--Advertisement--

गुड़गांव के प्रखर समेत 4 स्टूडेंट्स 500 में से 499 नंबर के साथ टॉपर; सोनीपत की श्रेष्ठा सेकंड, पानीपत की रिया थर्ड

8 साल बाद फिर बोर्ड, मार्क्स व पर्सेंटेज प्रणाली; 1.31 लाख के 90% से ज्यादा अंक, टॉप-3 रैंक में 5 हरियाणा व 12 यूपी के

Danik Bhaskar | May 30, 2018, 06:30 AM IST
नंदिनी गर्ग, शामिली नंदिनी गर्ग, शामिली

सीबीएसई 10वीं के नतीजे

-16 लाख बच्चों ने परीक्षा दी

- 86.70% कुल बच्चे पास हुए

- 88.67% लड़कियां पास हुईं

- 85.32% लड़के पास हुए

नई दिल्ली. सीबीएसई ने मंगलवार को 10वीं की बोर्ड परीक्षा के नतीजे घोषित कर दिए। पहले तीन स्थानों पर 25 छात्र हैं। इनमें 17 लड़कियां और आठ लड़के हैं। 500 में से 499 यानी 99.8% नंबर के साथ चार टॉपर हैं। इनमें डीपीएस गुड़गांव के प्रखर मित्तल, बिजनौर (यूपी) के आरपी पब्लिक स्कूल की रिमझिम अग्रवाल, स्काॅटिश इंटरनेशनल स्कूल शामली की नंदिनी गर्ग और भवनी विद्यालय कोच्चि की श्रीलक्ष्मी जी हैं। सात छात्रों ने 498 अंकों के साथ दूसरा स्थान हासिल किया है। बरनाला के गांव वजीदके की तरनप्रीत कौर (ब्रॉडवे स्कूल)समेत 11 छात्र 497 अंक हासिल कर तीसरे स्थान पर रहे। परीक्षा में 16 लाख बच्चे बैठे थे। कुल पास प्रतिशत 86.70 % रहा। लड़कियों का पास प्रतिशत 88.67% और लड़कों का 85.32% रहा। 27426 विद्यार्थियों के 95% या ज्यादा नंबर आए हैं, जबकि 1,31,493 के 90% या उससे अधिक नंबर हैं। पहले तीन स्थानों पर आने वाले 25 छात्रों में 12 यूपी से हैं।

टॉपर्स बोले- कोई खास फॉर्मूला नहीं, खुद ही राह बनानी होती है

तैयारी पर फोकस रखा

- आप्शनल विषय फ्रेंच में एक नंबर कटा। बाकी सभी में पूरे 100। रोज 4 से 5 घंटे पढ़ाई करता था। टेंशन लेने से कुछ नहीं होता है। सिर्फ तैयारी पर फोकस रखें। - : प्रखर मित्तल, गुड़गांव

सोशल मीडिया से दूर

हिंदी में एक अंक कटा है। इलेक्ट्रॉनिक गैजेट से दूर रहती हूं। सोशल मीडिया से दूर। रोज 4 घंटे पढ़ी। रात में रिलैक्स होने के लिए सिर्फ आधा घंटा टीवी देखती थी। - नंदिनी गर्ग, शामिली

बस टीचर्स से मदद ली

सफलता का कोई खास फाॅर्मूला नहीं। कभी ट्यूशन नहीं पढ़ी। बस स्कूल टीचर्स से ही मदद ली। मैथ्स में सिर्फ एक अंक कम है। बाकी सभी में 100 हैं। - रिमझिम, बिजनौर

15 साल से टीवी नहीं देखा

मैथ्स में एक नंबर कम रहा, बाकी सभी में 100%। रोज 7 घंटे पढ़ती थी। 15 साल से टीवी नहीं देखा। किताबें पढ़ना बहुत अच्छा लगता है। अपनी राह खुद बनाई। - श्रीलक्ष्मी जी, कोच्चि

स्कूलों में नवोदय सबसे आगे

- नवोदय 97.31%
- केंद्रीय विद्यालय 95.96%
- निजी स्कूल 89.49%
कभी ट्यूशन नहीं पढ़ी, आंटी ने दिन-रात पढ़ाया
- देश भर में थर्ड रही बरनाला की तरनप्रीत ने बताया कि उसने आज तक ट्यूशन नहीं पढ़ी। पिता त्रिलोचन सिंह किसान हैं। माता हरप्रीत कौर हाउस वाइफ। आंटी सुखवंत कौर ने दिन-रात एक कर पढ़ने में मदद की। आईपीएस बनना चाहती है। - तरनप्रीत कौर, बरनाला 99.4%
- पंचकूला रीजन में 2 लाख 41 हजार 139 स्टूडेंट्स ने परीक्षा दी थी, जिसमें से 2 लाख 10 हजार 520 पास हुए।
- पंचकूला रीजन; पंजाब तीसरे नंबर पर
- जम्मू-कश्मीर 96.28%
- हिमाचल प्रदेश 94.45%
- पंजाब 88.95%
- हरियाणा 88.54%
- चंडीगढ़ 66.21%
8 साल बाद फिर बोर्ड, पर्सेंटेज व अंक प्रणाली
- 2010 के बाद इस साल से 10वीं बोर्ड को फिर अनिवार्य कर दिया गया जिससे इस बार पर्सेंटेज और मार्क्स के आधार पर रिजल्ट घोषित हुआ है।
- इससे पहले सीबीएसई ने 2011 से बोर्ड परीक्षा वैकल्पिक करते हुए सीसीई (कंटिन्यूअस एंड कांप्रिहेंसिव इवेल्युएशन) पद्धति अपना ली थी जो पिछले साल 2017 तक चली। इसमें रिजल्ट ग्रेडिंग सिस्टम (सीजीपीए) के आधार पर दिए जाते थे।
तीन साल में 10% तक घटा रिजल्ट...
- इस बार परीक्षा के नतीजे पिछले कुछ वर्षाें की तुलना में कम रहे हैं। कारण 2011 से 2017 तक सीसीई पद्धति से मूल्यांकन हो रहा था। इसमें 90% से ज्यादा रिजल्ट आ रहा था। इसमें स्कूल और बोर्ड आधारित परिणामों के आधार पर कुल नतीजे घोषित किए जाते थे।
2018 86.70%
2017 93.06%
2016 96.21%

गुड़गांव की अनुष्का पांडा दिव्यांग कैटेगरी में टॉपर...
गुड़गांव. गुड़गांव की अनुष्का पांडा व गाजियाबाद की सान्या गांधी ने दिव्यांग श्रेणी में टॉप किया है। दोनों को 500 में से 489 अंक (97.8%) मिले हैं। 484 नंबर लेकर ओडिशा के धनपुर के सौम्यदीप दूसरे नंबर पर रहे।
- इस श्रेणी में 135 छात्रों ने 90% या उससे ज्यादा और 21 ने 95% या अधिक नंबर हासिल किए। सनसिटी स्कूल की अनुष्का लाइलाज स्पाइनल मस्कुलर एट्रॉफी (एसएमए) आनुवंशिक रोग से ग्रसित है। वह इंजीनियर बनना चाहती है।
प्रखर मित्तल, गुड़गांव प्रखर मित्तल, गुड़गांव
श्री लक्ष्मी, कोच्चि श्री लक्ष्मी, कोच्चि
गुड़गांव की अनुष्का पंडा दिव्यांग कैटेगरी में टॉपर। गुड़गांव की अनुष्का पंडा दिव्यांग कैटेगरी में टॉपर।