Hindi News »Haryana »Karnal» षड्यंत्र के तहत दबाया जा रहा किसान आंदोलन: कबूल सिंह

षड्यंत्र के तहत दबाया जा रहा किसान आंदोलन: कबूल सिंह

भारतीय किसान यूनियन की मासिक मीटिंग किसान भवन करनाल में हुई जिसकी अध्यक्षता पूर्व प्रधान चौ. कबूल सिंह ने की।...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 03:25 AM IST

षड्यंत्र के तहत दबाया जा रहा किसान आंदोलन: कबूल सिंह
भारतीय किसान यूनियन की मासिक मीटिंग किसान भवन करनाल में हुई जिसकी अध्यक्षता पूर्व प्रधान चौ. कबूल सिंह ने की। मीटिंग में मुख्य रूप से प्रदेशाध्यक्ष सेवा सिंह आर्य उपस्थित रहे। किसानों ने मीटिंग में सरकार की किसान विरोधी नीतियों का विरोध किया और कहा कि जिस प्रकार से किसानों के आंदोलन को दबाने का काम एक षड्यंत्र के तहत किया गया, वह तरीका कभी अंग्रेज सरकार गुलामी के समय में किया करती थी। किसान अपने हकों की लड़ाई के लिए अपनी आवाज उठाते हैं, लेकिन उनको जबरदस्ती दबा दिया जाता है। यह सरकार किसान विरोधी साबित हुई है। जब तक किसानों को उनकी फसलों के लागत के आधार पर लाभकारी मूल्य नहीं दिए जाते तब तक किसानों की आर्थिक हालत नहीं सुधर सकती। बैठक में जयकुंवार राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, चौ. कबूल सिंह संयोजक जिला करनाल, जीवन सिंह, जत्थेदार अवतार सिंह प्रचार मंत्री, सचिव राम कुंवार, टेकचंद, बलबीर सिंह, ईश्वर सिंह चहल, अर्जुन सिंह, मलूक सिंह, भीम सिंह दादूपुर, पृथ्वी सिंह, पंडित अर्जुन सिंह, मलखान सिंह प्रचार मंत्री, रणधीर सिंह, माईचंद, राजेंद्र सिंह नीलोखेड़ी प्रधान आदि उपस्थित रहे।

करनाल. भारतीय किसान यूनियन की मासिक बैठक में सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते किसान।

किसानों की सरकार से ये हैं मांग

किसानों का कर्ज खत्म किया जाए और किसानों की आय सुनिश्चित की जाए, जो कम से कम 18000 प्रति मास होनी चाहिए।

स्वामी नाथन आयोग की रिर्पोट लागू करके फसलों के लाभकारी मूल्य घोषित किए जाएं।

फसल बीमा योजना किसान हितैषी नहीं है इसको या तो बंद किया जाए या हितैषी बनाया जाए।

किसान को 60 साल के बाद जवानों की तरह पेंशन दी जाए।

आवारा पशु गाय व अन्य पशु जो खेती में नुकसान करते हैं उनका सरकार प्रबंध करे

सरकार द्वारा न्यूनतम समर्थन मूल्य से कम पर सरकार या व्यापारी खरीद करे, तो उसे आपराधिक श्रेणी में लाकर सजा का प्रावधान किया जाए।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Karnal

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×