• Home
  • Haryana
  • Hisar
  • ऑक्शन रिकॉर्डर और शिफ्ट अटेंडेंट लगवाने के नाम पर ठगी, पिता-पुत्र समेत 4 पर केस
--Advertisement--

ऑक्शन रिकॉर्डर और शिफ्ट अटेंडेंट लगवाने के नाम पर ठगी, पिता-पुत्र समेत 4 पर केस

मार्केट कमेटी में ऑक्शन रिकॉर्डर और शिफ्ट अटेंडेंट की नौकरी दिलवाने की एवज में मूलत: गांव सौथा और 12 क्वार्टर...

Danik Bhaskar | May 01, 2018, 03:15 AM IST
मार्केट कमेटी में ऑक्शन रिकॉर्डर और शिफ्ट अटेंडेंट की नौकरी दिलवाने की एवज में मूलत: गांव सौथा और 12 क्वार्टर निवासी जयदेव की शिकायत पर उसके दो दोस्तों के 15 लाख 38 हजार 500 रुपए ठगने के आरोप में पुलिस ने पिता-पुत्र समेत चार लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है।

चौकाने वाली बात यह कि 12 क्वार्टर वासी जितेंद्र ने जयदेव व एक अन्य पर उक्त तरीके से 7.10 लाख रुपए ठगने का अारोप लगा केस दर्ज करवाया है। पुलिस ने दोनों मामलों की जांच शुरू कर दी है।

इंटरव्यू के समय विजय काे दिए 5 लाख रुपये

केस 1 : पुलिस ने 12 क्वार्टर वासी जयदेव की शिकायत पर कोहली के दलीप सिंह और उसके पुत्र विजय, 12 क्वार्टर वासी गिरदावरी और भूना निवासी कृष्ण कुमार के खिलाफ केस दर्ज किया है। शिकायतकर्ता बिजली मैकेनिक ने आरोप लगाया है कि विजय सिंह अपनी रिश्तेदार गिरदावरी नामक महिला के घर में रहता था। इस कारण उसका घर आना-जाना शुरू हो गया था। फरवरी 2016 को विजय उनके घर आकर बोला कि सरकार में उसकी पहुंच है। अगर आपको कोई बच्चा नौकरी लगवाना है तो बता देना। शिकायतकर्ता ने कहा कि दो दोस्त हैं, जिनके बेटों को नौकरी लगवानी है। उसने कहा कि 16 लाख रुपए देने पड़ेंगे। मार्केट में एचएसएससी के तहत उसके दोस्त बलवान के पुत्र अजय काे शिफ्ट अटेंडेंट और बलबीर के पुत्र जितेंद्र को ऑक्शन रिकॉर्डर लगवा देगा। ऐसे में 15 लाख रुपए बात पक्की हुई। 28 मार्च 2016 को जयदेव ने दोस्तों के बेटों को नौकरी लगवाने के लिए विजय को एडवांस 5 लाख रुपए ढांड हाल ढाणी किशनदत्त वासी रमेश की मौजूदगी में दिए थे। इसके अलावा 38 हजार 500 रुपए बतौर खर्चा दिया था। जब इंटरव्यू का समय आया तो विजय के कहने पर दोस्तों से 6 लाख रुपए नकद और 4 लाख रुपए का चेक 12 अक्टूबर, 2016 को उसकी व बलवान की मौजूदगी में पड़ोसन गिरदावरी के सामने दिए। महिला ने विश्वास दिलाया कि चिंता न करें। विजय आपका काम पक्का करवा देगा। इसकी मेरी गारंटी है। वहीं इंटरव्यू के बाद दोनों भर्तियों का परिणाम आया, जिनमें दोस्तों के बेटों का नाम नहीं था। तब विजय से रुपए लौटाने के लिए कहा तो टालमटोल करने लगा। पंचायत भी हुई थी, जिसमें 15,38,500 रुपए लेने की हामी भरी लेकिन फिर इनकार कर गया। आरोप है कि विजय के अलावा उसका पिता दलीप, कृष्ण व इनकी रिश्तेदार गिरदावरी भी धोखाधड़ी में शामिल है। इतना ही नहीं सीएम विंडो पर शिकायत दर्ज करवाई थी। तब विजय ने चेक दिया था, जोकि बाउंस हो गया था।