• Home
  • Haryana
  • Hisar
  • एस्ट्रोटर्फ पर खेलने से रोका तो डाबड़ावासी पहुंचे डीएसओ के पास
--Advertisement--

एस्ट्रोटर्फ पर खेलने से रोका तो डाबड़ावासी पहुंचे डीएसओ के पास

हिसार एस्ट्रोटर्फ पर गांव डाबड़ा के खिलाड़ियों को खेलने से रोक दिया गया। इससे गुस्साए ग्रामीण खिलाड़ियों सहित...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 04:10 AM IST
हिसार एस्ट्रोटर्फ पर गांव डाबड़ा के खिलाड़ियों को खेलने से रोक दिया गया। इससे गुस्साए ग्रामीण खिलाड़ियों सहित एस्ट्रोटर्फ मैदान पर पहुंच गए। उन्होंने इसको लेकर डीएसओ से कोच की शिकायत की है। ग्रामीण व काेच राजेंद्र सिहाग का आरोप है कि एस्ट्रोटर्फ पर कोच गांव के लड़कों को खेलने नहीं दे रहे हैं। जबकि उनके गांव के खिलाड़ी राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेल में सम्मान दिला चुके हैं। मगर जब गांव के लड़के खेलने एस्ट्रोटर्फ पर पहुंचे तो कोच ने उनके साथ दुर्व्यवहार किया है। उधर, डीएसओ ने आरोपों को नकारा है।

गांव डाबड़ा में एक अकेडमी संचालक राजेंद्र सिहाग ने आरोप लगाते हुए कहा कि हिसार एस्ट्रोटर्फ पर लड़कों को खेलने नहीं दे रहे हैं। यही कारण है कि हिसार एस्ट्रोटर्फ से एक भी लड़का हॉकी में तैयार नहीं कर पाए। काफी समय में लड़कों के लिए एस्ट्रोटर्फ पर अभ्यास की मांग कर रहे हैं। मगर कोच लड़कियों की सुरक्षा की आड़ लेकर उन्हें रोक रहे हैं। ऐसे में हॉकी में लड़कों का भविष्य खतरे में है यही कारण है कि गांव डाबड़ा के हाॅकी खिलाड़ी हरियाणा नहीं बल्कि दूसरे राज्यों की टीमों में खेलने को मजबूर है । लड़कों को खेलने से रोकने पर नाराज ग्रामीण मैदान पर पहुंचे। मगर सूचना मिलने पर कोच वहां पहुंचे ही नहीं। उनकी प्रशासन से मांग है कि कोच की दादागिरी खत्म की जाए और लड़कों को खेलने की अनुमति दे।

कोच का तर्क

सीनियर हाॅकी कोच आजाद सिंह मलिक ने कहा कि ये लड़के यहां कोच के पास पंजीकृत नहीं हैं। न ही नियमित अभ्यास के लिए आते हैं। ये कभी कभार आते हैं, इनके साथ कोई कोच नहीं होता है। ये खेलते समय गाली-गलौज करते हैं। जबकि यहां लड़कियां अभ्यास करती हैं। ऐसे में उनका खेल प्रभावित होता है। पंजीकरण करवाए व नियमित आएं तो उनके खेलने पर हमें कोई एतराज नहीं हैं। कोच विजेंद्र सहारण ने कहा कि प्रशासन जो अनुमति देगा तो मुझे कोई एतराज नहीं।

डाबड़ा के खिलाड़ी व ग्रामीण कोच की डीएसओ को शिकायत देने कार्यालय पहुंचे।

हम किसी को खेलने से नहीं रोक रहे: रणधीर सिंह