--Advertisement--

3 दिन पहले ले गए थे टैक्सी, ड्राइवर का मर्डर कर शव को कार में डाल गए हत्यारे

मुजेसरगांव निवासी टैक्सी चालक का शव उसी की स्कार्पियो कार में सोतई गांव के निकट मिला।

Danik Bhaskar | Nov 17, 2017, 08:29 AM IST

फरीदाबाद। मुजेसरगांव निवासी टैक्सी चालक का शव उसी की स्कार्पियो कार में सोतई गांव के निकट मिला। डेड बॉडी पिछली वाली सीट से नीचे पड़ी थी। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार हत्या गला घोंटकर की गई है। हत्या करने की जगह भी कोई और है लेकिन हत्यारे शव को ठिकाने लगाने के लिए उसकी कार सोतई गांव के निकट सड़क किनारे खड़ा कर छोड़ गए। फोरेंसिक टीम और थाना सदर पुलिस ने मौका मुआयना किया। कार के अंदर से ग्लास, सोडा की बोतल भी बरामद हुई है।

9बजे खड़ी हुई थी कार
पुलिसको सूचना देने वाले व्यक्ति ने बताया कि वह 8.50 बजे ट्रैक्टर लेकर गांव की तरफ गए थे। तब स्कार्पियो वहां नहीं थी। लेकिन जब 10 मिनट बाद लौटे तो देखा कि स्कार्पियो बीच में खड़ी है। सड़क इतनी संकरी है लेकिन उसमें एक वाहन बड़ी मुश्किल से निकल पाता है। सड़क जहां खत्म होती है, वहां यू टर्न भी नहीं है। ऐसे में किसी भी गाड़ी को वापस मोड़ने के लिए उसे सड़क के दोनों तरफ बने खेत में ही उतारना पड़ता है। प्रत्यक्षदर्शी की मानें तो गाड़ी खड़ी करने वाला शख्स उतरकर सोतई गांव की तरफ चला गया।

क्या है मामला
50वर्षीय विक्रम लांबा टैक्सी चालक हैं। उनके पास स्कार्पियो गाड़ी है। टैक्सी को लेकर वह सेक्टर-22 के स्टैंड पर खड़े होते थे। 14 नवंबर की शाम तक बुकिंग मिलने के कारण वह घर चला आए। रात करीब 1.30 बजे किसी ने विक्रम के पास फोन किया। वह नींद से उठे और घर से दो जोड़ी कपड़े उठाकर स्कार्पियो लेकर निकल पड़े। जाते वक्त वह बच्चों से कह रहे थे कि दो दिन में वापस लौटेंगे। 15 नवंबर की शाम विक्रम के पड़ोस में रहने वाले कुछ युवकों ने फोन मिलाया तो उन्होंने कहा था कि वह बुकिंग पर आए हैं और आकर सबको पार्टी देंगे। लेकिन शाम तक उनका फोन बंद हो गया। गुरुवार सुबह सोतई गांव को जाने वाली मुख्य सड़क पर एक ट्रैक्टर चालक ने सड़क के बीचोंबीच स्कार्पियो खड़ी देखी तो वह उतरकर ड्राइवर को देखने गया। गाड़ी में झांककर देखा तो पिछली सीट के नीचे शव पड़ा था। उसी ने पुलिस को फोन कर सूचना दी। पुलिस मौके पर पहुंची और छानबीन की तो पता चला कि कार मुजेसर गांव निवासी विक्रम लांबा की है। फोन नंबर जुटाकर परिजनों को सूचना भिजवाई। परिजन भी मौके पर पहुंच गए।

गाड़ी का इंजन था बहुत ज्यादा गर्म
जब पुलिस पहुंची तो गाड़ी का इंजन बेहद गर्म था। सुबह 9 से 11.30 बजे तक इंजन इतना हीट फेंक रहा था कि मानो गाड़ी को बहुत दूर से चलाकर लाया गया हो या फिर किसी अनाड़ी शख्स ने उसे पहले या दूसरे गियर में ही काफी देर तक चलाया हो। डेड बॉडी भी अकड़ी पड़ी मिली। पुलिस के मुताबिक मौत के तीन से चार घंटे के भीतर डेड बॉडी अकड़ना शुरू हो जाती है जो करीब तीन-चार घंटे तक अकड़ी रहती है। अंदाजा है कि विक्रम की हत्या 15-16 नवंबर की रात 1 से 2 बजे के बीच हुई होगी।