Hindi News »Haryana »Hisar» Changes In License Process

अब ट्रक नहीं ऑटो चलवाकर ही दिया जाएगा तिपहिया का लाइसेंस, एलएमवी पर दर्ज होगा ऑटो के लिए वैलिड

हरियाणा में अब तिपहिया वाहन का लाइसेंस लेने के लिए ट्रक नहीं चलाना पड़ेगा।

Bhaskar news | Last Modified - Dec 27, 2017, 05:52 AM IST

अब ट्रक नहीं ऑटो चलवाकर ही दिया जाएगा तिपहिया का लाइसेंस, एलएमवी पर दर्ज होगा ऑटो के लिए वैलिड

हिसार | हरियाणा में अब तिपहिया वाहन का लाइसेंस लेने के लिए ट्रक नहीं चलाना पड़ेगा। प्रदेश सरकार ने सख्त निर्देश दिए हैं कि अब तिपहिया वाहन के लिए ऑटो चलाकर ही लाइसेंस जारी किया जाए और उसकी वीडियो रिकॉर्डिंग परिवहन मुख्यालय भेजी जाए। कई जिलों में यह प्रक्रिया लागू भी हो गई है। एसडीएम कार्यालय से ऑटो रिक्शा चलाने के लाइसेंस जारी किए जा रहे हैं।


इसके लिए पहले ऑटो चालकों को छह माह के लिए लर्निंग लाइसेंस दिया जा रहा है। इसकी अवधि खत्म होने से एक दो दिन पहले आरटीए विभाग में तैनात एमवीआई (मोटर व्हीकल इंस्पेक्टर) परमानेंट लाइसेंस जारी किए जाने के लिए आवेदक से ऑटो चलवा कर दोबारा टेस्ट लेंगे। इसके बाद उसकी वीडियो क्लिप तैयार कर उसके आवेदन पर परमानेंट लाइसेंस जारी करने के लिए हरी झंडी दे दी जाती है। इसके बाद आवेदक को लाइसेंस तो एलएमवी का जारी किया जाता है, लेकिन लाइसेंस पर सिर्फ ऑटो रिक्शा के लिए वैलिड लिखा जाता है।

इससे पहले ऑटो रिक्शा चलाने के लिए ड्राइविंग लाइसेंस लेना काफी कठिन था। चालकों को एलएमवी का लाइसेंस जारी किया जाता था। लाइसेंस को जारी करने के लिए आरटीए के अधिकारी ऑटो ड्राइवर से भारी वाहन चलवाकर देखते थे। इससे अधिकांश ऑटो चालक लाइसेंस के लिए होने वाले टेस्ट में फेल हो जाते थे। मगर सरकार ने अब इसे आसान कर दिया।
-जसवंत रंगा, प्रधान, ऑटो रिक्शा यूनियन।

भास्कर ने प्रमुख्ता से उठाया था मुद्दा

ये है नियम

{ ई-दिशा केंद्र पर फाइल तैयार होने के बाद कंप्यूटर पर टेस्ट देना होता है।

{ फीस जमा कराने बाद एसडीएम कार्यालय में आवेदन करना होगा। 6 माह के लिए लर्निंग लाइसेंस जारी होगा। परमानेंट के लिए रिन्यूवल आवेदन ई-दिशा में करना होता है।

लाइसेंस जारी करने को चलवाते हैं ऑटो रिक्शा
लर्निंग लाइसेंस की अवधि खत्म होने के बाद ऑटो चालकों को लाइसेंस पासिंग के लिए आरटीए में भेजा जाता है। यहां चालक को परमानेंट लाइसेंस देने के लिए उससे ऑटो रिक्शा चलवा कर देखते हैं। इसकी वीडियो क्लिप तैयार की जाती है। इसके बाद परमानेंट लाइसेंस के आवेदन पर लाइसेंस अथॉरिटी को लाइसेंस जारी किए जाने की मोहर लगा दी जाती है।
-आशीष दहिया, मोटर व्हीकल इंस्पेक्टर, आरटीए।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Haryana News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: ab trk nahi auto chloveaakar hi diyaa jaaegaaa tiphiyaa ka licence, elemvi par drj hoga auto ke liye vailid
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Hisar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×