Hindi News »Haryana »Hisar» वर्तमान में जीने से तनाव होंगे कम, एकाग्रता और याददाश्त बेहतर होगी : गिरिश पटेल

वर्तमान में जीने से तनाव होंगे कम, एकाग्रता और याददाश्त बेहतर होगी : गिरिश पटेल

तनाव के बहुत से कारण हैं। 98 प्रतिशत तनाव भूतकाल व भविष्यकाल के बारे में सोचते रहने से होता है। हम उसी में जीते हैं,...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 04:10 AM IST

वर्तमान में जीने से तनाव होंगे कम, एकाग्रता और याददाश्त बेहतर होगी : गिरिश पटेल
तनाव के बहुत से कारण हैं। 98 प्रतिशत तनाव भूतकाल व भविष्यकाल के बारे में सोचते रहने से होता है। हम उसी में जीते हैं, मगर वर्तमान में कभी नहीं जीते। वर्तमान का पूरा आनंद लेना है, तभी तनाव कम होगा। वर्तमान में जीना बहुत बड़ी उपलब्धि है। ये उदगार मुंबई से पहुंचे अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त मनोचिकित्सक डॉ. गिरीश पटेल ने व्याख्यान देते व्यक्त किए। कार्यक्रम का आयोजन प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय द्वारा बालसमंद रोड स्थित पीस पैलेस में ‘सम्पूर्ण स्वास्थ्य एवं खुशमय जीवन की शुरुआत’ विषय पर किया गया।

उन्होंने कहा कि वर्तमान में जीने से एकाग्रता बढ़ेगी, याददाश्त अच्छी होगी। तनाव हमें अपने स्वयं के विचारों के कारण ही आता है यदि हम समस्या के बारे में अपना दृष्टिकोण ही बदल दें तो समस्या ही बदल जाएगी। डॉ. पटेल ने कहा कि बीमार होने के बाद हम जो कष्ट उठाते हैं उससे अच्छा है प्रतिदिन हम कुछ मेहनत करें, तो बीमारियां होंगी ही नहीं। इस अवसर पर अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश आरके जैन, जेल अधीक्षक सतपाल कासनियां, डॉ. रमेश जिंदल, अग्रोहा सीडीपीओ कुसुम मलिक, ओमप्रकाश मलिक, प्रो. वेद गुलियानी, डॉ. सोमप्रकाश, राजकुमार गांधी सीए, डॉ. सोमप्रकाश, एमएल बजाज, वेदप्रकाश गावड़ी, डॉ. आरके मलिक व डॉ. आरके कौशिक आदि उपस्थित थे।

व्याख्यान देने से पूर्व डॉ. गिरीश पटेल का स्वागत करते ब्रह्मकुमारीज संस्थान के गणमान्य पदाधिकारी।

डॉ. पटेल ने हेल्थ टिप्स दिए

मीठा खाने से 78 प्रकार के नुकसान होते हैं जितना मीठा कम खाओगे उतना शरीर स्वस्थ रहेगा।

आहार ही औषधि है जो भी खाएं सावधानी से खाएं जब भूख लगे तभी खाएं व भोजन भूख के अनुसार ही लें।

फलों का सेवन खाली पेट करें। जो चीजें शरीर के लिए हानिकारक हैं उनका परहेज करें।

मेडिटेशन से मानसिक शक्तियों का संतुलन होता है व व्यवहार में परिवर्तन आता है।

अस्थमा के रोगियों के लिए मेडिटेशन सबसे उपयोगी है।

व्यायाम के लिए समय जरूर निकालें।

सुबह उठकर 15 मिनट पैदल सैर करने से 25 प्रकार के फायदे होते हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Hisar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×