• Home
  • Haryana News
  • Gurgaon
  • श्रीमदभागवत कथा: लोगों ने जाना गुरु द्रोण का त्याग
--Advertisement--

श्रीमदभागवत कथा: लोगों ने जाना गुरु द्रोण का त्याग

गुड़गांव| एकलव्य महातीर्थ में मंगलवार को श्रीमदभागवत कथा के दूसरे दिन कथाव्यास ब्रह्मचेतन महाराज ने गुरु...

Danik Bhaskar | May 30, 2018, 02:00 AM IST
गुड़गांव| एकलव्य महातीर्थ में मंगलवार को श्रीमदभागवत कथा के दूसरे दिन कथाव्यास ब्रह्मचेतन महाराज ने गुरु द्रोणाचार्य के त्याग की कथा सुनाई। किस प्रकार से गुरु द्रोणाचार्य ने जिस विद्या का ज्ञान अपने इकलौते पुत्र अश्वत्थामा को नहीं दिया, उस विद्या को शिष्य अर्जुन को दिया। इसके अतिरिक्त परीक्षित जन्म और कलियुग के आगमन और कलियुग के वास की कथा सुनाई। उन्होंने कहा कि जो मृत्यु के भय को समाप्त करना चाहता है उसे सर्वात्मा भगवान श्री कृष्ण की ही लीला कथाओं का श्रवण कीर्तन और मनन करना चाहिए। तभी मुक्ति और उद्धार सम्भव है। उन्होंने कलियुग के आगमन की और कलियुग के वास की कथा सुनाई और फिर परीक्षित के सात दिनों में मृत्यु शाप की कथा और फिर परीक्षित का ऋषियों से अपने मुक्ति का उपाय पूछने पर महर्षि शुकदेव आगमन और शुकदेव जी द्वारा राजा परीक्षित को श्रीमद्भागवत कथा का श्रवण प्रारंभ किए जाने के संदर्भ में भी विस्तार से प्रकाश डाला।