रिहायशी इलाका बढ़ने पर नए घरों का सर्वे शुरू, चार टीम कर रही काम, अब तक 5 हजार घरों में दस्तक

Jhajjar News - नगर पालिका क्षेत्र का दायरा बढ़ने पर अब स्थानीय निकाय विभाग ने नए घरों का सर्वे हाउस टैक्स वसूलने के लिए शुरू कर...

Bhaskar News Network

Apr 17, 2019, 07:50 AM IST
Jhajjar News - haryana news surveys started new homes as well as working in four teams knocking in 5 thousand houses till now
नगर पालिका क्षेत्र का दायरा बढ़ने पर अब स्थानीय निकाय विभाग ने नए घरों का सर्वे हाउस टैक्स वसूलने के लिए शुरू कर दिया है। बीते एक पखवाड़े की रिपोर्ट में 5 हजार घरों का सर्वे हो चुका है। नगर पालिका को उम्मीद है कि सर्वे के बाद कम से कम 5 हजार से ज्यादा और घर सामने आएंगे। जिसके बाद पालिका का हाउस टैक्स के रूप में काफी आमदनी होगी। इससे पहले साल 2010-11 में झज्जर में हाउस टैक्स का सर्वे हुआ था। तब 19700 घर दर्ज किए गए थे। अब स्थानीय निकाय विभाग ने प्रदेश स्तर पर फिर से हाउस सर्वे शुरू कराया है, जिसके तहत झज्जर में भी 15 दिन पहले से यह कवायद शुरू की गई है। इसके लिए नगर पालिका की देखरेख में युवाओं की चार टीम काम कर रही हैं। उन्होंने अभी तक 5000 घरों में सर्वे किया है। नगर पालिका लेखाकार राजपाल का कहना है कि हाउस सर्वे खत्म होने के बाद निश्चित तौर पर नगर पालिका की आए बढ़ जाएगी। इस साल हाउस टैक्स का डेढ़ कराेड़ रुपए वसूलने का टारगेट रखा गया था इसकी बजाए 70 लाख रुपए हाउस टैक्स के रूप में नगर पालिका में आए हैं। राजपाल ने कहा कि जब नए घरों का सर्वे खत्म हो जाएगा ताे अब कम से कम 30 लाख रुपए की अतिरिक्त सालाना आय नगर पालिका की होगी।

सर्वे के दौरान मिलीं शिकायतें

शिकायतों में मुख्य तौर पर सर्वे टीम पर आरोप है कि वह मकान की रजिस्ट्री के हिसाब से सर्वे नहीं कर रहे है। मसलन जिसका मकान 100 गज का है तो सर्वे के फार्म में 70 से 80 का लिखा जा रहा है इसी प्रकार एक अन्य शिकायत सामने आई है कि अगर किसी का पुश्तैनी मकान तो इसका मालिकाना हक परिवार से ही जुड़े शख्स के नाम नहीं लिखा जा रहा है। इस बारे में पालिका की ओर से जवाब आया है कि पिछला जब सर्वे हुआ था तब ऐसी ही समस्याएं सामने आई थी उदाहरण के लिए अगर किसी का पुश्तैनी मकान है और मालिकाना हक रखने वाला शख्स इस दुनिया में नहीं है तब उसके परिवार के किसी अन्य व्यक्ति ने अपना नाम सर्वे फार्म में मालिकाना हक के रूप में लिखवा दिया। इस मामले में विवाद तक हुआ जब परिवार के ही कुछ अन्य लोगों ने भी अपने आप को मकान का मालिक बता दिया। पालिका के लेखकार राजपाल ने कहा इसी गफलत को देखते हुए सर्वे के दौरान ऐसी प्रॉपर्टी को अभी ब्लैंक रख दिया गया है। इसका निपटारा बाद में किया जाएगा।

बहादुरगढ़ राेड पर नए मकान बनने पर हाउस टैक्स का सर्वे हाेगा।

शहर के इन इलाकों में बढ़ गए मकान

बीते 7 सालों में शहर के आधा दर्जन इलाकों में आबादी के रूप में मकानों की संख्या बढ़ गई है। इनमें गुड़गांव रोड बाईपास, रेलवे स्टेशन क्रॉसिंग, तालाब रोड, शहर का छोटा बाईपास, नया बस स्टैंड रोड, बहादुरगढ़ रोड, सुरखपुर रोड, कोसली रोड पर मकानों की संख्या पहले के मुकाबले अब ज्यादा है।

सर्वे करने वाली कंपनी ही वसूलेगी हाउस टैक्स

स्थानीय निकाय विभाग पंचकूला ने प्रदेश भर के आबादी और कमर्शियल क्षेत्र में सर्वे करने की जिम्मेदारी जयपुर की एक कंपनी को दी है। कंपनी को 4 साल तक के लिए जिम्मा दिया गया है।

नगर पालिका इस तरीके से लेती है हाउस टैक्स

नगर पालिका दायरे में आने वाले रिहायशी मकानों से अलग अलग क्षेत्रफल के हिसाब से हाउस टैक्स वसूला जाता है। मसलन अगर किसी का 50 गज का मकान है तो उससे 40 पैसे प्रति गज के हिसाब से हाउस टैक्स लिया जाता है वही कमर्शियल क्षेत्र के 50 गज क्षेत्रफल का हाउस टैक्स 9 रुपए 60 पैसे है। इसी प्रकार 50 से 100 गज वाले हाउस होल्डर से 14 रुपए 40 पैसे। 300 से 500 तक के मकान से 19 रुपए 20 पैसे और 500 से ज्यादा मकान पर प्रति गज 24 रुपए टैक्स लिया जाता है।


X
Jhajjar News - haryana news surveys started new homes as well as working in four teams knocking in 5 thousand houses till now
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना