• Home
  • Haryana
  • Hisar
  • पुलिस के कई केसों की गुत्थी सुलझाने वाले आईटी एक्सपर्ट ने फांसी लगाकर जान दी
--Advertisement--

पुलिस के कई केसों की गुत्थी सुलझाने वाले आईटी एक्सपर्ट ने फांसी लगाकर जान दी

आईटी एक्सपर्ट पीएलए निवासी 39 वर्षीय विनय शर्मा ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। गुरुवार देर रात उसका शव बाथरूम के...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 03:15 AM IST
आईटी एक्सपर्ट पीएलए निवासी 39 वर्षीय विनय शर्मा ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। गुरुवार देर रात उसका शव बाथरूम के रोशनदान से बंधे फंदे से झूलता मिला। परिजनों ने शव देखकर पुलिस को सूचित किया। पीएलए चौकी इंचार्ज जगदीश अपनी टीम के साथ पहुंचे। सीन ऑफ क्राइम के सहायक निदेशक डाॅ. अजय अपनी फोरेंसिक टीम के साथ जांच करने पहुंचे। बता दें कि मृतक विनय शर्मा ने तत्कालीन आईजी ओपी सिंह के साथ हिसार में इंटरनेशनल स्तर की मैराथन का सफल आयोजन करवाने और साइबर केस की गुत्थी सुलझाने में अहम भूमिका निभाई थी। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सिविल अस्पताल की मोर्चरी में रखवा दिया है। शुक्रवार को परिजनों के बयान लेकर पुलिस आगामी कार्रवाई करेगी।

पीएलए चौकी इंचार्ज जगदीश चंद्र ने बताया कि देर रात करीब साढ़े 10 बजे की घटना है। विनय शर्मा बाथरूम में गया था, जोकि लौटकर बाहर नहीं आया। ऐसे में परिजनों को शक हुआ तो उन्होंने किसी तरह बाथरूम का गेट तोड़ा। अंदर विनय शर्मा का शव फंदे से झूल रहा था। उसने लोअर या ट्रैक सूट पेंट का फंदा बना रोशनदान से बांधकर झूल गया था। करीब तीन माह पहले ही उसकी शादी हुई थी। फिलहाल प|ी अपने मायके में गई थी।

विनय शर्मा। फाइल फोटो।

कर्ज से परेशान होकर लगाया फंदा

पुलिस की प्रारंभिक जांच में सामने आया है कि विनय शर्मा कर्ज से काफी परेशान था। वह कई दिनों से डिप्रेशन में चल रहा था। शाम सात बजे घर आया था। उसने अपनी माता से खाना मांगा था। इसके बाद नहाने के लिए बाथरूम में गया था। जब काफी देर तक बाहर नहीं आया तो परिजनों को अनहोनी का अंदेशा हुआ था। तब आसपास के लोगों को बुलाकर बाथरूम का दरवाजा तोड़कर अंदर देखा तो होश उड़ गए थे। हालांकि आत्महत्या के पीछे अन्य कोई कारण है, इस बारे में पुलिस जांच कर रही है। ऐसे में मृतक के परिजनों के बयान के बाद ही स्थिति स्पष्ट होगी।

हिसार मैराथन के सफल आयोजन में भी अहम भूमिका रही थी विनय शर्मा की

सीन आॅफ क्राइम के सहायक निदेशक डाॅ. अजय का कहना है कि आईटी एक्सपर्ट विनय शर्मा की घटना दुखद है। वह मिलनसार और हंसमुख व्यक्तित्व का इंसान था। पुलिस प्रशासन का हर स्तर पर सहयोग किया था। मैराथन के भव्य एवं सफल आयोजन से लेकर टेक्निकल वर्क तक में विनय शर्मा की अहम भूमिका रही थी। साइबर केस में जानकारियां जुटाने में भी उसने काफी योगदान दिया था।