--Advertisement--

‘सरकार दे 18 हजार न्यूनतम वेतन’

आंगनबाड़ी वर्कर्स एवं हेल्पर्स यूनियन ने मांगों को लेकर सोमवार को लघु सचिवालय के सामने अनिश्चितकालीन धरना शुरू...

Danik Bhaskar | Feb 13, 2018, 03:25 AM IST
आंगनबाड़ी वर्कर्स एवं हेल्पर्स यूनियन ने मांगों को लेकर सोमवार को लघु सचिवालय के सामने अनिश्चितकालीन धरना शुरू किया। इस दौरान आंगनबाड़ी वर्करों ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर रोष जताया। आंगनबाड़ी वर्करों ने कहा कि 16 फरवरी को शहर में प्रदर्शन कर डीसी कार्यालय का घेराव किया जाएगा। इस दौरान तहसीलदार प्रवीण कुमार मौके पर पहुंचे, जहां वर्करों ने सीएम के नाम ज्ञापन सौंपा।

राज्य महासचिव शकुंतला ने बताया कि राज्य सरकार के खिलाफ आर-पार की लड़ाई के लिए 6 मार्च को आंगनबाड़ी वर्कर्स एवं हेल्पर्स का रोहतक में महासम्मेलन किया जाएगा। इसमें बड़े आंदोलन का ऐलान होगा। सीटू जिला सचिव का. रमेशचंद्र व जिला प्रधान सतबीर खरल ने कहा कि 40-40 साल काम करने के बावजूद आंगनबाड़ी वर्कर व हेल्पर को वेतन नहीं मिलता। इन वर्कर्स को केंद्र व राज्य सरकार मिलाकर भी 8140 दे रही है वह भी छह-छह माह से अटका हुआ है। बार-बार मांग करने के बावजूद आंगनबाड़ी कर्मियों को सरकारी कर्मचारी घोषित नहीं किया जा रहा है। उन्होंने मांग की है कि आंगनबाड़ी वर्कर व हेल्पर को कर्मचारी का दर्जा दिया जाए। जब तक कर्मचारी का दर्जा नहीं दिया जाता तब तक 18 हजार रुपए न्यूनतम वेतन दिया जाए। इस मौके पर दयावंती, सविता ईक्कस, रोशनी, ताशो, सुदेश, रीना, सुमन दर्शना, शकुंतला, रेनू, संतोष मौजूद रही।