Hindi News »Haryana »Gurgaon» खतरे की घंटी: गुड़गांव में 17.59% लड़के व 4.50% लड़कियां सेवन कर रहे नशीले पदार्थ

खतरे की घंटी: गुड़गांव में 17.59% लड़के व 4.50% लड़कियां सेवन कर रहे नशीले पदार्थ

एससीईआरटी के छात्रों में तनाव व नशीले पदार्थ पर कराए गए सर्वे में प्रदेश में 42.13 फीसदी लड़के और 39.45 लड़कियों के परिवार...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 09, 2018, 02:05 AM IST

खतरे की घंटी: गुड़गांव में 17.59% लड़के व 4.50% लड़कियां सेवन कर रहे नशीले पदार्थ
एससीईआरटी के छात्रों में तनाव व नशीले पदार्थ पर कराए गए सर्वे में प्रदेश में 42.13 फीसदी लड़के और 39.45 लड़कियों के परिवार में किसी ना किसी प्रकार के मादक पदार्थों के सेवन करने की बात सामने आई हैं। जिसमें 13.13 फीसदी लड़के व 3.31 फीसदी लड़कियों ने कभी न कभी मादक पदार्थों का सेवन किया है। गुड़गांव में 17.59 फीसदी लड़के व 4.50 लड़कियां, फरीदाबाद में 16.54 फीसदी लड़के व 3.98 फीसदी लड़कियों ने मादक पदार्थ लेने की बात कहीं। सर्वे में पूरे हरियाणा में 33460 छात्र-छात्राएं शामिल किए गए थे।

राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी)ने छात्रों (किशोर-किशोरी)की स्थिति का आंकलन करने के लिए पिछले साल सर्वे कराया था। इसमें कक्षा 9 से 12 तक के सरकारी स्कूलों के छात्र-छात्राओं को शामिल किया गया था। सर्वे के पार्ट बी में छात्रों से तनाव व मादक पदार्थों के प्रयोग पर प्रश्न पूछा गया था। जिसमें छात्रों से पूछा गया कि आपके परिवार का कोई सदस्य मादक पदार्थों जैसे तंबाकू, शराब आदि का प्रयोग करता है। जिसके जवाब में 42.13 फीसदी लड़कों जबकि 39.45 फीसदी लड़कियों ने हां कहा। गुड़गांव में 50.31 फीसदी लड़के जबकि 43.33 लड़कियों ने हां में जबाव दिया। फरीदाबाद में 62.31 फीसदी लड़के जबकि 57.95 फीसदी लड़कियां ने हां में जवाब दिया। जबकि मेवात में 34.46 फीसदी लड़के व 29.66 फीसदी लड़कियों ने हां कहा। प्रदेश में सबसे अधिक 62.34 फीसदी फरीदाबाद में लड़के, पलवल 56.17 फीसदी लड़के और भिवानी 56.15 फीसदी लड़कों के परिवार में मादक पदार्थ यूज करने की बात कही।

विशेषज्ञों की राय: बच्चों के साथ संवाद स्थापित करें और समय-समय पर काउसंलिंग की भी जरूरत

हर तीसरे दिन एक बच्चा ओपीडी में ड्रग्स संबंधित आ रहा है। इसमें निजी स्कूल के बच्चे भी है। कुछ लोग बच्चों को नशे के लिए टारगेट करते है। जब बच्चा नशे की गिरफ्त में आ जाता है, घर से पैसे चोरी करने लगता। 11 साल का भी बच्चा ड्रग्स पीड़ित आया था। -डॉ. श्वेता शर्मा, क्लीनिकल साइकोलॉजिस्ट,कोलंबिया एशिया अस्पताल

सर्वे में पूरे हरियाणा में 33460 छात्र-छात्राएं शामिल किए गए थे

आपकी मित्र मंडली में कोई मादक पदार्थ प्रयोग करता है?

