--Advertisement--

अतिक्रमण के खिलाफ नगर निगम सख्त

शहर में बढ़ रहे अतिक्रमण को लेकर नगर निगम ने सख्ती बरतना शुरू कर दी है। निगम में अतिक्रमणकारियों पर शुक्रवार को...

Danik Bhaskar | Jun 23, 2018, 02:10 AM IST
शहर में बढ़ रहे अतिक्रमण को लेकर नगर निगम ने सख्ती बरतना शुरू कर दी है। निगम में अतिक्रमणकारियों पर शुक्रवार को पहली बड़ी कार्रवाई की। नगर निगम की इंफोर्समेंट टीम ने शुक्रवार को शहर के सबसे व्यस्ततम सदर बाजार में में 79 दुकानों को सील उनके खुलने से पहले सुबह करीब 8 बजे ही सील कर दिया। निगम की कार्रवाई से तिलमिलाए व्यापारियों ने व्यापारियों ने हनुमान मंदिर में बैठक कर रोष व्यक्त किया। इसमें व्यापारियों के अलावा निगम पार्षद, विधायक और हरियाणा डेयरी विकास प्रसंघ के चेयरमैन भी शामिल हुए। इसके बाद व्यापारियों ने दोपहर बाद निगमायुक्त यशपाल यादव से विधायक उमेश अग्रवाल के साथ जाकर मुलाकात की। दुकानदारों ने निगमायुक्त को दोबारा अतिक्रमण नहीं करने का आश्वासन दिया। इस पर निगमायुक्त ने सील हटाने का आश्वासन दिया। करीब तीन घंटे बाद भी जब सील नहीं खोली गई तो व्यापारियों ने निगमायुक्त से बात की। इस पर उन्होंने कहा कि सील खोलने के लिए अतिक्रमण नहीं करने का एफिडेविट और 25 हजार रुपए सिक्योरिटी राशि देना होगी। इसके बाद ही सील खोली जाएगी। शुक्रवार शाम तक कुछ दुकानदारों ने एफिडेविट दिया, जिसके बाद उनकी सील खोल दी गई।

कई बार अतिक्रमण नहीं करने का किया अनुरोध

निगम आयुक्त यशपाल यादव ने बताया कि सदर बाजार को अतिक्रमण मुक्त करने के लिए नगर निगम सदन की सामान्य बैठक में निर्णय लिया गया था। इसके तहत प्रथम चरण में दुकानदारों एवं मार्केट एसोसिएशन के पदाधिकारियों की एक बैठक बुलाकर उन्हें अतिक्रमण नहीं करने के बारे अनुरोध किया था। इसके बाद मुनादी के माध्यम से भी दुकानदारों से कहा गया था कि वे अपनी दुकानों के सामने रेहड़ी-पटरी आदि लगवाकर अतिक्रमण ना करें अन्यथा नगर निगम द्वारा कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। साथ ही वीडियोग्राफी भी कराई गई, लेकिन बार-बार अनुरोध के बावजूद स्थिति में सुधार नहीं हुआ। इस पर शुक्रवार को संयुक्त निगमायुक्त विवेक कालिया, सहायक अभियंता (अतिक्रमण) राजेंद्र यादव एवं इनफोर्समेंट विंग द्वारा पुलिस फोर्स की मदद से 79 दुकानों को सील किया गया।

राहत देनेे में होगी दिक्कत

बाजार में अतिक्रमण के बाद रास्ता तंग हो जाता है। ऐसे में अगर आगजनी या भगदड़ जैसी अप्रिय घटना हो जाए, तो राहत एवं बचाव दल को घटना स्थल तक पहुंचने में काफी परेशानी होगी।

सदर बाजार में 79 दुकानें सुबह खुलने से पहले सील फिर Rs.25 हजार सिक्योरिटी, एफिडेविट लेकर खुलीं




गुड़गांव. सदर बाजार में दुकानों को सील करते हुए नगर निगम की इंफोर्समेंट टीम के कर्मचारी, इनसेट में दुकान पर चस्पा नोटिस।

दुकानों के आगे बने रैंप तोड़े

बाजार में विभिन्न दुकानदारों द्वारा दुकानों के बाहर बनाए गए रैंप तथा शेड आदि को जेसीबी की सहायता से तोड़ा गया तथा उन्हें हिदायत दी गई कि वे अतिक्रमण ना करें। जनहित को ध्यान में रखते हुए सार्वजनिक रास्ते पर अतिक्रमण नहीं होने दिया जाएगा।




विधायक बोले, अतिक्रमण करेंगे तो आपका ही नुकसान होगा

सुबह सदर बाजार में 79 दुकानों पर की गई सीलिंग की कार्रवाई को लेकर दोपहर 12.30 व्यापारियों ने हनुमान मंदिर में बैठक की। इस बैठक में करीब 200 से अधिक व्यापारियों ने हिस्सा लिया। व्यापारियों की बैठक में विधायक उमेश अग्रवाल, पार्षद सुभाष सिंगला, हरियाणा डेयरी विकास प्रसंघ के चेयरमैन जीएल शर्मा भी पहुंचे। विधायक उमेश अग्रवाल ने कहा कि व्यापारी जैसा चाहते हैं, वैसा ही होगा, लेकिन एक जुटता से फैसला लें। अतिक्रमण करके कार्रवाई नहीं चाहते तो वो भी हो सकता है। लेकिन कोई बाजार में आएगा नहीं। यदि आप चाहते कि सदर बाजार में ग्राहक आएं तो अतिक्रमण बंद करना होगा। ऐसे में व्यापारियों से पूछा कि वे दुकानों के आगे अतिक्रमण नहीं करेंगे तो कई लोग चुप्पी साध गए। जबकि कुछ व्यापारी सहमति जताते नजर आए।

सीलिंग की कार्रवाई गैरकानूनी : नवीन गुप्ता

गुड़गांव टैक्स बार एसोसिएशन प्रधान एडवोकेट नवीन गुप्ता ने कहा कि म्यूनिसिपल एक्ट हरियाणा 1994 में कहीं भी ऐसा प्रावधान नहीं है कि बिना नोटिस दुकानों को सील किया जाए। नगर निगम को पहले नोटिस देना होगा, जिसमें करीब सात दिन मोहलत भी देनी होती है। इसके बाद ही इस तरह की कार्रवाई होगी। यह कार्रवाई पूरी तरह गैर कानूनी तरीके से की गई।

दो बार नोटिस दिया, मुनादी भी कराई, फिर की कार्रवाई: यादव

नगर निगम आयुक्त यशपाल यादव ने एमसीजी एक्ट 1994 के अनुसार कार्रवाई करने को लेकर कहा कि वे दो-दो बार नोटिस दे चुके हैं। इसके अलावा मुनादी कराने के बाद यह कार्रवाई की गई है। कार्रवाई की जाती है तो लोग सवाल उठाते हैं और नहीं करते हैं तो भी उंगली उठाते हैं। पूरी कार्रवाई नियम के दायरे में रहकर की गई है।




दुकानों को सील किया जाना निंदनीय : गहलोत

हरियाणा विधानसभा के पूर्व डिप्टी स्पीकर गोपीचंद गहलोत ने कहा कि सदर बाजार में अतिक्रमण के नाम पर बाजार खुलने से पहले ही नगर निगम गुड़गांव द्वारा दुकानों को सील किया जाना निंदनीय व शर्मनाक है। ये सरकार के व्यापारी विरोधी रवैये को दिखाता है। नोटबंदी व जीएसटी की मार से व्यापारी पहले ही परेशन है।