दो माह से बंद एमआई का विकास कार्य आज से होगा शुरू

Jhajjar News - आधुनिक औद्योगिक क्षेत्र (एमआइई) के पार्ट ए व बी में दो माह से ठप पड़ा 32.60 करोड़ का काम शुक्रवार को शुरु होगा क्यों कि...

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 07:30 AM IST
Bahadurgarh News - haryana news mi to start off development work from today
आधुनिक औद्योगिक क्षेत्र (एमआइई) के पार्ट ए व बी में दो माह से ठप पड़ा 32.60 करोड़ का काम शुक्रवार को शुरु होगा क्यों कि इसकी निर्माण कंपनी को सरकार से ढाई करोड़ की पैमेंट दे दी है व श्रमिकों को भी पेमेंट मिलने के साथ से वे फिर से काम पर लौट आए हैं। दो माह से एमआई की खोदी जा चुकी गलियों में फैक्ट्री चला रहे फैक्ट्री संचालकों ने गुरुवार को जैसे ही निर्माण कंपनी के श्रमिकों को काम पर आए देखा तो उन्होंने राहत की सास ली। इस मौके पर उद्यौगपतियों ने एक सुर में आग्रह किया है कि सड़कों को बनाने से पहले बरसाती नालों को बनाने का काम दिन रात चलाया जाए जिससे बरसात के शुरु होने से पहले कम से कम खोदा गई गलियों में जमा होने वाले बरसाती पानी की निकासी की कोई तो व्यवस्था हो सके। कंपनी के संचालक आशीष सक्सेना ने कहा कि पेमेंट नहीं मिलनेके कारण कंपनी के मजदूर काम छोड़कर चले गए थे। उन्हें वापस बुलाने के लिए पेमेंट की जरूरत थी। भले ही सरकार ने छह करोड़ रुपए के किए गए कामों में से केवल ढाई करोड़ की पेमेंट दी है पर फिर से काम शुरु करने के लिए काफी है। सभी मजदूरों व कंपनी के कर्मचारियों को वापस बुलाा लिया गया है। उनका हिसाब करने के साथ ही सभी ने मिलकर गुरुवार को व्यवस्था फिर से अपने हाथों में ले ली है। शुक्रवार को विधिवत रूप से काम शुरु होगा। प्रयास है कि सबसे पहले पानी निकासी की व्यवस्था को गंभीरता से लिया जाएगा जिससे बरसात के दिनों में फैक्ट्री क्षेत्र को कोई नुकसान नहीं हो। सीवर व पेयजल की लाइनों को भी प्रथमिक्ता से हिसाब से ठीक किया जा रहा है। औद्योगिक क्षेत्र में अब सड़कों का काम बीसीसीआइ के पदाधिकारियों के कहे व जरूरत के अनुसार किया जाएगा ताकि उद्योगपतियों को इस बार बरसात में कम से कम परेशानी का सामना करना पड़े। भास्कर ने बहादुरगढ़ के इन सैकड़ों फैक्ट्री संचालकों की इस परेशानी को बराबर उठाया था। बार बार फैक्ट्री संचालकों की परेशानी व रुपया पास नहीं होने के कारण फैक्ट्रियों के व्यापार में 40 फीसदी की कमी को भी सरकार तक पहुंचाया था। इस तरह से प्रयास के बाद अब एक बार फिर से फैक्ट्री क्षेत्र में रुके हुए काम में तेजी आने की संभावना बनी है।

