Hindi News »Haryana »Kaithal» कचरे पर रार डंपिंग ग्राउंड से निकली आग से जली थी 60 एकड़ फसल

कचरे पर रार डंपिंग ग्राउंड से निकली आग से जली थी 60 एकड़ फसल

भारतीय किसान यूनियन के प्रदेशाध्यक्ष रतन मान ने खुराना रोड पर आयोजित किसान महापंचायत में एलान किया कि किसी भी...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 03, 2018, 02:40 AM IST

  • कचरे पर रार 
डंपिंग ग्राउंड से निकली आग से जली थी 60 एकड़ फसल
    +1और स्लाइड देखें
    भारतीय किसान यूनियन के प्रदेशाध्यक्ष रतन मान ने खुराना रोड पर आयोजित किसान महापंचायत में एलान किया कि किसी भी कीमत पर डंपिंग ग्राउंड में कचरा नहीं डालने दिया जाएगा। अगर सरकार ने एक माह के भीतर किसानों को 50 हजार रुपए प्रति एकड़ मुआवजा नहीं दिया तो डंपिंग ग्राउंड पर भाकियू अपनी गाय, भैंस लेकर आएगी और यहां जबरदस्ती कब्जा करेगी। उस दिन अफसरों को भी देख लेंगे जो बात-बात पर किसानों पर पर्चा दर्ज करने की बात कहते हैं। चाहे प्रशासन किसानों पर गोलियां चलाए या लाठियां बरसाए भाकियू पीछे नहीं हटेगी।

    महापंचायत में किसानों ने हाथ उठा कर धरना लगातार जारी रखने का भी निर्णय लिया। दोपहर करीब सवा एक बजे एसडीएम कमलप्रीत कौर, नायब तहसीलदार सुरेश कुमार व चीफ सेनेटरी इंस्पेक्टर मोहन भारद्वाज के साथ महापंचायत में पहुंचीं। जहां प्रदेशाध्यक्ष मान ने एसडीएम के सामने ही कहा कि मुआवजा न मिलने पर डंपिंग ग्राउंड पर कब्जा किया जाएगा और उसे बेच कर पैसा किसानों को दिया जाएगा। इसके बाद उन्होंने अपना मांग पत्र एसडीएम को सौंपा। एसडीएम ने प्रशासन की ओर से महापंचायत में आश्वासन दिया कि प्रशासन ग्राउंड की चार दीवार ऊंची करवाने, समय-समय पर दवा का छिड़काव व पीछे के गेट बंद करवाने को तैयार है।

    भाकियू का एलान-एक माह में मुआवजा नहीं मिला तो डंपिंग ग्राउंड बेचकर आगजनी पीड़ित किसानों को देंगे पैसा

    डीसी बोलीं-नष्ट फसल के मुआवजे को लेकर सरकार को भेजी रिपोर्ट, कानून हाथ में लिया तो होगी कार्रवाई

    एसडीएम कमलप्रीत कौर को डंपिंग ग्राउंड पर कब्जा करने की चेतावनी देते भाकियू प्रदेशाध्यक्ष रतन मान।

    ठेकेदार पर प्रदूषण फैलाने का पर्चा क्यों नहीं दर्ज किया : सुखपाल

    प्रदेश उपाध्यक्ष सुखपाल ने कहा कि किसान के खेत में गलती से भी आग लग जाए तो किसान पर एफआईआर दर्ज कर जुर्माना लगाया जाता है। कहा जाता है पर्यावरण प्रदूषण हुआ। यहां डंपिंग ग्राउंड में 12 दिनों से लगातार ठेकेदार के कर्मचारियों द्वारा लगाई आग से धुआं उठ रहा है। यहां प्रशासन को पर्यावरण प्रदूषण दिखाई नहीं देता है। डीसी साहिबा ठेकेदार पर पर्चा दर्ज कर गिरफ्तार करें। भिवानी से आए रवि आजाद ने कहा कि कैथल वालों ने गांवों में बने डंपिंग ग्राउंड का विरोध शुरू कर दिया है। यह पूरे प्रदेश में गांव वालों के लिए समस्या है। उन्होंने कहा कि शहर का कचरा शहर में रहे। इसके लिए पूरे हरियाणा में डंपिंग ग्राउंड का विरोध किया जाएगा।

    रोज उठने वाला 70 टन कचरा कहां डाले नप

    23 फरवरी से किसानों ने डंपिंग ग्राउंड में शहर से उठान किए जाने वाले 70 टन कचरे को गिराने नहीं दिया है। नप अधिकारी रोज नई जगह खोजते हैं। 10 दिन से कचरा कभी पाड़ला रोड ड्रेन के पास तो कभी गड्ढों और जिला जेल के पीछे खाली एरिया में डाला जा रहा है। जल्द डंपिंग एरिया का समाधान नहीं हुआ तो शहर में सफाई व्यवस्था पूरी तरह ठप हो जाएगी। पार्षद डीसी से मिले थे लेकिन अभी तक इस बारे में कुछ नहीं हुआ है।

    क्या ऐसा कर पाएगी भाकियू ?

    एक्सपर्ट व्यू : ऐसा संभव नहीं : भाकियू द्वारा डंपिंग ग्राउंड पर कब्जा कर बेचने के संदर्भ में एडवोकेट सुरेंद्र रांझा ने बताया कि डंपिंग ग्राउंड या किसी भी संपत्ति पर कोई भी संगठन या व्यक्ति जबरन कब्जा नहीं कर सकता। जहां तक मुआवजे की बात है उसके लिए नियमानुसार डीसी के पास आवेदन किया जा सकता है।

    कचरा डालने आए ट्रैक्टर चालक ने हाथ जोड़ पीछा छुड़ाया

    महापंचायत के दौरान एक ट्रैक्टर चालक ट्राॅली में किसी भंडारे के बाद कचरे को लेकर डंपिंग ग्राउंड में आ रहा था। किसानों ने तुरंत उसे रोक कर घेर लिया। चालक ने बताया कि वह ठेकेदार का व्यक्ति नहीं है। पहली बार यहां आया है। उसने हाथ जोड़ कर किसानों से माफी मांगी। किसानों ने दोबारा न आने की चेतावनी देते हुए उसे छोड़ दिया।

    डीसी सुनीता वर्मा से सीधी बात

    . किसान 10 दिनों से धरने पर हैं, प्रशासन ने क्या किया?

    नष्ट फसल के मुआवजा को सरकार को रिपोर्ट भेजी है, जल्द दिया जाएगा।

    . महापंचायत में किसानों ने डंपिंग ग्राउंड पर कब्जे का एलान किया है?

    किसी भी प्रॉपर्टी पर कब्जा करना न तो संभव है न ऐसा होने दिया जाएगा। अगर कानून हाथ में लिया तो नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

    ये किसान रहे मौजूद

    मौके पर प्रदेश कोषाध्यक्ष सतपाल दिल्लोंवाली, रामफल कंडेला, सुरेश दहिया, प्रधान छज्जु राम, प्रेम चंद शाहपुर, यशपाल राणा, रवि आजाद, शिव लाल, प्रताप सिंह, सुभाष गुर्जर, मेनपाल, राम सिंह खुराना, बलमंत कुलतारण, बनी सिंह राणा, भूप सिंह, गुरमीत सिंह, अमृत, मुखत्यारा, जिया लाल, महेंद्र सिंह, जय भगवान, भान कुलतारण मौजूद थे।

  • कचरे पर रार 
डंपिंग ग्राउंड से निकली आग से जली थी 60 एकड़ फसल
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kaithal

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×