Hindi News »Haryana »Kadma» मेरठ से प्रकाशित अरिहंत प्रकाशन की किताब है एचएसएससी की परीक्षा में ब्राह्मण समाज को लेकर पूछे गए सवाल का स्रोत

मेरठ से प्रकाशित अरिहंत प्रकाशन की किताब है एचएसएससी की परीक्षा में ब्राह्मण समाज को लेकर पूछे गए सवाल का स्रोत

भोला पांडेय | फरीदाबाद/पलवल हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग की जूनियर इंजीनियर सिविल की लिखित परीक्षा में ब्राह्मण...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 14, 2018, 02:30 AM IST

  • मेरठ से प्रकाशित अरिहंत प्रकाशन की किताब है एचएसएससी की परीक्षा में ब्राह्मण समाज को लेकर पूछे गए सवाल का स्रोत
    +2और स्लाइड देखें
    भोला पांडेय | फरीदाबाद/पलवल

    हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग की जूनियर इंजीनियर सिविल की लिखित परीक्षा में ब्राह्मण समाज को लेकर पूछे गए आपत्तिजनक सवाल का स्रोत मेरठ से प्रकाशित अरिहंत प्रकाशन की पुस्तक है। इसी में यह सामग्री वर्णित है। दैनिक भास्कर ने एक सप्ताह में फरीदाबाद और पलवल के विभिन्न बुक स्टालों से दर्जन भर सामान्य ज्ञान व अन्य प्रतियोगी परीक्षा की किताबों की जांच पड़ताल कर उसे खोज निकाला। हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग पहले ही मुख्य परीक्षक को नोटिस जारी कर ब्राह्मण समाज से जुड़े सवाल को परीक्षा में डालने का स्त्राेत बताने के लिए कहा है। 16 मई तक मुख्य परीक्षक को जवाब देना है। फिलहाल इस मामले में राज्य सरकार की हुई फजीहत के बाद उक्त पुस्तक पर प्रतिबंध लगाने की तैयारी की जा रही है। मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार राजीव जैन ने दैनिक भास्कर से बातचीत में कहा कि सरकार इसकी जांच कर रही है। पूरे प्रदेश में विवादित पुस्तक की बिक्री पर प्रतिबंध लगाया जाएगा। बार काउंसिल पंजाब एंड हरियाणा के अनुशासन व निगरानी कमेटी के मनोनीत सदस्य एडवोकेट शिवदत्त वशिष्ठ ने कहा कि किसी जाति विशेष के लिए ऐसे सवाल पुस्तकों में प्रकाशित नहीं होना चाहिए। हर जाति सम्माननीय है। उक्त प्रकाशन के खिलाफ हम कोर्ट में जाएंगे।

    भास्कर

    एक्सक्लूसिव

    दर्जनभर किताबों का अध्ययन करने के बाद खोजा

    अरिहंत प्रकाशन की पुस्तक में वर्णित है विवादित सवाल

    दैनिक भास्कर संवाददाता ने एक सप्ताह तक दिल्ली, आगरा, मेरठ आैर बुलंदशहर से प्रकाशित होने वाली दर्जनभर सामान्य ज्ञान और प्रतियोगी परीक्षाओं की पुस्तकों की जांच पड़ताल की। आखिर में राज्य सरकार की किरकिरी कराने और हरियाणा में बवाल मचाने वाला सवाल मेरठ की अरिहंत प्रकाशन की पुस्तक में मिला। हरियाणा दिग्दर्शन और हरियाणा सामान्य ज्ञान नामक दो पुस्तक में विवादित सवाल का उल्लेख किया गया है। हरियाणा दिग्दर्शन के पेज नंबर 271 और सामान्य ज्ञान की पुस्तक के पेज नंबर 164 व 165 में इसे छापा गया है। इस प्रकाशन की पुस्तकें फरीदाबाद, पलवल, गुड़गांव, समेत प्रदेशभर के विभिन्न बुक स्टॉलों पर धड़ल्ले से बिक रही हैं।

    यह है पूरा मामला

    हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण की जूनियर इंजीनियर सिविल की परीक्षा में 75वें नंबर पर एक सवाल पूछा गया था कि हरियाणा में कौन अपशकुन नहीं माना जाता। इस सवाल के चार विकल्प दिए गए थे। जिसमें खाली घड़ा, फ्यूल भरा कास्केट, काले ब्राह्मण का मिलना और ब्राह्मण की कन्या का दिखना। मामला संज्ञान में आने के बाद ब्राह्मण समाज में आक्रोश पैदा हो गया। पूरे प्रदेश में धरना प्रदर्शन होने लगे। आखिर में आयोग के चेयरमैन भारत भूषण ने माफी मांगते हुए प्रश्नपत्र सेट करने वाले मुख्य परीक्षक को आजीवन प्रतिबंधित कर दिया।

