Hindi News »Haryana »Karnal» बैंकों की सुरक्षा पुख्ता नहीं, पानीपत में लूट के बाद भी नहीं लिया सबक, एलडीएम ने सुरक्षा बढ़ाने को

बैंकों की सुरक्षा पुख्ता नहीं, पानीपत में लूट के बाद भी नहीं लिया सबक, एलडीएम ने सुरक्षा बढ़ाने को कहा

पड़ोसी जिले पानीपत में 3 करोड़ 92 लाख रुपए की लूट के बाद भी करनाल जिले में सुरक्षा व्यवस्था बेपटरी है। पड़ोसी जिले में...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 02:30 AM IST

पड़ोसी जिले पानीपत में 3 करोड़ 92 लाख रुपए की लूट के बाद भी करनाल जिले में सुरक्षा व्यवस्था बेपटरी है। पड़ोसी जिले में बड़ी घटना के बाद सभी बैंकों को एलडीएम की ओर से पत्र जारी कर सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाने को कहा है, ताकि यहां इस तरह की बड़ी वारदात न होने पाए। जबकि फिलहाल स्थिति लापरवाही जैसी ही लग रही है, क्योंकि अधिकांश जगह बैंक के साथ अटैच एटीएम पर बैंक के ही गार्ड संभाल रख रहे हैं। गली-मोहल्लों या शहर से दूर एटीएम पर कोई गार्ड नहीं रखे गए। इससे सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल उठने लगे हैं, क्योंकि हाल ही में बरसत स्थित बैंक में सेंध मारी की कोशिश की गई है।

बैंक में लगा अलार्म तक नहीं बजा। एटीएम तोड़ने के केस सामने आ चुके हैं। निजी कंपनियां इसमें अनदेखी कर रही हैं। जिले में 351 एटीएम हैं। इनमें 148 एटीएम सिटी एरिया में ही हैं। गार्ड नहीं होने के कारण शरारती तत्व आसानी से निशाना बना लेते हैं। जब तक वह पुलिस को फोन करते हैं तब तक आरोपी उसका एटीएम व पैसे छीनकर फरार हो जाते हैं।

10 लाख रुपए के लेन-देन के दौरान गार्ड जरूरी, सिटी में हो चुकी दो बढ़ी घटनाएं

करनाल. शहर के एटीएम में नहीं सुरक्षा गार्ड।

बिना गार्ड वाले एटीएम पर होती ठगी

इन दिनों सिटी ही नहीं देहात में भी एटीएम पर खूब ठगी की घटनाएं हो रही हैं। जो भी व्यक्ति राशि निकलवाने जाता है पहले से ही वहां पर कुछ युवक मंडरा रहे होते हैं। वे पहले ही अंदाजा लगा लेते हैं कि जो एटीएम लेकर आया है उसे राशि निकालने में दिक्कत है। मदद के बहाने आते हैं और एटीएम बदलकर राशि निकाल लेते हैं।

सिटी में बलड़ी बाईपास पर 25 लाख की लूट, रेलवे रोड पर 12 लाख रुपए की लूट की घटनाएं हो चुकी है। इन दोनों ही घटनाओं के मौके पर गार्ड नहीं थे, जबकि 10 लाख रुपए लेन-देन पर गार्ड की जरूरत है। इसलिए पुलिस की तरफ से सभी बिजनेसमैन को भी गार्ड रखने की नसीहत दी गई है। इस तरह की वारदातें आरोपी रैकी करके करते हैं। उन्हें पता हो जाता है कि सुरक्षा में किस पॉइंट पर लापरवाही बरती जा रही है।

देहात में व्यवस्था सही नहीं

ग्रामीण क्षेत्रों में 203 एटीएम हैं। अधिकतर पर गार्ड नहीं हैं। इनमें वारदात होने की संभावना ज्यादा रहती है। बैंक का दावा है कि एटीएम में अलार्म है और बैंक के साथ जुड़े हुए हैं। सीसीटीवी कैमरे लगे हुए हैं। इसलिए सेफ्टी के लिहाज से काफी माने जाते हैं। दूसरी तरफ शरारती तत्व वारदात करने से पहले कैमरे और अलार्म का सबसे पहले तोड़ निकाल रहे हैं।

सभी बैंक गार्ड की व्यवस्था कर कैमरे लगाएं

सभी आढ़ती, मनी लेंडर, गोल्ड आदि का काम करने वाले व्यापारी अपने संस्थानों के आगे कैमरे लगवाएं। यदि बड़ी रकम को कहीं ले जाना है तो पुलिस को सूचित करें, ताकि सुरक्षा व्यवस्था बनी रहेे। संबंधित थाना प्रभारी का फोन नंबर सेव रखें। बैंकों को भी आदेश दिया गया है कि वे अपने यहां गार्ड जरूर रखें। जल्द ही अधिकारियों की बैठक भी ली जाएगी।’-डॉ. आदित्य दहिया, डीसी।

बैंकों को सुरक्षा बढ़ाने को कहा गया है

जिन एटीएम पर गार्ड नहीं है उन पर अलार्म व सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। सभी बैंकों को पत्र लिखकर सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाने को कहा गया है।’-राजेंद्र मल्होत्रा, एलडीएम, करनाल।

लापरवाही बरतने पर बैंक खुद जिम्मेदार होगा

कई एटीएम में गार्ड न होने की रिपोर्ट है। संबंधित बैंक अधिकारियों को आगाह कर दिया है कि लापरवाही में कोई वारदात होती है तो बैंक जिम्मेदार होगा।’ -राजकुमार वालिया, डीएसपी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Karnal

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×