Hindi News »Haryana »Hisar» NOC Expected To Meet First Time People Able To Capture

एनओसी मिलने की उम्मीद मंजूरी मिली तो पहली बार लोग खुद पकड़वाएंगे बंदर

इस मामले में आनाकानी करने के बाद अब सेक्टरवासी वाइल्ड लाइफ ब्रांच में जाने को मजदूर हुए हैं।

Bhaskar News | Last Modified - Sep 26, 2017, 05:50 AM IST

एनओसी मिलने की उम्मीद मंजूरी मिली तो पहली बार लोग खुद पकड़वाएंगे बंदर

हिसार.सेक्टरवासियों की अोर से बंदर पकड़ने के मामले में एनओसी की मांग को वन विभाग ने पंचकूला में स्थित प्रधान मुख्य वन संरक्षक वन्य प्राणी कार्यालय में अनुमति के लिए भेज दिया है। सेक्टरवासियों ने सोमवार को वन विभाग के वाइल्ड लाइफ ब्रांच के अधिकारियों से एनओसी की मांग की। बंदरों के आतंक से परेशान सेक्टरवासी खुद बंदर पकड़वाने के लिए नगर निगम के आयुक्त के पास पहुंचे थे। नगर निगम के अधिकारियों द्वारा इस मामले में आनाकानी करने के बाद अब सेक्टरवासी वाइल्ड लाइफ ब्रांच में जाने को मजदूर हुए हैं।

- सद्भावना संस्था के नेतृत्व में कार्यालय में पहुंचे सेक्टरवासियों ने अधिकारियों को बताया कि उनके सेक्टरों में बंदरों का आतंक है। बुजुर्ग, बच्चे और महिलाएं बंदरों का शिकार हो रही हैं। दहशत इतनी है कि बुजुर्ग अकेले छत पर नहीं जा सकते।

- छोटे बच्चे घर के आंगन में ही सुरक्षित नहीं है। हर समय बंदरों का डर लगा रहता है। निगम प्रशासन द्वारा सुरक्षा न मिल पाने के चलते अब अपने खर्च पर ही बंदरों से राहत के लिये उन्हें पकड़वाने की अनुमति दी जाए।

इस नियम के तहत मिलेगी अनुमति
- भारतीय वन्य जीव संरक्षण अधिनियम, 1972 के तहत सुरक्षा के दृष्टिकोण से कोई भी व्यक्ति या संगठन वन्य जीव को पकड़ने की अनुमति ले सकता है।

- इसमें अधिनियम के तहत कुछ शर्तें हैं। जिनकी पालना अनिवार्य है। 1972 अधिनियम जंगली जानवरों, पक्षियों और पौधों को संरक्षण प्रदान करता है।

पहली बार हिसार में मिलेगी व्यक्तिगत एनओसी
- वाइल्ड लाइफ शाखा के अधिकारी राजकुमार ने बताया कि हिसार में बंदरों को पकड़ने के लिए व्यक्तिगत तौर पर पहली बार किसी को अनुमति दी जाएगी। हालांकि इससे पहले विभागीय तौर पर नगर निगम को अनुमति अवश्य दी गई थी।

- जिसके तहत नगर निगम प्रशासन ने पूर्व में बंदर भी पकड़वाए और उन्हें कलेसर छोड़ा गया था। सेक्टरवासियों की तरफ बंदर पकड़ने की अनुमति के लिये आवेदन आया है। चीफ वन्य प्राणी संरक्षक की ओर से करीब 10-15 दिन में अनुमति दे दी जाती है। इसके बाद वे अपने स्तर पर बंदरों को पकड़वा सकते हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Hisar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×