Hindi News »Haryana »Ismailabad» भाजपा नेता ने की थी बीडीपीओ की शिकायत, अब बीडीपीओ ने कराया केस

भाजपा नेता ने की थी बीडीपीओ की शिकायत, अब बीडीपीओ ने कराया केस

कस्बावासी एक भाजपा नेता ने बीडीपीओ पर सरकारी गाड़ी के दुरुपयोग समेत कई आरोप लगाए थे, लेकिन उल्टे बीडीपीओ ने उक्त...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 29, 2018, 02:20 AM IST

कस्बावासी एक भाजपा नेता ने बीडीपीओ पर सरकारी गाड़ी के दुरुपयोग समेत कई आरोप लगाए थे, लेकिन उल्टे बीडीपीओ ने उक्त नेता के खिलाफ शिकायत पुलिस में कर दी। पुलिस ने भी केस दर्ज कर लिया। भाजपा नेता ने इसे बदले की कार्रवाई बताया। उधर बीडीपीओ भी पुलिस की कार्रवाई पर संतुष्ट नहीं हैं।

भाजपा नेता नरेंद्र कौशल ने बीडीपीओ राजवीर सिंह के खिलाफ डीडीपीओ को कुछ दिन पहले शिकायत की थी। आरोप लगाया कि बीडीपीओ ने सरकारी गाड़ी का मिसयूज किया। वहीं दो लाख 65 हजार कीमत का सोलर सिस्टम चार लाख 80 हजार रुपए में खरीदा। डीडीपीओ ने शिकायत को एडीसी के पास भेज दिया। बताया जाता है कि एडीसी कार्यालय में इस शिकायत की जांच चल रही है। एडीसी कार्यालय में जांच के लिए नरेंद्र कौशल और बीडीपीओ राजवीर सिंह को बुलाया गया। नरेंद्र ने बताया कि वहां पर बीडीपीओ ने उसके खिलाफ शिकायत डीसी कुरुक्षेत्र को दे दी। जिसकी जांच के लिए डीसी कार्यालय ने सेक्टर सात पुलिस को सौंपी। इस मामले को निपटाने के लिए वह सरपंच संजीव अरोड़ा व झांसा के सरपंच पुनीत मल आदि को लेकर बीडीपीओ कार्यालय में गया था। तब वहां बीडीपीओ राजवीर सिंह उल्टे उस पर आरोप जड़ दिए।

पुलिस ने किया केस दर्ज : बीडीपीओ ने आरोप लगाया कि नरेंद्र कौशल ने कार्यालय में आकर उनके साथ दुर्व्यवहार किया, सरकारी काम में बाधा डालने और उसे जातिसूचक शब्द कहे। इसकी शिकायत पुलिस में की। पुलिस ने शिकायत पर नरेंद्र के खिलाफ धारा 107, 51 के तहत की केस दर्ज किया है। हालांकि बीडीपीओ का कहना है कि वे पुलिस कार्रवाई से संतुष्ट नहीं है। इसके लिए उन्होंने डिप्टी चीफ सेक्रेटरी चंडीगढ़, डीसी व एसपी को लिखित शिकायत दी है।

बीडीपीओ बना रहे दबाव : वहीं नरेंद्र कौशल का कहना है कि बीडीपीओ उनपर झूठे मामले दर्ज करा कर दबाव बनवाने की कोशिश कर रहे हैं। ताकि वे अपने द्वारा दी शिकायत वापस ले ले।

बीडीपीओ के फोन पर पहुंचे थे मौके पर : थाना प्रभारी राजेश कुमार का कहना है कि बीडीपीओ इस्माइलाबाद ने फोन किया था। जिसके बाद वे बीडीपीओ कार्यालय में पहुंचे थे। जो कार्रवाई बनती थी, वह की है। यदि बीडीपीओ संतुष्ट नहीं हैं, तो वे जांच करा सकते हैं।

ग्रांट को लेकर शुरू हुआ झगड़ा

नरेंद्र कौशल ने कुछ समय पहले गोचरांद की 306 कनाल 16 मरले जमीन की निशानदेही करवाई थी। अधिकतर जमीन पर लोगों के कब्जे मिले। साढ़े पांच एकड़ में दलदल है। उसी दौरान मुख्यमंत्री ने इस्माइलाबाद गोशाला के लिए पांच लाख रुपए देने की घोषणा की। कौशल ने तत्कालीन बीडीपीओ को कहा कि इन पांच लाख से दलदली जमीन पर मिट्टी डलवा कर गोशाला को सौंप दी जाए। चारे का इंतजाम कराया जाए। कौशल ने बताया कि बीडीपीओ राजवीर सिंह ने कुछ लोगों से कहा कि नरेंद्र पांच लाख खुद डकारना चाहता है। इससे उसकी बिना कारण बदनामी हुई। अब बीडीपीओ झूठे आरोप लगा रहे हैं। वहीं राजवीर सिंह का कहना है कि नरेंद्र कौशल मर्जी से पांच लाख रुपए की ग्रांट खर्च कराने पर जोर दे रहा था। उन्होंने नियमानुसार कार्रवाई कर पैसा गोशाला के खाते में डलवा दिया।

बीडीपीओ का आरोप- कौशल ने डाली काम में बाधा, बोले जातिसूचक शब्द

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ismailabad

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×