• Hindi News
  • Haryana
  • Ismailabad
  • एक मई को खरीदे गेहूं की नहीं हुई पेमेंट 72 घंटे में भुगतान का दावा खोखला
--Advertisement--

एक मई को खरीदे गेहूं की नहीं हुई पेमेंट 72 घंटे में भुगतान का दावा खोखला

गेहूं की सरकारी खरीद के बाद 72 घंटे के भीतर गेहूं का भुगतान करने के सरकार के सभी दावे खोखले साबित हो रहे हैं। गेहूं...

Dainik Bhaskar

Jun 01, 2018, 02:15 AM IST
एक मई को खरीदे गेहूं की नहीं हुई पेमेंट 72 घंटे में भुगतान का दावा खोखला
गेहूं की सरकारी खरीद के बाद 72 घंटे के भीतर गेहूं का भुगतान करने के सरकार के सभी दावे खोखले साबित हो रहे हैं। गेहूं खरीद के करीब एक माह बाद भी खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के पास अनाज मंडी के करोड़ों रुपए अटके पड़े हैं। गेहूं का भुगतान न होने से आढ़तियों व किसानों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। अनाज मंडी के प्रधान नसीब सिंह गुराया ने बताया कि एक मई 2018 को करीब साढ़े तीन करोड़ का गेहूं अनाज मंडी से खरीदा था। इसके अलावा 12 मई 2018 को करीब डेढ़ करोड़ का गेहूं खाद्य एवं आपूर्ति विभाग ने खरीदा था। विभाग के पास गेहूं के करीब 5 करोड़ रुपए बकाया हैं। उन्होंने कहा कि विभाग को बार-बार कहे जाने पर भी इसका भुगतान नहीं किया जा रहा है। इसे लेकर अनाज मंडी में रुपए की किल्लत हो रही है। किसान भी परेशान हैं। प्रधान ने कहा कि जबकि हैफेड ने भी इन्हीं दिनों में अनाज मंडी से माल खरीदा था। लेबर व आढ़त को छोड़कर हैफेड का सारा भुगतान मंडी में आ चुका है। आढ़तियों ने सरकार से मांग की है कि शीघ्र खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के पास पड़ी बकाया राशि का भुगतान करवाया जाए। ताकि आढ़ती व किसानों को दिक्कत का सामना न करना पड़े। मौके पर अनिल सिंगला, शीतल कुमार, प्रवीन जिंदल, टिंचू सिंगला, रूपेश गांधी आदि मौजूद रहे। खाद्य एवं आपूर्ति विभाग अधिकारी वीरेंद्र सिंह ने माना कि अनाज मंडी इस्माइलाबाद का कुछ भुगतान रुका हुआ है। हिसाब मिलान के बाद उसका भुगतान कर दिया जाएगा।

इस्माइलाबाद | गेहूं के भुगतान की मांग करते बैठक में मौजूद आढ़ती।

X
एक मई को खरीदे गेहूं की नहीं हुई पेमेंट 72 घंटे में भुगतान का दावा खोखला
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..