हांसी

  • Hindi News
  • Haryana News
  • Hansi
  • महापुरुषों की जयंती और पर्वों के नाम पर छुट्टियां बढ़ना अच्छा संकेत नहीं: रोहिल्ला
--Advertisement--

महापुरुषों की जयंती और पर्वों के नाम पर छुट्टियां बढ़ना अच्छा संकेत नहीं: रोहिल्ला

स्वामी विवेकानंद संस्था के मुख्यालय में शिक्षा व्यवस्था, सकारात्मक सोच व शैक्षणिक छुट्टियों पर सेमिनार का आयोजन...

Dainik Bhaskar

May 01, 2018, 03:10 AM IST
महापुरुषों की जयंती और पर्वों के नाम पर छुट्टियां बढ़ना अच्छा संकेत नहीं: रोहिल्ला
स्वामी विवेकानंद संस्था के मुख्यालय में शिक्षा व्यवस्था, सकारात्मक सोच व शैक्षणिक छुट्टियों पर सेमिनार का आयोजन किया गया। मुख्य वक्ता के रूप में आम आदमी स्वाभिमान के राष्ट्रीय संयोजक रमेश रोहिल्ला ‘संकल्प’ ने विचार रखे।

उन्होंने कहा कि हम सदियों से इन आदर्श वाक्यों को पढ़ते आए हैं कि आराम हराम है और कार्य ही पूजा है। मगर अब देश में महापुरुषों, संतों और पर्वों के नाम पर छुट्टियां बढ़ती जा रही हैं, जो सभ्य समाज के लिए एक शुभ संकेत नहीं है। उन्होंने कहा कि भारत के प्रमुख वैज्ञानिक और पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम ने कहा था कि मेरे निधन पर छुट्टी नहीं होनी चाहिए। ऐसा हुआ तो मेरी आत्मा दुखी होगी। ऐसा ही विचार स्वामी विवेकानंद, डॉ. भीमराव अंबेडकर, लाल बहादुर शास्त्री, शहीद भगत सिंह, सरदार पटेल, कबीर दास, सुभाष चंद्र बोस, इंदिरा गांधी, सर छोटू राम और ज्योति बसु का रहा। उन्होंने कहा कि इन महापुरुषों ने 365 दिन, 24 घंटे समाज और राष्ट्र हित में अथक परिश्रम किया और देश को आगे ले जाने में अपनी अहम भूमिका अदा की। उन्होंने सवाल किया कि शैक्षणिक क्षेत्र में महापुरुषों के निर्वाण व जयंती के अवसर पर छुट्टियां घोषित करके केंद्र व राज्य सरकारें क्या संदेश देना चाहती है ? उन्होंने कहा कि शैक्षणिक क्षेत्र में चाहे विद्यालय, महाविद्यालय हो या विश्वविद्यालय। ऐसे अवसरों पर 2-3 घंटे का सेमिनार या कार्यशाला होने चाहिए, ताकि महापुरुषों, संतों व पर्व के बारे में विद्यार्थियों व समाज को प्रेरणादायक सटीक जानकारी मिले, उनमें सकारात्मक सोच पैदा हो। न कि वह पूरे दिन घर में बैठकर समय व्यतीत करें।

इस पर हमें चिंतन करके उचित कदम उठाना चाहिए। पवित्रा रोहिल्ला, दिनेश जाखड़, सुखबीर रोहिल्ला, अमित चौहान, सुनीता गक्खड़ आदि ने भी विचार रखे।

स्वामी विवेकानंद संस्था के मुख्यालय में विचार रखते रमेश रोहिल्ला।

X
महापुरुषों की जयंती और पर्वों के नाम पर छुट्टियां बढ़ना अच्छा संकेत नहीं: रोहिल्ला
Click to listen..