• Home
  • Haryana News
  • Gurgaon
  • 21 जुलाई को सार्वजनिक स्थान पर नमाज के विरोध में धर्म संसद
--Advertisement--

21 जुलाई को सार्वजनिक स्थान पर नमाज के विरोध में धर्म संसद

इधर, कुछ हिंदू संगठन सार्वजनिक स्थानों पर नमाज अता करने का विरोध कर रहे हैं। उसके मद्देनजर गुड़गांव में आगामी 21...

Danik Bhaskar | Jun 17, 2018, 02:00 AM IST
इधर, कुछ हिंदू संगठन सार्वजनिक स्थानों पर नमाज अता करने का विरोध कर रहे हैं। उसके मद्देनजर गुड़गांव में आगामी 21 जुलाई से दो दिवसीय धर्म संसद की तैयारी है। अखिल भारतीय संत परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष यति नरसिंहानंद सरस्वती का कहना है कि उनका संगठन सार्वजनिक स्थानों पर नमाज करने का विरोधी है। गुड़गांव में अच्छा नहीं हो रहा है। विरोध में गुड़गांव में धर्म संसद करने का फैसला लिया गया है। धर्म संसद में संत समाज इस पर मंथन करेगा कि हिंदू समुदाय की रक्षा कैसे की जाए। चिंता की बात है कि मुस्लिम समुदाय की जनसंख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है और हिंदू समुदाय अल्पसंख्यक होता जा रहा है। इधर, जन संघर्ष समिति पर यति नरसिंहानन्द सरस्वती ने आरोप लगाया है कि समिति अपने निर्णय से मुकर गई और जिला प्रशासन की गोद में जा बैठी है। ऐसी संघर्ष समिति से संत परिषद का लेना-देना नहीं है। उन्होंने कहा कि धर्म संसद का आयोजन हरियाणा की धरती पर किया जा रहा है, जो एक क्रांति की शुरुआत है।