विज्ञापन

12 साल के बाद हैफेड करेगी उचाना में सरसों की खरीद

Dainik Bhaskar

Mar 17, 2019, 04:51 AM IST

Jind News - सरकार द्वारा इस बार उचाना मंडी में सरसों की सरकारी खरीद शुरू करने का फैसला लिया। जींद के बाद उचाना मंडी में सरसों...

Uchana News - haryana news after 12 years hafed will procure mustard in uchana
  • comment
सरकार द्वारा इस बार उचाना मंडी में सरसों की सरकारी खरीद शुरू करने का फैसला लिया। जींद के बाद उचाना मंडी में सरसों की सरकारी खरीद होगी। सरसों की खरीद हैफेड द्वारा की जाएगी। अब से 12 साल पहले हैफेड ने सरसों की खरीद की थी।

2006 में हैफेड द्वारा मंडी में आने वाली सरसों को खरीदा था। इस बार भी सरसों की खरीद एजेंसी के लिए हैफेड को चुना है। सरकार द्वारा सरसों का सरकारी भाव 4200 रुपए प्रति क्विंटल निर्धारित किया हुआ है।

ई-पोर्टल पर दर्ज होने वाली फसल की होगी सरकारी खरीद : जिन किसानों द्वारा अपनी फसल को ऑनलाइन दर्ज करवाया है उन किसानों की सरसों की फसल की ही सरकारी खरीद होगी।

हैफेड को मार्केटिंग बोर्ड विभाग द्वारा सूची दी जाएगी जिन किसानों की सरसों की फसल ई-पोर्टल पर दर्ज हुई है। ऐसे में जिन किसानों ने ऑनलाइन फसल दर्ज नहीं करवाई है उन किसानों की फसल को सरकारी खरीद पर नहीं खरीदा जाएगा।

खरीद के लिए जींद, उचाना मंडी अलॉट


किस प्रकार होगी खरीद हैफेड के पास अभी किसी तरह के निर्देश आए नहीं

किस प्रकार होगी खरीद हैफेड के पास अभी किसी तरह के निर्देश आए नहीं

हैफेड सरसों की खरीद को आढ़ती के माध्यम से खरीदेंगी या सीधे सरसों की फसल की खरीद करेंगी, इसको लेकर अभी संशय बना हुआ है। आढ़तियों द्वारा सरसों की खरीद आढ़तियों के माध्यम से गेहूं की खरीद की तरह किए जाने की मांग सरकार से की थी। अभी तक हैफेड के पास किसी तरह के निर्देश नहीं आए है कि खरीद की प्रक्रिया क्या होगी।

हैफेड सरसों की खरीद को आढ़ती के माध्यम से खरीदेंगी या सीधे सरसों की फसल की खरीद करेंगी, इसको लेकर अभी संशय बना हुआ है। आढ़तियों द्वारा सरसों की खरीद आढ़तियों के माध्यम से गेहूं की खरीद की तरह किए जाने की मांग सरकार से की थी। अभी तक हैफेड के पास किसी तरह के निर्देश नहीं आए है कि खरीद की प्रक्रिया क्या होगी।

खरीद नहीं होती तो होती परेशानी

किसान सुरेंद्र, बलजीत, महेंद्र, वीरेंद्र ने कहा कि अगर सरसों की सरकारी खरीद उचाना नहीं आती तो किसानों को परेशानी होती। यहां से किसानों को अपनी फसल जींद लेकर जानी पड़ती। किसानों द्वारा सरसों की खरीद के लिए उचाना मंडी में सरकारी खरीद शुरू किए जाने की मांग की थी। इस मांग को सरकार ने पूरा करते हुए उचाना मंडी भी सरसों की खरीद के लिए जींद के साथ अलॉट की है।

दो साल हुई थी सरकारी खरीद : सरसों की मंडी में सरकारी खरीद 2005, 2006 में हुई थी। हैफेड के दर्ज रिकॉर्ड के अनुसार 2005 में 85 हजार क्विंटल, 2006 में 45 हजार क्विंटल की सरकारी खरीद हुई थी।

उचाना . मंडी में हैफेड कार्यालय जो इस बार करेगा सरसों की खरीद।

X
Uchana News - haryana news after 12 years hafed will procure mustard in uchana
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन