• Hindi News
  • Rajya
  • Haryana
  • Jind
  • Jind News haryana news it is necessary to renew the license in 5 years the blood bank of the civil hospital is 22 years old

5 साल में लाइसेंस रिन्यू कराना जरूरी, सिविल अस्पताल के ब्लड बैंक का मिला 22 साल पुराना

Jind News - ब्लड बैंक 22 साल पुराने लाइसेंस के सहारे दौड़ रहा है। जबकि नियमानुसार हर 5 साल बाद लाइसेंस रिन्यू होना अनिवार्य है।...

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 07:55 AM IST
Jind News - haryana news it is necessary to renew the license in 5 years the blood bank of the civil hospital is 22 years old
ब्लड बैंक 22 साल पुराने लाइसेंस के सहारे दौड़ रहा है। जबकि नियमानुसार हर 5 साल बाद लाइसेंस रिन्यू होना अनिवार्य है। विडंबना है कि वर्ल्ड डोनर डे के मौके पर ब्लड बैंक में डोनर रिएक्शन रजिस्टर तक लगा हुआ नहीं मिला। यह खुलासा गुरुवार को निरीक्षण के लिए पहुंची स्टेट एनक्यूएएस टीम के सामने हुआ। सिविल अस्पताल सुविधाओं व क्वाॅलिटी पर कितना खरा है। इसको लेकर स्टेट एनक्यूएएस (नेशनल क्वालिटी एसेसमेंट सर्वे) की टीम ने अस्पताल के ब्लड बैंक अाैर कई अन्य स्थानाें का दाैरा किया। टीम में कुरुक्षेत्र की डाॅ. शिल्पा, डाॅ. गौरव, डाॅ. प्रिया शामिल रहीं। इस दौरान अस्पताल में कई खामियां पाई गईं।

इस दाैरान ब्लड बैंक में डैश बोर्ड पर 1997 में जारी हुआ लाइसेंस लगा हुआ मिला। जब टीम ने नया लाइसेंस मांगा तो कर्मचारी उसे दिखा नहीं पाए। इसी तरह से जब कर्मचारियों से पूछा गया कि डोनर रिएक्शन रजिस्ट्रर क्यों नहीं है ताे कर्मियाें ने जवाब दिया कि उन्हें इसकी कभी जरूरत ही नहीं पड़ती। इसी दौरान एलटी डाॅ. शिल्पा ने एक एलटी से पूछा कि सैंपल लेते समय मरीज को लगाई जाने वाली सूई यदि उन्हें लग गई तो वे क्या करेंगे। इस पर एलटी जवाब नहीं दे पाए। इस पर डाॅ. ने एलटी को सलाह दी कि वे इसके बारे में जानकारी ले क्योंकि ऐसा हो भी सकता है। इस पर एड्स जैसी अन्य गंभीर बीमारियों के होने का खतरा होता है। टीम ने इस पर कर्मचारियों को सलाह दी कि वे इसमें सुधार करें।

डाॅ. ने एलटी से पूछा सैंपल लेते सूई लग गई तो क्या करोगे, नहीं दे पाए जवाब

लाइसेंस मांगने पर बोले, रिन्यू हाे गया है

सर्वे टीम ने ब्लड बैंक के कर्मचारियों से कई बार लाइसेंस मांगा लेकिन कर्मचारियाें ने जवाब दिया कि लाइसेंस रिन्यू हो चुका है। एक कर्मचारी ने तो कहा कि लाइसेंस देने के उनसे 1 हजार रुपए की डिमांड की जा रही है। टीम के कागजात मांगने पर ब्लड बैंक इंचार्ज डाॅ. एके चालिया ने टीम को कागजात दिखाए। इस पर टीम ने डैश बोर्ड व उसकी एक प्रति लगाने की सलाह दी।

भास्कर न्यूज | जींद

ब्लड बैंक 22 साल पुराने लाइसेंस के सहारे दौड़ रहा है। जबकि नियमानुसार हर 5 साल बाद लाइसेंस रिन्यू होना अनिवार्य है। विडंबना है कि वर्ल्ड डोनर डे के मौके पर ब्लड बैंक में डोनर रिएक्शन रजिस्टर तक लगा हुआ नहीं मिला। यह खुलासा गुरुवार को निरीक्षण के लिए पहुंची स्टेट एनक्यूएएस टीम के सामने हुआ। सिविल अस्पताल सुविधाओं व क्वाॅलिटी पर कितना खरा है। इसको लेकर स्टेट एनक्यूएएस (नेशनल क्वालिटी एसेसमेंट सर्वे) की टीम ने अस्पताल के ब्लड बैंक अाैर कई अन्य स्थानाें का दाैरा किया। टीम में कुरुक्षेत्र की डाॅ. शिल्पा, डाॅ. गौरव, डाॅ. प्रिया शामिल रहीं। इस दौरान अस्पताल में कई खामियां पाई गईं।

इस दाैरान ब्लड बैंक में डैश बोर्ड पर 1997 में जारी हुआ लाइसेंस लगा हुआ मिला। जब टीम ने नया लाइसेंस मांगा तो कर्मचारी उसे दिखा नहीं पाए। इसी तरह से जब कर्मचारियों से पूछा गया कि डोनर रिएक्शन रजिस्ट्रर क्यों नहीं है ताे कर्मियाें ने जवाब दिया कि उन्हें इसकी कभी जरूरत ही नहीं पड़ती। इसी दौरान एलटी डाॅ. शिल्पा ने एक एलटी से पूछा कि सैंपल लेते समय मरीज को लगाई जाने वाली सूई यदि उन्हें लग गई तो वे क्या करेंगे। इस पर एलटी जवाब नहीं दे पाए। इस पर डाॅ. ने एलटी को सलाह दी कि वे इसके बारे में जानकारी ले क्योंकि ऐसा हो भी सकता है। इस पर एड्स जैसी अन्य गंभीर बीमारियों के होने का खतरा होता है। टीम ने इस पर कर्मचारियों को सलाह दी कि वे इसमें सुधार करें।

जींद. सिविल अस्पताल में ब्लड बैंक निरीक्षण के दौरान रजिस्टर चेक करते हुए टीम की सदस्य डाॅ. शिल्पा व साथ में हैं डिप्टी एमस डाॅ. राजेश भोला।

एड्स पीड़िताें का मांगा ब्योरा, तुरंत दिखाया रजिस्टर

डाॅ. बोली कैसे रहेगी गोपनीयता

इस दौरान डाॅ. शिल्पा ने कर्मचारियों से पूछा कितने एड्स पीड़ित हैं उनके बारे में बताओ। इस पर तुरंत ही डॉक्टर को एड्स पीड़िताें का रजिस्टर दिखा दिया। इसके बाद डाॅ. ने कहा कि ऐसे किसी काे भी रजिस्टर दिखा दाेगे ताे पीड़िताें की गोपनीयता कैसे रहेगी। उनकी गोपनीयता रखनी जरूरी है।

दो दिन होगा सर्वे, फिर आएगी नेशनल टीम


जो भी कमियां मिलती हैं उनको दूर किया जाएगा


X
Jind News - haryana news it is necessary to renew the license in 5 years the blood bank of the civil hospital is 22 years old
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना