Hindi News »Haryana »Kalanwali» कबड्‌डी प्रतियोगिता में फक्करझंडा को हरा पंजाब के डुटाल की टीम ने जीता फाइनल मैच

कबड्‌डी प्रतियोगिता में फक्करझंडा को हरा पंजाब के डुटाल की टीम ने जीता फाइनल मैच

बेस्ट रेडर बिंदू को इनाम में मिला बाइक भास्कर न्यूज | रोड़ी गांव रोड़ी के डेरा बाबा गौंसपूरी में तीन दिवसीय...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 16, 2018, 03:00 AM IST

बेस्ट रेडर बिंदू को इनाम में मिला बाइक

भास्कर न्यूज | रोड़ी

गांव रोड़ी के डेरा बाबा गौंसपूरी में तीन दिवसीय सालाना जोड़ मेले पर आयोजित कबड्डी प्रतियोगिता में पंजाब के डुटाल की टीम विजेता रही जबकि फक्करझंडा की टीम उपविजेता रही। गांव में आयोजित कबड्डी प्रतियोगिता में पंजाब व हरियाणा से कई टीमों ने हिस्सा लिया।

प्रतियोगिता के तहत ओपन कबड्डी फाइनल मैच पंजाब की दो टीमों डुटाल व फक्करझंडा की टीमों के बीच हुआ। जिसमें फाइनल के रोचक मुकाबले में डुटाल ने फक्कर झंडा को पराजित किया और प्रतियोगिता का पहला पुरस्कार 41 हजार रुपये हासिल किए। इसी प्रकार उपविजेता फक्कर झंडा की टीम को 31 हजार रुपये का इनाम देकर सम्मानित किया गया। इसके अलावा प्रतियोगिता के तहत 75 किलोग्राम भार वर्ग में महराज व तुंगवाली की टीम के बीच हुए मुकाबले में महराज ने तुंगवाली को पराजित कर 20 हजार रुपये का पुरस्कार जीता जबकि उपविजेता तुंगवाली को 15 हजार रुपये का पुरस्कार मिला। इसी प्रकार 63 किलोग्राम भारवर्ग में जींद की सदींल गांव की टीम व मेजबान रोड़ी को पराजित कर प्रथम इनाम 13 हजार रुपये हासिल किया जबकि रोड़ी को द्वितीय इनाम 9 हजार रुपये देकर सम्मानित किया। प्रतियोगिता के तहत 35 किलोग्राम भार वर्ग में सूरतिया की टीम को प्रथम इनाम 31 सौ रुपये जबकि उपविजेता वीरेवाला की टीम को 21 सौ रुपये का इनाम देकर सम्मानित किया गया जबकि 42 किलोग्राम भार वर्ग मे में कालांवाली को प्रथम इनाम 3 हजार रुपये जबकि वीरेवाला को द्वितीय इनाम 2 हजार रुपये देकर सम्मानित किया। इसी प्रकार 50 किलोग्राम भार वर्ग मे विजेता कोटभाई की टीम को 6 हजार रुपये जबकि उपविजेता सरदुलगढ़ की टीम को 4 हजार रुपये देकर सम्मानित किया गया। इसके अलावा ओपन कबड्डी में विजेता डुटाल के रेडर बिंदु को बेस्ट रेडर व बेस्ट जाफी घोड़ा को एक-एक बाइक भेंट करते हुए सम्मानित किया गया। प्रतियोगिता के दौरान सभी विजेता टीमों को डेरा कमेटी की ओर से संत बाबा बिसाखा दास ने इनाम देकर सम्मानित किया। उन्होंने विजेताओं को सम्मानित करते हुए कहा कि जीत व हार एक ही सिक्के के दो पहलू हैं।

इसलिए हारने वाली टीम को चिंता की बजाय भविष्य में बेहतर तैयारी कर खेलना चाहिए, जीत अवश्य मिलेगी और विजेता टीम को अपनी जीत कायम रखने के लिए अगली चुनौती की तैयारी करनी चाहिए। वहीं जोड़ मेले के अंतिम दिन डेरा में श्री रामायण पाठ का भोग डाला। इस उपरांत संगतों ने गुरु का अटूट लंगर ग्रहण किया और कविसरी जत्थे द्वारा धार्मिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया। इस मौके पर संत बाबा रविदास टेलांवाले, सरपंच मेजर सिंह, राजेंद्र सिंह, शीशपाल, कंवलजीत सिंह, इंद्रजीत सिंह, बलविंद्र सिंह, महेंद्रपाल, रुलदू सिंह, दर्शन सिंह, डाॅ. सुखदर्शन मलड़ी, बूटा सिंह, गुरतेज सिंह, नरदेव चौहान, ओमप्रकाश, सुभाष जिंदल, तिरथ जिंदल, सुखजीत सिंह कंबाेज, शहजिंद्र, जसकरण आदि मौजूद रहे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kalanwali

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×