जागरूकता अभियान नहीं आ रहा महिलाओं के काम

Karnal News - स्वास्थ्य विभाग द्वारा गर्भवती महिलाओं के लिए चलाए गए जागरूकता अभियान महिलाओं के किसी काम नहीं आ रहे। इसके चलते...

Bhaskar News Network

Jan 14, 2019, 03:30 AM IST
Karnal News - haryana news awareness campaign is not working women
स्वास्थ्य विभाग द्वारा गर्भवती महिलाओं के लिए चलाए गए जागरूकता अभियान महिलाओं के किसी काम नहीं आ रहे। इसके चलते विभाग की लापरवाही का खामियाजा हर साल जिले की 30 से 40 गर्भवती महिलाएं भुगत रही हैं।

स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के अनुसार जिले में चार सालों में करीब 141 गर्भवती महिलाएं डिलीवरी के दौरान अपनी जान गवां चुकी हैं। स्वास्थ्य विभाग मातृत्व मृत्यु दर को रोकने के लिए निरंतर जागरूकता अभियान, योजनाएं चला रही है। इसके बावजूद भी हर साल की मृत्यु संख्या में कोई कमी नहीं आ रही। एक साल में यदि कोई कमी आई है तो अगले साल दोबारा मृत्यु दर बढ़ी है। सरकार की अाेर से चलाई गई प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना के लाभ भी दूर-दराज की महिलाओं को नहीं मिल रहे हैं। इसके चलते दूर-दराज क्षेत्रों में स्वास्थ्य विभाग नहीं पहुंच पा रहा।

गर्भवती महिलाओं की मौत का आंकड़ा

साल संख्या

2015-2016 43

2016-2017 32

2017-2018 39

2018 से अब तक 27

महिलाओं की आज भी हो रही घरों में डिलीवरी

रिव्यू के अनुसार मौत के कारण

डॉ. राजेंद्र ने बताया कि गर्भवती महिला की मौत का सबसे बड़ा कारण डिलीवरी के बाद होने वाला इंफेक्शन व महिला में खून की कमी है।

स्वास्थ्य विभाग के रोजाना चलाए जा रहे अभियानों के बावजूद भी ज्यादातर महिलाओं की डिलीवरी अस्पताल में होने की बजाय घरों में हो रही है। जिले में हर साल करीब 100 डिलीवरियां घरों में होती हैं। इसके चलते ही महिलाओं को इंफेक्शन का अधिक खतरा होता है। स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के अनुसार साल 2016 में 210, साल 2017 में 92 और साल अप्रैल से नवंबर तक 47 डिलीवरियां घर में हुई है।


X
Karnal News - haryana news awareness campaign is not working women
COMMENT