Hindi News »Haryana »Kadma» 3.26 लाख की हेराफेरी, दाेगुना जुर्माना भरवा दो सहायक प्रबंधकों पर दर्ज कराया मुकदमा

3.26 लाख की हेराफेरी, दाेगुना जुर्माना भरवा दो सहायक प्रबंधकों पर दर्ज कराया मुकदमा

एसबीआई शाखा धारूहेड़ा में 4 करोड़ 92 लाख रुपए का घोटाला सामने आने के बाद अब रेवाड़ी की स्थित बैंक की चेस्ट ब्रांच में 3...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 29, 2018, 02:45 AM IST

एसबीआई शाखा धारूहेड़ा में 4 करोड़ 92 लाख रुपए का घोटाला सामने आने के बाद अब रेवाड़ी की स्थित बैंक की चेस्ट ब्रांच में 3 लाख 26 हजार रुपए की हेराफेरी सामने आई है। मामला वर्ष 2016 का है, जिसमें अब रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के निर्देश पर जांच के बाद बैंक के दो सहायक प्रबंधकों के खिलाफ केस दर्ज कराया है। आरबीआई का तर्क है कि जुर्माना भर देने से अपराध कम नहीं हो जाता, अब कानूनी कार्रवाई के निर्देश दिए है।

10 अगस्त 2016 को रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीअाई) की ओर से ई-मेल के माध्यम से बैंकों को सूचना भेजी थी। इसमें कटे-फटे और खस्ताहाल नोटों को आरबीअाई भेजने के निर्देश थे। आदेशानुसार रेवाड़ी चेस्ट ब्रांच से 68 करोड़ 80 लाख रुपए की करंसी आरबीआई जयपुर को भेजी गई। गिनती के दौरान 3 लाख 20 हजार 200 रुपए कम मिले। जांच हुई तो 1000 रुपए के 43,500 रुपए के 494 और 100 रुपए के 302 नोट गायब पाए। यह हेराफेरी अगस्त-सितंबर 2016 के दौरान की मिली। इसी बीच आरबीआई जयपुर से एक टीम भी जांच के लिए रेवाड़ी चेस्ट ब्रांच पहुंची। यहां टीम ने बैंक में रिकार्ड काे खंगालना शुरू किया तो 6 हजार रुपए की गड़बड़ और मिली। लिहाजा हेराफेरी 3 लाख 26 हजार 200 रुपए की हुई। आरबीआई के आदेशों के बाद पूरी जांच की गई। जांच के दौरान इस गड़बड़ी के लिए दो सहायक प्रबंधकों को जिम्मेदार माना, क्योंकि जिम्मेदारी इन्हीं पर थी। आरबीआई द्वारा गायब कंरसी जितना जुर्माना दोनों सहायक प्रबंधकों भगवान दास व एसएल मक्कड़ पर लगा दिया गया। शहर थाना से जांचकर्ता एएसआई सुरेंद्र कुमार का कहना है कि उक्त दोनों से करीब साढ़े 6 लाख रुपए राशि जमा कराई गई। अब बैंक मैनेजर आशुतोष कुमार की शिकायत पर दोनों सहायक प्रबंधकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू की गई है।

एसबीआई में 4.92 करोड़ का घोटाला : 13 माह लगे फर्जी कागजातों की जांच करने में, 5 पर केस

रेवाड़ी | एसबीआई शाखा धारूहेड़ा में 4 करोड़ 92 लाख रुपए के घोटाले तक पहुंचने के लिए 13 माह तक कागजातों की जांच चली। एक केस संदिग्ध मिलने पर बैंक अधिकारियों ने वर्ष 2016 में ही जांच शुरू कर दी थी। इसके बाद एक-एक करके फाइलों को खंगालना शुरू किया गया तो पूरा गड़बड़झाला सामने आता चला गया। आखिर 213 लोन के कागजात फर्जी मिले।

अब कोर्ट के आदेश पर धारूहेड़ा थाना पुलिस ने बुधवार को 5 मामलों में मुकदमे दर्ज कर लिए हैं। धोखाधड़ी के इन मामलों में पुलिस की कार्यशैली भी कटघरे में हैं। बैंक अधिकारियों के अनुसार करीब चार माह पहले ही पुलिस को शिकायत दे दी गई थी, लेकिन पुलिस ने कार्रवाई तक करना जरूरी नहीं समझा। आखिर कोर्ट का ही दरवाजा खटखटाया। कोर्ट द्वारा 29 मामलों में केस दर्ज करने के आदेश दिए जा चुके हैं। बुधवार को करोड़ों के बैंकिंग घोटाले की शिकायत प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) तक भी भेजी गई। इस पर जवाबी मेल में संज्ञान लेते हुए जांच का भरोसा दिलाया गया है। यानी जल्द ही पीएमओ कार्यालय से जांच शुरू होती है तो कई अधिकारी लपेटे में आएंगे। धारूहेड़ा थाना प्रभारी कुलदीप कुमार ने बताया कि सीनियर अधिकारियों को मामले से अवगत कराने के बाद कार्रवाई की गई है।

गुड़गांव निगम अफसरों ने मिलीभगत कर बैंक से निकाले करोड़ों रुपए, जिसका लेखा-जोखा नहीं

गुड़गांव | तीन वर्षों से नगर निगम के एकाउंट में 30 करोड़ रुपए से अधिक के घोटाले की आशंका हैं। शिकायत है कि निगम के चीफ एकाउंट ऑफिसर द्वारा तीन वर्षों से लगातार कैश निकाले जाते रहे हैं। नियमानुसार बैंक चैक से नकद राशि निकालने पर पूर्ण रोक है। इसके बावजूद चीफ एकाउंट ऑफिसर ने निगम के बैंक एकाउंट से स्वयं के नाम पर चैक द्वारा कई बार 2-2 लाख रुपए कैश निकाले। आउटसोर्स पर कार्यरत चपरासियों के नाम पर भी एक-एक लाख रुपए नकद निकाले हैं। इस राशि का निगम में कोई लेखा जोखा नहीं है। बैंक स्टेटमेंट से घोटाला उजागर हो रहा है। अब सीएम विंडो में शिकायत पहुंचने से निगम अधिकारियों के हाथ-पांव फूलने लगे हैं। एक्सिस बैंक स्थित निगम के एकाउंट से दो वर्षों में 42 बैंक चैक से कुल 52.20 लाख रुपए कैश निकाले गए। निगम के ऐसे दर्जनों बैंक एकाउंट हैं। पूर्व निगम कमिश्नर उमाशंकर ने कहा कि निगम का कोई भी अधिकारी बैंक चैक से कैश नहीं निकाल सकता। इसकी जांच होनी चाहिए। निगम के एडिशनल कमिश्नर नरहरि बांगड़ ने कहा कि मुझे एकाउंट के संबंध में जानकारी नहीं है। चीफ एकाउंट ऑफिसर ही कुछ बता सकते हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kadma

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×