारी मिले वो अच्छा है। -राजेश प्रजापति,पैरेंट व एसएमसी मेंबर सीसे.स्कूल बाल

    टीचर ट्रेनिंग में सर्वे संबंधी जानकारी टीचरों को शेयर की जाएगी। सर्वे रिपोर्ट की जानकारी सभी को दी जाएगी। जिससे की किशोरों की जरूरत को ध्यान में रखकर शैक्षिक कार्य कराया जाए। -ब्रह्म प्रकाश, विषय विशेषज्ञ, जनसंख्या विंग, एससीईआरटी

    28.53%

    ने कहा नहीं

    लड़कियां

    54.76%

    ने कहा हां

    38.68%

    ने कहा नहीं

    6.56%

    ने जवाब नहीं दिया

  • 85% लड़कियां व 75.33% लड़के चाहते हैं क्लास में यौन शिक्षा पर की जाए चर्चा
    +3और स्लाइड देखें
  • 85% लड़कियां व 75.33% लड़के चाहते हैं क्लास में यौन शिक्षा पर की जाए चर्चा
    +3और स्लाइड देखें
  • 85% लड़कियां व 75.33% लड़के चाहते हैं क्लास में यौन शिक्षा पर की जाए चर्चा
    +3और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Gurgaon

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×