2200 उद्याेगपतियाें को मिली राहत, सबसे पहले बरसाती नाला हाेगा तैयार

भास्कर न्यूज | बहादुरगढ़

आधुनिक औद्योगिक क्षेत्र (एमआइई) के पार्ट ए व बी में दो माह से ठप पड़ा 32.60 करोड़ का काम शुक्रवार को शुरु होगा क्यों कि इसकी निर्माण कंपनी को सरकार से ढाई करोड़ की पैमेंट दे दी है व श्रमिकों को भी पेमेंट मिलने के साथ से वे फिर से काम पर लौट आए हैं। दो माह से एमआई की खोदी जा चुकी गलियों में फैक्ट्री चला रहे फैक्ट्री संचालकों ने गुरुवार को जैसे ही निर्माण कंपनी के श्रमिकों को काम पर आए देखा तो उन्होंने राहत की सास ली। इस मौके पर उद्यौगपतियों ने एक सुर में आग्रह किया है कि सड़कों को बनाने से पहले बरसाती नालों को बनाने का काम दिन रात चलाया जाए जिससे बरसात के शुरु होने से पहले कम से कम खोदा गई गलियों में जमा होने वाले बरसाती पानी की निकासी की कोई तो व्यवस्था हो सके। कंपनी के संचालक आशीष सक्सेना ने कहा कि पेमेंट नहीं मिलनेके कारण कंपनी के मजदूर काम छोड़कर चले गए थे। उन्हें वापस बुलाने के लिए पेमेंट की जरूरत थी। भले ही सरकार ने छह करोड़ रुपए के किए गए कामों में से केवल ढाई करोड़ की पेमेंट दी है पर फिर से काम शुरु करने के लिए काफी है। सभी मजदूरों व कंपनी के कर्मचारियों को वापस बुलाा लिया गया है। उनका हिसाब करने के साथ ही सभी ने मिलकर गुरुवार को व्यवस्था फिर से अपने हाथों में ले ली है। शुक्रवार को विधिवत रूप से काम शुरु होगा। प्रयास है कि सबसे पहले पानी निकासी की व्यवस्था को गंभीरता से लिया जाएगा जिससे बरसात के दिनों में फैक्ट्री क्षेत्र को कोई नुकसान नहीं हो। सीवर व पेयजल की लाइनों को भी प्रथमिक्ता से हिसाब से ठीक किया जा रहा है। औद्योगिक क्षेत्र में अब सड़कों का काम बीसीसीआइ के पदाधिकारियों के कहे व जरूरत के अनुसार किया जाएगा ताकि उद्योगपतियों को इस बार बरसात में कम से कम परेशानी का सामना करना पड़े। भास्कर ने बहादुरगढ़ के इन सैकड़ों फैक्ट्री संचालकों की इस परेशानी को बराबर उठाया था। बार बार फैक्ट्री संचालकों की परेशानी व रुपया पास नहीं होने के कारण फैक्ट्रियों के व्यापार में 40 फीसदी की कमी को भी सरकार तक पहुंचाया था। इस तरह से प्रयास के बाद अब एक बार फिर से फैक्ट्री क्षेत्र में रुके हुए काम में तेजी आने की संभावना बनी है।

10 किलाेमीटर तक बनेंगी नई सड़कें : गौरतलब है कि जून 2018 में हरियाणा राज्य औद्योगिक आधारभूत विकास संरचना निगम (एचएसआइआइडीसी) ने एमआइई के विकास कार्यो का टेंडर छोड़ा था। इस टेंडर के अनुसार 32.60 करोड़ रुपए में एमआइई पार्ट ए व बी में सीसी की सड़कें, ड्रेनेज सिस्टम भी विकसित करने का प्रावधान है। इस टेंडर में ही पूरे क्षेत्र में रि-सर्कुलेशन की पाइप लाइन भी डालने का प्रावधान है, जिसमें सीइटीपी से साफ हुए पानी को दोबारा से फैक्टरियों में सप्लाई किया जा सकेगा। इस राशि में करीब 10 किलोमीटर लंबी नई सड़कें बनाई जानी हैं, जिससे उद्योगपतियों को काफी राहत मिलेगी। 2018 के अंत में यह काम भी शुरू हो गया था, लेकिन अप्रैल माह में निर्माण कंपनी के बिल का भुगतान न होने की वजह से कंपनी के श्रमिक काम छोड़ कर चले गए थे। इस कारण दो माह से काम रूका पड़ा था। काम बंद करने के पीछे ठेकेदार आशीष सक्सेना का तर्क है कि 32.60 करोड़ में से करीब 6 करोड़ का काम किया जा चुका है। गत 4 फरवरी को करीब एक करोड़ की राशि का पहला बिल उसकी ओर से निगम के कार्यालय में जमा कराया था। बिल भुगतान की लंबी प्रक्रिया होने की वजह से उसने काम बंद किया था। अब करीब ढाई करोड़ की पेमेंट हो गई है। इसी कारण औद्योगिक क्षेत्र में दिन रात काम चलेगा।


कंपनी काे समय के हिसाब से दी जा रही पेमेंट, जल्द सभी काम पूरे होंगे


X
Bahadurgarh News - haryana news mi to start off development work from today
COMMENT