हरियाणा | 24.09% लड़कों ने हां, 3.06% लड़कियों ने ना

गुड़गांव | 34.76%लड़कों ने हां,4 % लड़कियों ने ना।

फरीदाबाद | 35.77 % लड़कों ने हां,3.41% लड़कियों ने ना।

मेवात | 25.72 % लड़के ने हां,3.95% लड़कियां ने ना ।

सबसे अधिक | सोनीपत में 4.93% लड़कियां, 38.18% लड़के महेन्द्रगढ़ में।

क्या आपके मित्रों या परिचितों ने मादक पदार्थों को आमंत्रित किया है?

हरियाणा | 25.09% लड़के ने हां 3.73% लड़कियों ने हां कहा। अर्बन 6.71% व ग्रामीण 7.68%।

लड़के

गुड़गांव

35.79%

फरीदाबाद

35.77%

रेवाड़ी

33.03%

क्या आपने मादक पदार्थों का प्रयोग किया है?

हरियाणा | 13.13% लड़के व लड़कियों में 3.31% ने हां में जबाव दिया।

गुड़गांव| 17.59% लड़के व 4.50% लड़कियांंे ने हां कहा। इसमें शहरी 9.05% व ग्रामीण 11.18% है।

फरीदाबाद| 16.54% लड़के व 3.98% लड़कियांंे ने हां कहा है।

लड़कियां

मेवात

7.63%

पलवल

6.86%

महेंद्रगढ़

5.74%

पैरेंट्स को बच्चों पर नजर रखनी चाहिए और उनके बीच संवाद रखना चाहिए। बच्चे के अंदर तनाव न आने दे। पैरेंट्स टीचर मीटिंग में शामिल होकर बच्चों के बारे में जानकारी लेनी चाहिए। दूसरा बच्चों को खेलकूद के लिए प्रेरित करना चाहिए। कई बार जाने अंजाने में व दोस्तों की संगत के कारण गलत आदत पकड़ लेते हैं। - डॉ.ब्रह्मदीप सिंधू, मनोरोग विशेषज्ञ,नागरिक अस्पताल,

गुड़गांव. सोहना रोड स्थित एससीईआरटी। फाइल फोटो

65.89% के पिता पीते हैं बीड़ी

जब छात्रों से पूछा गया कि घर से सदस्य किस मादक पदार्थ का सेवन करते हैं। जबाव में कहा कि प्रदेश में 65.89 फीसदी के पिता बीड़ी, 32.81 फीसदी एल्कोहल, 11.56 फीसदी तम्बाकू, 0.74 फीसदी भांग व 0.38 फीसदी ड्रग लेते हैं।

गुड़गांव में 68.77 फीसदी बीड़ी, 36.17 फीसदी एल्कोहल, 19.37 फीसदी तम्बाकू सेवन करते हैं। फरीदाबाद में 57.10 फीसदी बीड़ी, 34.43 एल्कोहल व 9.13 तम्बाकू का सेवन करते हैं। मां के बारे में पूछा गया तो 5.11 बीड़ी, 2.23 एल्कोहल, 2.27 तम्बाकू, 0.28 भांग व 0.28 ड्रग लेने की बात कहीं।

मेवात जिले में 16.24 फीसदी महिलाएं बीड़ी व 13.71 फीसदी तम्बाकू का का सेवन करती है। जब पूछा गया कि स्वयं मादक पदार्थ किया लिया है तो प्रदेश में 1.53 फीसदी ने बीड़ी,0.94 फीसदी एल्कोहल,0.47 फीसदी तम्बाकू, 0.33 फीसदी भांग व 0.37 फीसदी ड्रग लेने की बात कहीं।

गुड़गांव में 1.78 फीसदी ने बीड़ी, 0.99 फीसदी एल्कोहल लिया। तम्बाकू का सेवन किसी ने न करने की बात कही।

48.27% युवा म्यूजिक सुनकर भगाते हैं तनाव

क्या तनाव के बारे में जानते है?

