• Home
  • Haryana News
  • Kaithal
  • एनएच-11 कैथल-असंध 18 से बढ़कर होगा 33 फीट चौड़ा, राजौंद शहर में बनेगी फोरलेन
--Advertisement--

एनएच-11 कैथल-असंध 18 से बढ़कर होगा 33 फीट चौड़ा, राजौंद शहर में बनेगी फोरलेन

कैथल-असंध स्टेट हाईवे-11 को चौड़ा करने का टेंडर हो गया। एसएच-11 को 18 फीट से बढ़ाकर 33 फीट चौड़ा किया जाएगा। जिले के लोगों...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 02:25 AM IST
कैथल-असंध स्टेट हाईवे-11 को चौड़ा करने का टेंडर हो गया। एसएच-11 को 18 फीट से बढ़ाकर 33 फीट चौड़ा किया जाएगा। जिले के लोगों को सफर में शहूलियत मिलेगी। इस रोड पर वाहनों की भीड़ होने से दुघर्टनाओं की आशंका बनी रहती है। हादसों में भी कमी आएगी।

इसका सबसे बड़ा फायदा उन वाहन चालकों को होगा जो एनएच-1 के तीन टोल-टैक्सों से बचने के लिए इस रूट से सफर करते हैं। पीडब्ल्यूडी कैथल के अधीन आने वाली 21 किलोमीटर की दूरी पर 20 करोड़ रुपए खर्च होंगे और जल्द इस पर काम शुरू हो जाएगा।

राजौंद शहर की सड़क से होगी फोरलेन : नगर परिषद राजौंद शहर की 1400 मीटर तक सड़क फोरलेन की जाएगी। इस क्षेत्र में अब तक सड़क के दोनों और रेहड़ी व दुकानदारों ने कब्जा किया है। मौजूदा समय में कब्जे के कारण हर समय जाम की स्थिति बनी रहती है। यहां से कब्जे को हटवाकर फोरलेन बनाया जाएगा। फोरलेन होने के बाद जाम की स्थिति भी नहीं रहेगी।

पीडब्ल्यूडी एसई बोले-टेंडर हो चुका, जल्द शुरू कराएंगे काम

राजौंद | राजौंद से असंध तक इसी सड़क का किया जाएगा चौड़ीकरण।

करीब 15 गांवों को होगा फायदा : सड़क तंग होने के कारण इस रूट पर विकास कार्य नहीं हो रहे थे। सड़क की चौड़ाई बढ़ने से वाहन चालकों को शहूलियत होगी। इससे 15 गांवों के लोगों को अपना व्यवसाय बढ़ाने का भी मौका मिलेगा। इनमें तितरम मोड़ से गांव तितरम, देवबन, जाखोली, किच्छाना, नीमवाला, नरवल, राजौंद, सरपी खेड़ी सहित अन्य गांवों से होते हुए अंसध शामिल है।

इस रूट से बचेंगे तीन टोल : चंडीगढ़-दिल्ली रूट के वाहन चालकों ने तीन टोल-टैक्स बचाने का शॉर्टकट रास्ता निकाला है। पानीपत में टोल से पहले रास्ता निकालता है जो असंध के लिए है। यहां से कैथल और आगे अम्बाला के लिए निकला है। इस तरह निकलने से पानीपत एंट्री पर बने टोल, करनाल के बसताड़ा वाला और तीसरा कुरुक्षेत्र करनाल के बीच वाला टोल बचता है।

समय की होगी बचत, सफर होगा आसान : चालक कमल कुमार ने बताया कि सड़क की चौड़ाई कम होने के कारण सफर में काफी कठिनाई होती है। वाहन को धीमी गति में चलाना पड़ता है। समय भी अधिक लगता है। यदि सड़क की चौड़ाई बढ़ी तो समय की बचत तो होगी है। साथ में सफर भी आसान होगा।