Hindi News »Haryana »Gurgaon» भारत बचाओ, संघर्ष समिति विरोध में सर्वखाप तय जगह पर नमाज को राजी

भारत बचाओ, संघर्ष समिति विरोध में सर्वखाप तय जगह पर नमाज को राजी

पिछले दिनों खुले में नमाज पढ़ने को लेकर पैदा हुए विवाद में हिंदू समुदाय तीन धड़ों में बंट गया है। सभी एक दूसरे पर...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 01, 2018, 02:00 AM IST

भारत बचाओ, संघर्ष समिति विरोध में सर्वखाप तय जगह पर नमाज को राजी
पिछले दिनों खुले में नमाज पढ़ने को लेकर पैदा हुए विवाद में हिंदू समुदाय तीन धड़ों में बंट गया है। सभी एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप कर रहे हैं। एक तरफ, सर्वधर्म सर्वखाप भाईचारा समरसता पंचायत गुड़गांव में धार्मिक भाईचारा कायम रखने के लिए प्रशासन द्वारा चिह्नित स्थानों पर नमाज अता करने के पक्ष में है। 27 मई को झाड़सा में महापंचायत में चिह्नित स्थानों पर नमाज अता करने में पूरा सहयोग करने की घोषणा की थी। दूसरी तरफ, “भारत बचाओ संगठन” और संयुक्त हिंदू संघर्ष समिति खुले में नमाज पढ़ने का कड़ा विरोध करते हुए आंदोलन की चेतावनी दी है। गौरतलब है कि पिछले दिनों शहर के वजीराबाद, अतुल कटारिया चौक सहित अन्य जगहों पर नमाज का हिंदू संगठन के कार्यकर्ताओें ने विरोध किया था। मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस और प्रशासन ने तय स्थानों पर जगह चिह्नित कर नमाज कराने की बात कही थी, जिसे लेकर अब हिंदू संगठनों में ही खींचतान शुरू हो गई है।

झाड़सा गांव के प्रधान चौधरी महेंद्र सिंह की अध्यक्षता में हुई महापंचायत में स्पष्ट किया गया कि गुड़गांव के विकास में देश के भिन्न-भिन्न हिस्सों से आए हर वर्ग के लोगों ने योगदान दिया है। हमारा दायित्व बनता है कि शहर में सभी वर्गों/सभी धर्मों के लोगों को शांति और सौहार्द्र का माहौल दिया जाए, ताकि शहर की तरक्की हो। महापंचायत में पास प्रस्ताव जिसके तहत सर्वधर्म सर्वखाप महापंचायत प्रशासन द्वारा तय किए गए स्थानों पर नमाज कराने के लिए तैयार है। इसके लिए हम प्रशासन का सहयोग करेंगे। महापंचायत में आरोप लगाए गए थे कि राजनीतिक रोटी सेंकने के लिए कुछ असामाजिक और गैरजिम्मेदार लोग धार्मिक उन्माद फैला कर शहर में भाईचारा और सामाजिक ताने-बाने को तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं, जो हम नहीं होने देंगे।

सभी धर्मों के लोगों के लिए शांति और सौहार्द्र का माहौल जरूरी : सर्वखाप सर्वधर्म महापंचायत

भारत बचाओ संगठन और संयुक्त हिंदू संघर्ष समिति ने दी आंदोलन की चेतावनी

गुड़गांव. नमाज के विरोध को लेकर बैठक करते हिंदू संघर्ष समिति के कार्यकर्ता।

20 हिंदू संगठनों के प्रतिनिधित्व का दावा कर रही संयुक्त संघर्ष समिति :संयुक्त हिंदू संघर्ष समिति भी खुले में नमाज का विरोध कर रही है। समिति की गुरुवार को हुई बैठक में कहा गया कि समिति मुद्दों पर अडिग है। आवश्यकता पड़ने पर बड़े जनआंदोलन से पीछे नहीं हटेगी। समिति को औपचारिक तौर पर 20 हिंदू एवं सामाजिक संगठनों का समर्थन है। समिति संरक्षक नत्थू सिंह का कहना है कि तुष्टिकरण की नीति के चलते रोहिंग्या मुसलमानों को जनप्रतिनिधियों द्वारा लाखों की रकम बांटना और अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराना राष्ट्र की अस्मिता को खतरा है। यह सुनिश्चित होना चाहिए कि संबंधित व्यक्ति की नागरिकता क्या है और उसके पास भारतीयता का कोई प्रमाण है या नहीं। समिति ने प्रशासन को गुड़गांव में बिना नागरिकता के रह रहे ऐसे लोगों की कड़ाई से जांच की मांग की। समिति संयोजक महावीर भारद्वाज ने कहा कि प्रशासन हिंदू समुदाय के संयम को समझते हुए जल्द सही निर्णय ले। अन्यथा बड़ा आंदोलन होगा। बैठक में चौधरी श्याम सिंह ठाकरान, संयोजक महावीर भारद्वाज, अवकाश प्राप्त न्यायाधीश अनिल कुमार विमल, राजीव मित्तल मौजूद रहे।

सर्वधर्म सर्वखाप महापंचायत का कोई अस्तित्व नहीं : भारत बचाओ संगठन

“भारत बचाओ संगठन” सर्वधर्म सर्वखाप भाईचारा समरसता महापंचायत को फर्जी करार दे रहा है। संगठन संयोजक विक्रम यादव व सह संयोजक विजय यादव का कहना है कि खुद को 360 गांवों का प्रधान बताने वाले झाड़सा के चौधरी महेंद्र सिंह ठाकरान और पालम के चौधरी रामकरण का कोई अस्तित्व नहीं है। वे हिंदू समुदाय के ठेकेदार कैसे हो सकते हैं। विक्रम ने कहा कि सीएम ने भी घोषणा की थी कि खुले में नमाज पढ़ना गलत है। उनके आदेश के बावजूद पुलिस संरक्षण में सार्वजनिक स्थानों पर नमाज की व्यवस्था की जा रही है, जो गलत है। इससे शहर की शांति और ट्रैफिक व्यवस्था प्रभावित होती है। खुले मे नमाज पढ़ने के विरोध में सीएम को खून से पत्र लिख चुके हैं। चेतावनी भी दी है कि रोक नहीं लगी तो हजारों की संख्या में साधु-संत व समाज के लोग डीसी ऑफिस पर धरना देंगे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Gurgaon

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×