Hindi News »Haryana »Hisar» Six People Dead In Sirsa Violence Whose Bullet Is Not Confirmed

सिरसा हिंसा में मरे 6 लोगों की मौत किसकी गोली से, पुष्टि नहीं, रिपोर्ट मधुबन लैब भेजी

सिरसा में हुई हिंसा के मामले में मारे गए 6 लोगों की मौत किसकी गोली से हुई है, इसकी अभी तक पुष्टि नहीं हुई है।

Bhaskar News | Last Modified - Nov 11, 2017, 05:25 AM IST

सिरसा . डेरा प्रमुख गुरमीत सिंह को पंचकूला सीबीआई कोर्ट की ओर से दोषी करार दिए जाने के बाद 25 अगस्त की शाम को सिरसा में हुई हिंसा के मामले में मारे गए 6 लोगों की मौत किसकी गोली से हुई है, इसकी अभी तक पुष्टि नहीं हुई है।

पुलिस के मुताबिक इसकी रिपोर्ट मधुबन लैब में भेजी गई है। वहां से रिपोर्ट आने के बाद ही पता लग सकेगा कि हिंसा में मरे लोगों को पुलिस की गोली लगी है या फिर किसी और की। पुलिस ने कोर्ट में दाखिल की गई चार्जशीट में बताया कि शहर की तरफ बढ़ रहे उपद्रवियों को रोकने के लिए ड्यूटी मजिस्ट्रेट के आदेश पर फायरिंग की थी। उपद्रवियों ने शहर की सुरक्षा के लिए लगाए गए नाके पर हमला बोल दिया था। नाका तोड़ने का भी प्रयास किया था। जवाब में सुरक्षा बल को भी फायरिंग करनी पड़ी थी। पुलिस ने चार्जशीट में यह जरूर लिखा है कि हिंसा में जो 6 लोगों मौत हुई है, उनको गोली लगी थी। मेडिकल रिपोर्ट और गोली के खोल आदि सबूत मधुबन भेजे गए हैं।
डेराप्रेमी 17 अगस्त से ही बनाने लगे थे प्लानिंग
पुलिस की ओर से कोर्ट में दाखिल की गई चार्जशीट में महत्वपूर्ण खुलासा हुआ है। गिरफ्त में आए एक भंगीदास के बयान का हवाला देते हुए पुलिस ने कोर्ट को बताया है कि जब साध्वी दुष्कर्म मामले में 17 अगस्त के दिन सीबीआई कोर्ट की तरफ से आॅर्डर हुए कि 25 अगस्त को गुरमीत सिंह को व्यक्तिगत पेश होना है। उसी दिन से डेरा प्रबंधन कमेटी को शक हो गया था कि फैसला खिलाफ आएगा। इसलिए 17 अगस्त से ही फैसले को लेकर 15 सदस्यीय कमेटी ने बैठक करनी शुरू कर दी थी, जिससे साफ है उपद्रवियों की मंशा सरकार को झुकाना थी। 25 अगस्त की सुबह तक लगातार बैठकें हो रही थीं। कल्याण नगर और डेरा मुख्यालय था। बैठकों में ही पूरे प्रकरण की प्लानिंग तैयार की गई थी।
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Hisar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×