• Hindi News
  • Haryana
  • Jhajjar
  • Jhajjar News haryana news every day despite the toll collection from 15 thousand vehicles the lights do not burn on the highway accidents
--Advertisement--

रोज 15 हजार वाहनों से टोल वसूली के बाद भी हाईवे पर नहीं जलतीं लाइटें, बढ़े हादसे

Jhajjar News - यदि आप रोहतक-झज्जर-रेवाड़ी नेशनल हाईवे पर यात्रा कर रहे हैं तो संभलकर करें। इन दिनों कोहरा पड़ रहा है। ऐसे में हादसा...

Dainik Bhaskar

Jan 14, 2019, 04:22 AM IST
Jhajjar News - haryana news every day despite the toll collection from 15 thousand vehicles the lights do not burn on the highway accidents
यदि आप रोहतक-झज्जर-रेवाड़ी नेशनल हाईवे पर यात्रा कर रहे हैं तो संभलकर करें। इन दिनों कोहरा पड़ रहा है। ऐसे में हादसा होने के मद्देनजर डीसी सोनल गोयल लोगों के लिए एडवाइजरी जारी कर रही हैं कि हाईवे पर संभलकर और सुरक्षित होकर चलें। इसके विपरीत स्थिति यह है कि हाईवे के डीघल टोल से प्रतिदिन 15 हजार वाहनों से टोल शुल्क लिया जा रहा है। इसके बदले जो सुविधाएं टोल एजेंसी को वाहन चालकों को उपलब्ध करनी चाहिए, वे नहीं मिल रही। हाईवे पर रात को कोहरे में लाइटें जलती नहीं हैं। टोल पर सुविधाएं करने की जिम्मेदारी नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया की रहती है, लेकिन एनएचएआई और टोल सेवा उपलब्ध करने वाले एजेंसियों की कथित मिलीभगत के चलते इस तरफ ध्यान नहीं है। रोहतक-रेवाड़ी हाईवे पर बढ़ते हादसों को देखते लोग अब इसे खूनी हाईवे की संज्ञा देने लगे हैं। पिछले महीने झज्जर में सड़क हादसे में आठ लोगों की मौत हो गई थी। इसके बाद भी एनएचएआई के अफसरों की नींद नहीं टूटी है। अफसरों का एजेंसियों के साथ ऐसा तालमेल बना है कि टोल रोड पर इन्हें खामियां नजर नहीं आती है। हाईवे सुरक्षित सफर की कसौटी पर खरा नहीं उतर रहा है। प्रतिदिन ऐसे हादसे होते हैं, जिसमें केज्युअल्टी नहीं होने पर यह मामले प्रकाश में नहीं आते हैं। जान बच जाने पर राहगीर भगवान का शुक्र गुजार कर अपने क्षतिग्रस्त वाहन को ले जाते हैं।

हादसों के बाद भी अधिकारी नहीं दे रहे ध्यान : रोहतक-रेवाड़ी हाईवे पर बढ़ते हादसों को देख लोग कहने लगे खूनी हाईवे

हाईमास्क लाइटें होने पर भी डीघल टोल पर रहता है अंधेरा

झज्जर बाईपास पर पांच फ्लाईओवर है। सभी पर रोड लाइट के पोल है। गुरुग्राम और मानेसर की ओर से आने वाले क्रूजर ड्राइवरों का कहना है कि रात में लाइटें जलती नहीं है। इस करण डीघल टोल पर अंधेरा रहता है, जबकि टोल पर हाईमास्क लाइटें हैं। आबादी क्षेत्र में भी सर्विस लेन के साथ-साथ प्रकाश के लिए पोल लगे हैं। इसके बावजूद रोहतक झज्जर के बीच लकड़ियां और चमनपुरा में लाइट नहीं जलती है। लोगों का कहना है कि इस मार्ग पर कभी कभार लाइट चालू की भी जाती है तब आधे से अधिक जलती नहीं है। इन दोनों क्षेत्रों में ग्रिल है, लेकिन क्षतिग्रस्त है। इन्हें ठीक नहीं किया जा रहा है। पेंट भी नहीं किया।

डीसी की फटकार के बाद लगाए रिफ्लेक्टर

डीसी सोनल गोयल की ओर से समय-समय पर अफसरों को सड़क सुरक्षा के प्रति आग्रह किया जाता रहा है। झज्जर बाईपास पर सड़क हादसे के बाद नेशनल हाईवे पर खामियां प्रकाश मेें आई। अब डीसी की फटकार के बाद नेशनल हाईवे के फ्लाईओवर की साइड रेलिंग पर रिफ्लेक्टर लगाए गए हैं। पिछले दो साल से यह कहीं-कहीं लगाए गए, जो लगे थे खराब हो गए थे। गुढा सहित दूसरे फ्लाईओवर पर रिफ्लेक्टर की महत्ता साफ दिखने लगी है, जबकि इससे पहले कई बार पुल के ऊपर से ट्रक नीचे गिर चुके हैं।


हाईवे पर खराब पड़ी पोल पर लगी लाइट।


डीघल टोल पर शौचालयों पर लटके हैं ताले

टोल रोड पर आमतौर पर शौचालय, हादसे में घायलों के लिए एम्बुलेंस, वाहन को उठाने के लिए क्रेन, हाइड्रा के अलावा सड़क मार्ग पर पथ प्रकाश की व्यवस्था करनी होती है। इसके अलावा सुरक्षित सफर की दिशा में आवश्यक दिशा चिह्न और रिफ्लेक्टर लगाने होते हैं, लेकिन एनएच पर हालात यह है कि अलग-अलग जगह बने शौचालयों पर ताला लगा रहता है। डीघल टोल पर जिन शौचालयों का चार माह पहले उद्घाटन हो चुका है, इनका काम अधूरा पड़ा है।

X
Jhajjar News - haryana news every day despite the toll collection from 15 thousand vehicles the lights do not burn on the highway accidents
Astrology

Recommended

Click to listen..