• Home
  • Haryana News
  • Gurgaon
  • अस्थमा पीड़ित सत्यरूप सिद्धांत ने दुनिया के 7 महाद्वीपों की पर्वत चोटियों पर फहराया तिरंगा
--Advertisement--

अस्थमा पीड़ित सत्यरूप सिद्धांत ने दुनिया के 7 महाद्वीपों की पर्वत चोटियों पर फहराया तिरंगा

काम के प्रति लगन हो तो विषम से विषम परिस्थितियां भी सफलता मिलने में बाधा नहीं बन सकती। अस्थमा पीड़ित सत्यरूप...

Danik Bhaskar | Jul 09, 2018, 02:00 AM IST
काम के प्रति लगन हो तो विषम से विषम परिस्थितियां भी सफलता मिलने में बाधा नहीं बन सकती। अस्थमा पीड़ित सत्यरूप सिद्धांत ने माउंट एवरेस्ट सहित विश्व के 7 महाद्वीपों की पर्वत चोटियों पर तिरंगा फहराकर इस वाक्य को चरितार्थ कर दिया है। ऐसा करने वाले वे 5वें भारतीय नागरिक हैं। मूलरूप से पश्चिम बंगाल निवासी सत्यरूप ने गुड़गांव पहुंचने पर बताया कि अस्थमा से पीड़ित होते हुए भी पर्वतारोहण के उनकी बड़ी रुचि है। सत्यरूप ने विपरीत परिस्थितियों में भी हिम्मत नहीं हारी। उनकी इच्छा मिशन एडवेंचर स्पोर्ट्स के क्षेत्र में क्रांति लाने की है।

111 किमी. की चढ़ाई महज 6 दिन में पूरी की

सत्यरूप ने दक्षिणी ध्रुव के आखिरी हिस्से में 111 किलोमीटर की चढ़ाई महज 6 दिन में पूरी की थी। वह अंटाकर्टिका महाद्वीप पर बांसुरी से राष्ट्रीय गीत की धुन बजाने वाले पहले भारतीय हैं। उन्होंने ना केवल माउंट एवरेस्ट, बल्कि 7 कॉन्टिनेंटल के 7 सबसे ऊंचे पर्वतों पर तिरंगा फहराया।

सत्यरूप ने इन पर्वतों पर पाई फतह

अस्थमा होने के बावजूद सत्यरूप ने दुनिया के इन पर्वतों पर फतह पाई है। इनमें किलिमंजारो, विन्सन, मैसिफ, कॉसक्यूजको, कार्सटेन्सज पिरामिड, एवरेस्ट, एलब्रुस और माउंट मैककिनले शामिल हैं। एडवेंचर कंसल्टेंट्स के सीईओ और प्रमुख पर्वतारोही गॉय कॉटर का कहना है कि ये सत्यरूप की सबसे बड़ी उपलब्धि है। युवाओं को उनसे प्रेरणा लेनी चाहिए।