• Home
  • Haryana News
  • Jind
  • अमृत योजना के तहत शहर में तैयार होगा स्टॉर्म वाटर ड्रेनेज सिस्टम विभाग 20 इंची 2 पाइप लाइन बिछाकर गंदे पानी को डालेगा ड्रेन में
--Advertisement--

अमृत योजना के तहत शहर में तैयार होगा स्टॉर्म वाटर ड्रेनेज सिस्टम विभाग 20 इंची 2 पाइप लाइन बिछाकर गंदे पानी को डालेगा ड्रेन में

शहर की सबसे बड़ी सीवरेज समस्या के समाधान के लिए जनस्वास्थ्य विभाग व नगर परिषद ने ठोस कदम उठाए हैं। शहर से गंदे व...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 02:20 AM IST
शहर की सबसे बड़ी सीवरेज समस्या के समाधान के लिए जनस्वास्थ्य विभाग व नगर परिषद ने ठोस कदम उठाए हैं। शहर से गंदे व बारिश के पानी की निकासी के लिए अमृत (अटल मिशन फॉर रिजुवनेशन एंड अर्बन ट्रांसफार्मेशन) योजना के तहत स्टॉर्म वाटर ड्रेनेज सिस्टम तैयार करवाएगा।

काफी समय पहले शहर को स्टॉर्म योजना में शामिल किया गया था, लेकिन इसके बाद इस प्रोजेक्ट पर कोई कार्रवाई नहीं हो पाई थी। अब नगरपरिषद इसी योजना के तहत शहर में स्टॉर्म वाटर ड्रेनेज सिस्टम तैयार करवाएगी। वहीं जनस्वास्थ्य विभाग शहर से गंदे पानी की निकासी के लिए दो 20 इंची चौड़ी और कुल 27 किलोमीटर लंबी पाइप लाइन दबवाएगा। इसके बाद गंदे पानी की कालवा-किनाना ड्रेन में निकासी की जाएगी। गंदे पानी की निकासी की इस योजना को सिरे चढ़ाने के लिए नगर परिषद व जनस्वास्थ्य विभाग ने कार्रवाई शुरू कर दी है। उम्मीद है कि एक साल बाद शहर की सबसे बड़ी सीवरेज समस्या का समाधान हो जाएगा।

12 किलोमीटर लंबी एक सीवरेज पाइप लाइन के बिछाने का काम शुरू, नगर परिषद इसी महीने छोड़ेगी टेंडर

हालात : 47 साल पुरानी

सीवरेज हुई खस्ताहाल जगह-जगह ओवरफ्लो

शहर में वर्ष 1971 में सीवरेज पाइप लाइन दबाई गई थी। जो अब पूरी तरह से खस्ताहाल हो गई है। जिस समय सीवरेज पाइप लाइन दबाई गई उस समय शहर की आबादी मात्र 50 हजार के आसपास ही थी। इसी सीवरेज से आज भी पुराने शहर से गंदे व बरसाती पानी की निकासी हो रही है। जगह-जगह सीवरेज ओवरफ्लो हो रहा है और जब बरसात होती है तो पुरानी खस्ताहाल पाइप लाइन से निकासी हो ही नहीं पाती। बारिश के बाद कई-कई घंटों तक पानी सड़कों व गलियों में भरा रहता है। बारिश के पानी के डिस्पोजल के लिए भी कोई पुख्ता जगह ड्रेन आदि नहीं है।

जींद. गंदे पानी की निकासी को हांसी रोड के पास दबाई जा रही पाइप लाइन।

नगर परिषद की योजना : 19.07 करोड़ से होगा स्टॉर्म वाटर ड्रेनेज सिस्टम

सीवरेज समस्या के समाधान के लिए नगर परिषद अमृत योजना के तहत 19.07 करोड़ रुपए की लागत से स्टॉर्म वाटर ड्रेनेज सिस्टम का का निर्माण करवाएगा। इसके लिए नगर परिषद ने टेंडर जारी कर दिया है और 17 अप्रैल तक टेंडर भरे जाएंगे। टेंडर छूटने के बाद संबंधित निर्माण एजेंसी को एक साल में यह प्रोजेक्ट तैयार करके देना होगा। प्रोजेक्ट के अनुसार स्टॉर्म वाटर ड्रेनेज सिस्टम में सीवरेज से अलग काॅलोनियों में व सड़कों के साथ-साथ अंडर ग्राउंड नाले का निर्माण किया जाता है। इसका लेवल इस तरह से तैयार किया जाता है। जिसमें तेजी से बारिश के पानी की निकासी हो सके। इस सिस्टम से कहीं पर नाले ओवरफ्लो नहीं होते।

जनस्वास्थ्य विभाग की योजना

दो पाइप लाइन से कालवा-किनाना ड्रेन में डाला जाएगा पानी

समस्या के समाधान के लिए जनस्वास्थ्य विभाग 20 इंची चौड़ी 27 किलोमीटर लंबी दो पाइप लाइन दबाकर कालवा-किनाना ड्रेन में निकासी करेगा। इसमें एक 12 किलोमीटर लंबी पाइप लाइन हांसी रोड के पास स्थित 15 एमएलडी एसटीपी से लेकर किनाना से आगे कालवा-किनाना ड्रेन तक बिछाई जाएगी। इस पर 1.08 करोड़ रुपए खर्च होंगे। इसका टेंडर हो चुका है और संबंधित ठेकेदार ने इस पर काम भी शुरू कर दिया है। दूसरी पाइप लाइन अहिरका के पास स्थित एसडीटी से बड़े बाईपास के साथ और फिर गोहाना रोड होते हुए सिंधवीखेड़ा के पास कालवा-किनाना ड्रेन तक बिछेगी।

मांगे गए हैं टेंडर


पाइप लाइन दबाने का काम शुरू