--Advertisement--

सरकारी स्कूलों का रिजल्ट सुधारने के लिए टीचर्स को ट्रेनिंग देगा 141 ट्रेंड टीचरों का ग्रुप

प्रदेश में पहली बार सरकारी स्कूलों का रिजल्ट सुधारने के लिए टीचर्स को भी ट्रेंड किया जाएगा।

Danik Bhaskar | Nov 30, 2017, 07:35 AM IST

हिसार. प्रदेश में पहली बार सरकारी स्कूलों का रिजल्ट सुधारने के लिए टीचर्स को भी ट्रेंड किया जाएगा। शिक्षा निदेशालय प्रदेश के 141 ट्रेंड टीचरों का एक परमानेंट रिसोर्स ग्रुप तैयार करेगा, जो अलग-अलग मौकों पर टीचरों को ट्रेनिंग देंगे। हर ब्लॉक से एक टीचर लिया जाएगा। इसके लिए निदेशालय ने टीचरों की ट्रेनिंग के लिए ऑनलाइन आवेदन मांगे हैं। अपनी इच्छा से टीचर ट्रेनिंग करने के लिए आवेदन कर सकते हैं। विभाग ने ट्रेनिंग के लिए एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट (ईओआई) नाम से पोर्टल पर जानकारी दी है। इसमें अब तक 200 से अधिक टीचर ट्रेनिंग के लिए अप्लाई कर चुके हैं। इनको ट्रेंड करने की जिम्मेवारी शिक्षा निदेशालय के प्रोग्रामर व स्पीकर डॉ. अजय बल्हारा को सौंपी गई है।


पहले बैच की ट्रेनिंग 8 से
शिक्षा निदेशालय के प्रोग्रामर डॉ. अजय बल्हारा ने बताया कि टीचरों की पहली ट्रेनिंग कुरुक्षेत्र में 8 से 17 दिसंबर तक दस दिन तक चलेगी। वहीं दूसरे बैच की ट्रेनिंग 19 से 28 दिसंबर तक होगी। इस दौरान अजय बल्हारा के साथ देश के विभिन्न संस्थानों से अन्य गेस्ट स्पीकर भी टीचरों को ट्रेंड करने के लिए वर्कशाप में हिस्सा लेंगे।

इन बिंदुओं पर फोकस

-बच्चा सीखता कैसे है, इन तरीकों की जानकारी दी जाएगी।
-टीचरों को अच्छा स्पीकर बनाने की ट्रेनिंग होगी, ताकि वह इंटरेस्टिंग तरीके से शिक्षा दे सकें।
-टीचरों को ज्ञान शास्त्र के बारे में जानकारी दी जाएगी।
-वैश्विक स्तर पर शिक्षा का स्तर कैसा है, उन तरीकों को अपनाना।
-शिक्षा नीति में कब-कब बदलाव हुए और क्यों।
-ब्रिटिश काल, वैदिक काल में किस तरीके से शिक्षा दी जाती थी और उनमें से खास बिंदुओं को आज के समय में ग्रहण करना।
-राइट टू एजुकेशन के बारे में।
-हिंदी व अंग्रेजी भाषा पर कमांड कैसे करें।


स्टडी के तरीके में बदलाव
शिक्षा की नीति, वैश्विक परिदृश्य के अनुसार शिक्षा का स्तर, सभी विषयों को अच्छे तरीके से समझाना, विद्यार्थियों को रेगुलर कक्षाएं ज्वाइन करने के लिए प्रेरित करना, विषयों को ऐसे पढ़ाएं कि उनमें नए विषयों के लिए रुचि पैदा हो, बच्चों में अच्छा स्पीकर बनाने की व किसी भी टॉपिक को अच्छे तरीके से प्रेजेंट करने का, एग्जाम की तैयारी। विद्यार्थियों में डांस, सिंगिंग व अन्य प्रतिभाओं को पहचान कर उनको आगे लाना आदि।