• Hindi News
  • Haryana
  • Jhajjar
  • स्टाफ के सहयोग से सरकारी स्कूल को बनाया ईको फ्रेंडली
--Advertisement--

स्टाफ के सहयोग से सरकारी स्कूल को बनाया ईको-फ्रेंडली

Jhajjar News - बरहाणा गांव के राजकीय सीनियर सेकंडरी स्कूल की सूरत इस नए सेशन में बदली नजर आ रही है। स्कूल प्रबंधन ने स्टाफ और...

Dainik Bhaskar

Apr 02, 2018, 03:25 AM IST
स्टाफ के सहयोग से सरकारी स्कूल को बनाया ईको-फ्रेंडली
बरहाणा गांव के राजकीय सीनियर सेकंडरी स्कूल की सूरत इस नए सेशन में बदली नजर आ रही है। स्कूल प्रबंधन ने स्टाफ और स्कूल के बच्चों के सहयोग से ही इस स्कूल की कायापलट की है। स्कूल का कैंपस इक्को फ्रेंडली नजर आ रहा है। साथ ही लैब भी दुरुस्त कर दी गई है। अब स्कूल का लक्ष्य अधिक से अधिक बच्चों को स्कूल में प्रवेश दिलाकर निजी स्कूलों को मात देना है।

स्कूल के प्रिंसिपल रोहताश दहिया ने बताया कि स्कूल की दशा सुधारने से पहले स्टाफ की बैठक की गई। स्टाफ को जागरूक किया कि जिस जगह हम सेवा दे रहे हैं सबसे पहले वही जगह मन को स्फूर्ति देने वाली और सकारात्मक भाव पैदा करने वाली होना चाहिए। इसके साथ फिर पंचायत के सहयोग और स्टाफ के व्यक्तिगत सहयोग से स्कूल के परिसर को हरा-भरा किया गया। इसके बाद स्कूल की सभी लैब को शिक्षा विभाग की मदद से सुधारा गया। अब स्कूल में बदलाव नजर आता है। स्कूल के शिक्षक और प्राथमिक स्कूल संघ प्रदेश के वरिष्ठ उपाध्यक्ष सोनू शर्मा ने कहा कि अगर इसी तरह का जज्बा अन्य स्कूल के हेड दिखाएं तो गांवों के लोग निजी स्कूलों के भ्रम जाल में फंसने की बजाए अपने बच्चों का दाखिला अपने ही गांव के सरकारी स्कूल में ही कराएंगे।

स्वच्छता पर विशेष फोकस

समस्त स्टाफ के सहयोग से विद्यालय का शैक्षणिक रूप से बहुमुखी विकास हुआ है। विद्यालय में बायोमीट्रिक, साइंस लैब, डीटीएच, पीने का पानी, सभी वर्गों के लिए अलग-अलग शौचालयों की व्यवस्था बेहतर है। स्वच्छता पर विशेष फोकस किया गया है। छात्र अभिप्रेरणा और शिक्षक अभिप्रेरणा के बोर्ड बनवाए गए हैं।

सरकारी स्कूल प्रबंधन का लक्ष्य अधिक से अधिक बच्चों को दाखिला दिलाना, प्रिंसिपल ने बैठक कर स्टाफ को किया जागरूक

100 नए दाखिले करने

का रखा लक्ष्य

अभी नए सत्र में कक्षा एक से 12वीं कक्षा तक 100 नए दाखिले करने का लक्ष्य निर्धारित किया है। इसके लिए प्रधानाचार्य के नेतृत्व में समस्त स्टाफ की ओर से विशेष नामांकन अभियान चलाया जा रहा है। फ्लैक्स बनवाए और पोस्टर छपवाए गए हैं। दाखिलों के लिए गांव में प्रभात फेरी निकाली जा रही है। इसके लिए विद्यालय प्रबंधन समितियों और ग्राम पंचायत का सहयोग लिया जा रहा है।

गांव की पंचायतें कर रही मदद

गांव की दोनों पंचायतों के प्रधानों ने भी अपने स्तर पर अभिभावकों से संपर्क कर बच्चों का सरकारी स्कूल में नामांकन कराने के लिए आश्वासन दिया है। शिक्षा विभाग ने प्रवेशोत्सव के साथ ही नामांकन बढ़ाओ अभियान चलाने का फैसला लिया है। इस दौरान शिक्षा विभाग के सभी प्राचार्य एवं हेडमास्टर अपने-अपने स्कूलों में गांव के सरपंचों, पंचों, ब्लॉक समिति सदस्यों को आमंत्रित करेंगे।

बरहाणा के राजकीय सीनियर सेकंडरी स्कूल में छाई हरियाली।

गांव में डोर टू डोर

चलेगा अभियान

विभाग पंच और सरपंचों को साथ लेकर गांव में डोर टू डोर अभियान चलाएंगे। वे घर-घर जाकर अभिभावकों से अपने बच्चे का सरकारी स्कूलों में दाखिला कराने का आग्रह करेंगे। वे सरकार व शिक्षा विभाग की नीतियों जैसे मुफ्त शिक्षा-वर्दी-पुस्तकें, अनुभवी अध्यापक, प्रोत्साहन राशि, मध्यान्ह भोजन योजना, 24 घंटे बिजली, खुला व हवादार वातावरण, स्मार्ट क्लास, डीटीएच सुविधा से भी अभिभावकों को अवगत कराएंगे।

X
स्टाफ के सहयोग से सरकारी स्कूल को बनाया ईको-फ्रेंडली
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..