    पुस्तक में लिखा है वर्तमान में प्रचलित शकुन-अपशकुन

    हरियाणा दिग्दर्शन व सामान्य ज्ञान के पेज नंबर 271 और 164-165 में लिखी सामग्री में शकुन के लिए हिरण का दर्शन, कौए का बोलना, पैर का खुजाना, पानी भरा घड़ा, हथेली का खुजलाना, चिडिय़ा का रेत में नहाना, गौ दर्शन, रोटी का मुड़ जाना, दही अथवा चांदी का सिक्का, बिल्ली का मुंह धोना, ब्राह्मण कन्या का दर्शन, दूब का दर्शन, नीलकंठ का दर्शन आदि शुभ माना है। जबकि अपशकुन में ग्वाले का भैंस की सवारी, कुत्तों का रोना, काली बिल्ली, आंख फड़कना, छींकना, खाली घड़ा, श्मशान में गीदड़ों का रोना, ईंधन का टोकरा, काले ब्राह्मण से भेंट। उक्त प्रशासन ने ऐसे विवादित सामग्री किस अाधार पर छापी है यह तो जांच का विषय है। लेकिन सरकार अब उक्त प्रकाशन की पुस्तकों की बिक्री प्रतिबंध लगाने की तैयारी में है।

    राज्य सरकार इस मुद्दे को लेकर बेहद गंभीर है। किसी भी प्रकाशन को समाज में नफरत पैदा करने वाली सामग्री प्रकाशित कर बेचने की इजाजत नहीं दे सकती। मामले की जांच की जा रही है। आयोग के मुख्य परीक्षक को नोटिस जारी कर 16 मई तक स्रोत बताने के लिए कहा गया है। निश्चित रूप से अरिहंत प्रकाशन की पुस्तकों की बिक्री प्रदेश में प्रतिबंधित की जाएगी। -राजीव जैन, मीडिया सलाहकार मुख्यमंत्री हरियाणा

    सवाल के विरोध में भाजपा के कैंट बोर्ड पार्षद ने करवाया मुंडन

    अम्बाला | मुंडन कराते भाजपा के कैंट बोर्ड पार्षद सुरेंद्र तिवारी।

    भास्कर न्यूज | अम्बाला

    हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग की ओर से हुड्डा में जूनियर इंजीनियर की भर्ती में ब्राह्मण समुदाय को लेकर पूछे गए सवाल पर उपजे विवाद के बाद रविवार को कैंट ब्राह्मण समाज के लोगों ने स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज को उनके निवास स्थान पर जाकर ज्ञापन सौंपा।

    ज्ञापन देने के दौरान भाजपा के कैंट बोर्ड पार्षद सुरेंद्र तिवारी भी ज्ञापन देने पहुंचे थे। इसके बाद विरोध स्वरूप भाजपा पार्षद ने सरकार के विरोध में ब्राह्मण संगठन की अगुवाई में सुरेंद्र तिवारी ने मुंडन करवा लिया। विज को दिए ज्ञापन में स्टाफ सलेक्शन कमीशन के चेयरमैन भारत भूषण भारती व जातिगत टिप्पणी को लेकर प्रश्न तैयार करने वाले कर्मचारी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की मांगी की है। यह है विवाद का कारण हरियाणा कर्मचारी चयन आयोजन की परीक्षा में ब्राह्मण समाज को लेकर एक प्रश्न में आपत्तिजनक जवाब दिए हुए थे। इसके बाद से ही परीक्षा में पूछे गए सवाल को लेकर ब्राह्मण समाज द्वारा विरोध जताया जा रहा है। इसी कड़ी में रविवार को अनिल विज को ज्ञापन दिया गया। वहीं भाजपा के पार्षद ने ही मुंडन करवा विरोध जाहिर किया।

  • मेरठ से प्रकाशित अरिहंत प्रकाशन की किताब है एचएसएससी की परीक्षा में ब्राह्मण समाज को लेकर पूछे गए सवाल का स्रोत
    +2और स्लाइड देखें
  • मेरठ से प्रकाशित अरिहंत प्रकाशन की किताब है एचएसएससी की परीक्षा में ब्राह्मण समाज को लेकर पूछे गए सवाल का स्रोत
    +2और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kadma

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×