किसानों को होनी चाहिए मित्र और दुश्मन कीटों की पहचान : डॉ. बूरा

Jind News - उचाना | हमेटी (जींद) की तरफ से डूमरखां खुर्द एवं पीएनबी किसान प्रशिक्षण केंद्र सच्चा खेड़ा में भ्रमण करवाया गया।...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 07:55 AM IST
Jind News - haryana news farmers should be friends and friends of enemy pests dr burra
उचाना | हमेटी (जींद) की तरफ से डूमरखां खुर्द एवं पीएनबी किसान प्रशिक्षण केंद्र सच्चा खेड़ा में भ्रमण करवाया गया। डूमरखां खुर्द गांव में डॉ. वीरेद्र बूरा ने हमेटी में न्यू स्टेट प्लॉन स्कीम के तहत 21 दिनों के रिफ्रेशर ट्रेनिंग कोर्स पर आए प्रशिक्षणार्थियों को कपास के फील्ड में ले जाकर मौके पर मित्र कीटों, दुश्मन कीटों की पहचान बताई।

डॉ. बूरा ने कहा कि हमें सबसे पहले दुश्मन कीटों के साथ मित्र कीटों की पहचान करनी है। इसके बाद कपास की फसल में सबसे पहले दो स्प्रे नीम तेल/ अरंडी तेल के करने है इससे पौधों में कड़वापन आता है और दुश्मन कीट पौधे को खा नहीं पाते। जिसे वो भूखे मर जाते हैं और अगर कुछ दुश्मन कीट बच जाते हैं तो हमारे मित्र कीट जैसे लेडी बडबीटल, क्राइसोपरला, तैतैया, चैकबीटल आदि उनको खाकर अपना गुजारा करते हैं।

डॉ. बलजीत लाठर ने मास्टर ट्रेनर हमेटी ने सभी सहायक प्राैद्योगिकी प्रबंधकों का पीएनबी किसान प्रशिक्षण केंद्र सच्चा खेड़ा का भ्रमण करवाया। इस मौके पर ऋषि, रमेश, पवन कुमार, संदीप, महेंद्र, सत्यवान मौजूद रहे।

X
Jind News - haryana news farmers should be friends and friends of enemy pests dr burra
COMMENT