• Hindi News
  • Haryana News
  • Kalanwali
  • सरसों खरीद में उचंति कारोबार से सरकार को लगाया जा रहा लाखों रुपये का चूना
--Advertisement--

सरसों खरीद में उचंति कारोबार से सरकार को लगाया जा रहा लाखों रुपये का चूना

मंडी में इन दिनों सरसों की दस्ती बिक्री धड़ल्ले से हो रही है, जिसकी वजह से सरकार को मार्केट फीस और सेल टैक्स के रूप...

Dainik Bhaskar

Apr 11, 2018, 02:20 AM IST
सरसों खरीद में उचंति कारोबार से सरकार को लगाया जा रहा लाखों रुपये का चूना
मंडी में इन दिनों सरसों की दस्ती बिक्री धड़ल्ले से हो रही है, जिसकी वजह से सरकार को मार्केट फीस और सेल टैक्स के रूप में लाखों रुपये की चपत लग रही है।

मार्केट कमेटी के रिकार्ड के अनुसार 7 अप्रैल तक 12071 क्विंटल सरसों की आवक आ चुकी है। जिसमें से सिर्फ 1300 क्विंटल हैफेड ने, जबकि शेष सरसों की खरीद व्यापारियों की ओर से की गई है। जबकि इस बार सरसों की बंपर फसल होने के चलते मंडी में सरसों की आवक कहीं ज्यादा आ चुकी है। जिसका सीधा सा अर्थ है, कि अधिकारियों की व्यापारियों के साथ मिलीभगत से सरकार को लाखों रुपयों का चूना लगाया जा रहा है। हालांकि भाजपा मंडलाध्यक्ष मनीष जिंदल ने भी अनाज मंडी में फसल खरीद में हो रही गड़बड़ी को रोकने के लिए 4 अप्रैल को फसलों की ढेरियों पर पर्ची लगाकर खरीद करने के निर्देश दिए थे। लेकिन आनाकानी कर उक्त निर्देश को अमलीजामा नहीं पहना रहे। जिसके चलते अनाज मंडी में फसलों का उचंति कारोबार इसी तरह जारी है।

मार्केट कमेटी व सेल टैक्स के अधिकारियों की व्यापारियों के साथ मिलीभगत से मंडी में आने वाला नरमा और सरसों मार्केट कमेटी के आवक रजिस्टर में इंद्राज होने की बजाए उचंति में बिक रहा है। प्राइवेट परचेज होने की वजह से व्यापारियों की ओर से माल खरीदने की शर्त रखी जाती है। आंकड़े बताते हैं कि मंडी में आने वाली सरसों 50 फीसदी से ज्यादा उचंति में बिक रही है। उचंति बिक्री का सीधा असर मार्केट फीस और सेल टैक्स पर पड़ रहा है। मंडी में मार्केट कमेटी की मिलीभगत से मार्केट फीस और सेल टैक्स की सीधी चोरी संभव हो पाती है। हालांकि सरकार की ओर से मार्केट फीस और सेल टैक्स की चोरी को रोकने के लिए पिछले वर्ष बोली की वीडियोग्राफी शुरू करवाई थी, लेकिन इस बार वीडियोग्राफी नहीं हो रही। नरमा पर दो प्रतिशत मार्केट फीस व 80 पैसे एचआरडीएफ है, जबकि सरसों पर एक प्रतिशत मार्केट फीस देय है। इसके अलावा नरमे व सरसों पर 5 प्रतिशत जीएसटी देय है। नरमा और सरसों की उचंति बिक्री से मार्केट फीस से दोगुणा चपत सेल टैक्स विभाग को लग रही है।

कालांवाली। अनाजमंडी में लगी सरसों की ढेरियां।

सीएम को करवाएंगे अवगत : जिंदल


मंडी में नहीं बिकती उचंति फसल


गड़बड़ी बर्दाश्त नहीं


X
सरसों खरीद में उचंति कारोबार से सरकार को लगाया जा रहा लाखों रुपये का चूना
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..