• Home
  • Haryana
  • Hisar
  • महिलाएं बोलीं-बाहर ही नहीं घर में भी खतरा छठी से ही जूडो कराटे ट्रेनिंग कोर्स शुरू हो
--Advertisement--

महिलाएं बोलीं-बाहर ही नहीं घर में भी खतरा छठी से ही जूडो कराटे ट्रेनिंग कोर्स शुरू हो

सीएम के एक और सुधार प्रोजेक्ट को लेकर सोमवार को लघु सचिवालय में महिलाओं के लिए सम्मेलन का आयोजन किया गया। सम्मेलन...

Danik Bhaskar | Apr 17, 2018, 03:10 AM IST
सीएम के एक और सुधार प्रोजेक्ट को लेकर सोमवार को लघु सचिवालय में महिलाओं के लिए सम्मेलन का आयोजन किया गया। सम्मेलन का उद्देश्य महिलाओं से जुड़ी सुविधाओं की बेहतरी को लेकर उनके विचारों का जानना था। इस मौके पर प्रोजेक्ट के प्रभारी रॉकी मित्तल को सर्वे में शामिल महिलाओं ने बताया कि अब खतरा बाहर ही नहीं बल्कि उनके घर में भी है। सुरक्षित रहने के लिए खुद को ही सशक्त बनाना होगा। इसके लिए वह कक्षा 6 से ही कोर्स में जूडो कराटे की ट्रेनिंग को जुड़वाना चाहती हैं।

सरकार प्रदेश में पहली बार महिलाओं को सर्वे में शामिल कर उनके विचारों की डॉक्यूमेंट्री बना रही है। सर्वे में महिलाओं ने रोजाना की दिक्कतों को साझा किया है। इसमें परिवारों में संस्कारों के कम होने से लेकर बसों में यात्रा करने पर रिजर्व सीट होने पर भी सीट न मिलने जैसी परेशानियां शामिल हैं। कार्यक्रम के तहत प्रदेश के 20 जिलों की 600 महिलाएं सुझाव साझा कर चुकी हैं। इस मौके पर एएसपी राजेश कुमार, डीएसपी सिद्धार्थ ढांडा व अन्य मौजूद रहे।

डाक्यूमेंट्री में सभी जिलों की महिलाओं के व्यूज देखकर रणनीति बनाएंगे सीएम

लघु सचिवालय में आयोजित सम्मेलन में महिलाओं ने बयां की राेजमर्रा की समस्याएं

एक और सुधार कार्यक्रम के तहत लघुसचिवालय के सभागार में आयोजित सम्मेलन में अपने सुझाव रखती एक युवती।

सम्मेलन में महिलाओं ने यह दिए सुझाव






एक और सुधार प्रोजेक्ट के प्रभारी रॉकी मित्तल बताते हैं कि उन्होंने 20 जिलों में सर्वे कर लिया है। दो जिले अभी बाकी हैं। उन्होंने बताया कि कई जगह महिलाओं ने बताया कि जब मदद के लिए थानों में फोन करती हैं तो फोन रिसीव करने वाले की बातचीत का लहजा महिलाओं के प्रति सही नहीं होता है।