71.69%
| हां

24.85% | ना

3.46% |जवाब नहीं

तनाव में क्या करते हैं

12.65% योग, 48.27% म्यूजिक,,21.66 %मनोरंजक साहित्य पढ़ना, 39.83% खेल, 1.49% धूम्रपान, 1.34% शराब पीना,14.42 %अन्य। गुड़गांव में 10% योग,51.33% म्यूजिक,21.68% मनोरंजक साहित्य पढ़ना, 43% गेम खेलते है।

तनाव महसूस किया है ?

64.36%
| हां

32.01% | ना

3.63 % |जवाब नहीं

रिपोर्ट के अनुसार स्कूली बच्चों को विभिन्न माध्यमों से इससे होने वाले नुकसान के बारे में जानकारी दी जा रही है। स्कूल प्रिंसिपलों से कहा जाएगा कि इसके लिए एक अलग से सेल बनाया जाए,जो लड़कों व लड़कियों की काउंसिलिंग करे। जिससे उन्हें गुड व बेड हैबिट की जानकारी दी जा सके। -ज्योति चौधरी,निदेशक एससीईआरटी,गुड़गांव

तनाव कब महसूस करते हैं

61.23%| परीक्षा में

34.87%| घर के किसी सदस्य से

33.92%|अपनी मर्जी से कुछ न कर पाने में

7.94% | अन्य कारणों से तनाव महसूस करते हैं

यदि हां तो कितनी बार किया मादक पदार्थों का प्रयोग?

गुड़गांव | लड़कों ने 30.23% ने एक बार, 27.91% कभी कभी,13.95% ने नियमित, 23.26 %ने दो दो या तीन बार लेने की बात कहीं। लड़कियों में 55.56 % ने एक बार,14.81% कभी कभी,11.11% नियमित व 7.41% ने दो या तीन बार यूज किया। मेवात में 20.48% लड़के व 22.86% लड़कियों ने एक बार लेने की बात कहीं।

फरीदाबाद| लड़कों में 32.56 % एक बार, 39.53% कभी कभी, 27.91% ने दो या तीन नियमित कोई नहीं लेता। लड़कियों में 71.43 % एक बार, 14.29% कभी कभी, 7.1 % ने दो या तीन बार जबकि नियमित कोई नहीं लिया। पलवल में 39.47 % लड़के व 20.69% ने एक बार यूज किया।

हरियाणा में | लड़कियों में कैथल में 72.22%, फरीदाबाद में 71.43 % व अंबाला में 69.23% लड़कियों ने पहली बार मादक पदार्थों को सेवन किया। सबसे कम में पलवल 20.69 फीसदी व मेवात 22.86 फीसदी है। लड़कों में पंचकुला 40.48 फीसदी,रोहतक 40 व पलवल 39.47 फीसदी है।

यदि प्रयोग किया तो किस कारण से किया?

गुड़गांव में| लड़कांें में 10.63 % ने जिज्ञासाा,11.04 % ने दोस्त,8.38% ने तनाव व 34.97% ने अन्य कारण बताया। फरीदाबाद में| 9.62 % ने जिज्ञास, 8.46 % दोस्त, 2.31 % तनाव व 11.15% ने अन्य। मेवात में| 14.23% ने जिज्ञासा,25.33% दोस्त, 13.84 % तनाव व 25.07 %अन्य।

सरकारी स्कूलों में रोल प्ले ,फोक डांस, पेटिंग प्रतियोगिता, राइटिंग,युवा पंचायत जैसे कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। इसके जरिए किशोरों को ड्रग्स व सामाजिक बुराइयों के बारे में जानकारी दी जा रही है। अब रिपोर्ट आने पर जिलेवार पर फोकस किया जाएगा। जिससे टीचर बच्चों को इनसे बचने के बारे में जागरूक करेंगे। - ब्रह्म प्रकाश,विषय विशेषज्ञ,जनसंख्या विंग,एससीईआरटी

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Gurgaon

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×