पेयजल बर्बादी रोकने को सख्त कदम उठाने की मांग

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 08:00 AM IST

Karnal News - पर्यावरण संरक्षण समिति कार्यकारिणी की मीटिंग सेक्टर-13 कार्यालय में हुई। मीटिंग में बढ़ते जल संकट के बारे में...

Karnal News - haryana news demanding strict action to stop drinking water waste
पर्यावरण संरक्षण समिति कार्यकारिणी की मीटिंग सेक्टर-13 कार्यालय में हुई। मीटिंग में बढ़ते जल संकट के बारे में विचार-विमर्श किया गया। सदस्यों ने बताया कि करनाल जिले में शहरों में तथा गांवों में पानी की बहुत बर्बादी हाे रही है, जो कि गहरी चिंता का विषय है। एक तरफ मुख्यमंत्री का कहना है कि प्रत्येक प्रदेशवासी को जल संकट को समझना चाहिए।

उन्होंने यह भी कहा कि सरकार ने जल संरक्षण के लिए कई स्कीमें चलाई हैं, लेकिन दूसरी तरफ कुछ सरकारी अधिकारी इसके विरुद्ध काम कर रहे हैं। पीने के पानी की बर्बादी करवा रहे हैं। यदि करनाल जिले की बात की जाए ताे यह सच्चाई सामने आई है कि नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के आदेशानुसार करनाल जिले में पीने के पानी के लिए डार्क जोन में आ चुका है।

समिति को पता चला है कि कृषि विभाग किसानों को अगेती धान न लगाने के बारे में जोर दे रहा है, लेकिन दूसरी तरफ कुछ ब्लाॅक अधिकारियों ने गांवों में ज्यादातर घरों में सबमर्सिबल पंप लगवाए हुए हैं। जब यह पता लग चुका है कि पीने के पानी का लेवल भूमि में बहुत नीचे पाताल तक पहुंच गया है। मीटिंग में कंवल भसीन, प्रधान एसडी अरोड़ा, वरिष्ठ उपप्रधान आरआर अत्री, एलडी मदान, देवराज चौधरी, एसके चावला, केएल नारंग, अमरदास दुआ, चरणजीत लाल उपस्थित रहे।

हर साल पानी का लेवल जा रहा है नीचे

समिति के सदस्यों ने कहा कि हर वर्ष दो मीटर पानी का लेवल नीचे जा रहा है तो फिर इन गांवों में घरों में गैर कानूनी तौर पर सबमर्सिबल पंप क्यों लगवाने दिए गए हैं। केवल करनाल ब्लाॅक में लगभग 48 गांव हैं और हर गांव में ज्यादातर घरों में सबमर्सिबल पंप लगवा रखे हैं। वहां पर अक्सर पानी खुला चलता रहता है और लाखों लीटर पीने का पानी व्यर्थ में बर्बाद हो रहा है।

X
Karnal News - haryana news demanding strict action to stop drinking water waste
COMMENT