तीन चचेरे भाइयों का एक ही चिता में किया अंतिम संस्कार, शोक जताने उमड़ी ग्रामीणों की भीड़

Jind News - फरमाणा गांव के पास सड़क हादसे में काल का शिकार बने करसोला गांव के एक ही परिवार के तीन चचेरे भाइयों का शनिवार को एक...

Bhaskar News Network

Mar 17, 2019, 04:35 AM IST
Julana News - haryana news three cousins performed the same funeral pyre mournful villagers crowd of villagers
फरमाणा गांव के पास सड़क हादसे में काल का शिकार बने करसोला गांव के एक ही परिवार के तीन चचेरे भाइयों का शनिवार को एक ही चिता में अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरान शोक जताने के लिए ग्रामीणों की काफी भीड़ एकत्र हो गई और परिजनों का ढांढस बंधाया। इस हादसे से घर में शादी की खुशियां मातम में बदल गई हैं। सड़क हादसे में घायल हुए चार युवकों में से तीन युवकों की हालत गंभीर बनी हुई है। घायलों का पीजीआई रोहतक में इलाज चल रहा है।

शुक्रवार को करसोला गांव के मोनू की बारात फरमाणा गांव में गई हुई थी। देर शाम शादी संपन्न होने के बाद देवेंद्र, मनीष, दीपक, धोला, विशाल और दीपक सहित सात युवक बारात से अपने घर आ रहे थे। जब वह फरमाणा गांव से निकले तो उनकी गाड़ी अनियंत्रित होकर पेड़ से जा टकराई। हादसा भीषण था। इस हादसे में देवेंद्र की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि बाकी घायलों को रोहतक पीजीआई में दाखिल करवाया गया। पीजीआई में मनीष व दीपक को डाॅक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। देवेंद के शव को पोस्टमार्टम के लिए जींद के सामान्य अस्पताल में लाया गया। जबकि मनीष तथा दीपक का पीजीआई रोहतक में पोस्टमार्टम करवाकर कर परिजनों को सौंप दिया।

जुलाना. करसोला गांव में तीनों युवकों का अंतिम संस्कार में उमड़ी भीड़। फोटो |भास्कर

करसोला गांव में छाया मातम

अचानक सड़क हादसे में एक ही परिवार के तीन युवकों की मौत से गांव में मातम छा गया। अंतिम संस्कार में पहुंचे सैकड़ों लोगों की आंखें नम थीं। परिवार की महिलाओं का रो रोकर बुरा हाल था।

दीपक और मनीष थे घर के इकलौते चिराग

दीपक और मनीष अपने माता-पिता के इकलौता चिराग थे। दीपक की एक बहन व मनीष के दो बहन हैं। देवेंद्र का एक भाई व एक बहन हैं। मृतक तीनों युवक एक ही दादा के परिवार से थे। मनीष जींद के एक निजी अस्पताल में लैब अटेंड का काम करता था। देवेंद्र जुलाना में पढ़ाई कर रहा था। दीपक की शादी कुछ समय पहले हुई थी।

एयरबैग भी नहीं बचा पाए तीन चचेरे भाइयों की जान

फरमाणा गांव में जो गाड़ी पेड़ से टकराई, उसमें एयरबैग थे। हादसे के बाद एयरबैग खुला गए थे। एयरबैग भी तीनों चचेरे भाइयों की जान नहीं बचा सके। हादसे की सूचना मिलते ही रात को महम पुलिस मौके पर पहुंची और घायलों को पीजीआई रोहतक पहुंचाया।

X
Julana News - haryana news three cousins performed the same funeral pyre mournful villagers crowd of villagers
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना