Hindi News »Haryana »Hisar» पांच डॉक्टरों के समन नहीं हुए तामील तो सही पते पर पुन: भेजने के आदेश

पांच डॉक्टरों के समन नहीं हुए तामील तो सही पते पर पुन: भेजने के आदेश

सतलोक आश्रम प्रकरण में सोमवार को सेंट्रल जेल वन की अदालत में रामपाल सहित सैकड़ों आरोपियों की तीन अलग-अलग मुकदमों...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 17, 2018, 03:05 AM IST

सतलोक आश्रम प्रकरण में सोमवार को सेंट्रल जेल वन की अदालत में रामपाल सहित सैकड़ों आरोपियों की तीन अलग-अलग मुकदमों में पेशी हुई। देशद्रोह के मुकदमा नंबर 428 में रामपाल समेत 902 आरोपी पेश हुए। इस दौरान चार डाॅक्टरों की गवाही हुई है, जिनमें डाॅ. सतीश, डाॅ. महेंद्र, डाॅ. राजीव और डाॅ. नरेंद्र शामिल थे।

इस मामले की अगली सुनवाई 7 मई को होगी। वहीं मुकदमा नंबर 429 में हत्या के मामले में रामपाल समेत 15 आरोपियों ने धारा 313 के तहत अपने-अपने बयान दर्ज करवाए। मुकदमा नंबर-430 हत्या के मामले में रामपाल समेत 14 आरोपी पेश हुए। इसी मामले में पांच डॉक्टरों को गवाही देने आया था, जिन एड्रेस पर समन भेजे थे, सभी गलत निकले। इस वजह से एक भी समन तामील नहीं हुआ। जानकारी के अनुसार तीन डाॅक्टर उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में रहते हैं, जबकि दो एम्स में कार्यरत हैं। ऐसे में अदालत ने सभी डाॅक्टर्स का सही पता लगाकर पुन: समन जारी करने के आदेश दिए हैं, ताकि उनकी गवाही हो सके। फिलहाल हत्या के दोनों मुकदमों में 23 अप्रैल की तारीख निर्धारित की है। इनके अलावा देशद्रोह के मुकदमे संबंधित दूसरा मामला भी अदालत में विचाराधीन है। उसमें करीब 36 आरोपी हैं, जिनकी सुनवाई के लिए 23 अप्रैल की तिथि रखी गई है।

समर्थकों को पुलिस ने खदेड़ा

सतलोक आश्रम प्रकरण में तीन मुकदमों में पेशी के दौरान रामपाल के सैकड़ों समर्थक भी शहर में एकत्रित हुए। इस दौरान पीएलए, बैंक कॉलोनी व आसपास के इलाकों में पार्कों में रामपाल समर्थक नजर आए। वहीं, पुलिस भी रामपाल के समर्थकों को खदेड़ती दिखी। उन्हें एक जगह रुकने नहीं दिया तो गलियों में जाकर अपना डेरा जमा लिया। रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड सहित बरवाला रोड स्थित जिंदल पार्क में रामपाल समर्थक मौजूद थे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Hisar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×