• Hindi News
  • National
  • Karnal News Haryana News Illegal Mining Of Sand From Yamuna Yamuna Can Change In Quadrangle Flow Of Floods

यमुना से रेत का अवैध खनन, चौमाशे में यमुना बदल सकती है प्रवाह, बाढ़ का खतरा बढ़ा

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज | करनाल/ गढ़ी बीरबल

चंद्राव गांव से सटे क्षेत्र में यमुना में हो रहे अवैध खनन में रेत माफिया करोड़ों रुपए के वारे-न्यारे कर रहा है। सिंचाई विभाग के अधिकारी भी इस घोटाले में मिले हुए हैं। अवैध रेत खनन से यमुना कई जगह से गहरी हो गई है। चौमाशे में पानी आने पर यहां पर बाढ़ का खतरा भी बढ़ गया है। स्थानीय लोगों की मानें तो यमुना के अंदर से अवैध रूप से हजारों ट्राॅलियां रेत निकालने का कार्य किया जा रहा है। इसके चलते यमुना से सटे क्षेत्रों पर संभावित बाढ़ का खतरा भी बढ़ गया है। क्योंकि इतना रेत निकलने की वजह से यमुना के अंदर काफी एरिया में बड़े-बड़े गड्ढे बन गए हैं। जिनके कारण आने वाली बरसात के दिनों में जैसे ही यमुना में पानी का स्तर बढ़ेगा तो संभावित कटाव भी शुरू हो सकता है। अगर ऐसा हुआ तो यमुना से लगती किसानों की कृषि भूमि यमुना के गर्त में भी समा सकती है। सुखबीर कांबोज सरपंच हंसूमाजरा ने बताया कि गांव चंद्राव, बृज, चौगांवा, हंसूमाजरा ये गांव ऐसे हैं जो बाढ़ संभावित एरिया की दृष्टि से सबसे संवेदनशील हैं। क्योंकि जब-जब यमुना में बाढ़ आई है सबसे पहले इन्हीं गांवों में यमुना का पानी आता है। सालों की बाढ़ की त्रासदी झेल चुके ये गांव बांध के अंदर आते हैं। ऐसे में यहां पर यमुना में अवैध रेत खनन होना किसानों के लिए बेहद ही चिंताजनक है। क्योंकि बरसात के दिनों में खनन की वजह से अगर यहां भूमि कटाव शुरू हो गया तो उसे रोकने के लिए कोई इंतजाम भी नहीं है। प्रकृति से छेड़छाड़ कितनी भारी पड़ सकती है ये तो समय ही बताएगा। क्योंकि अगर यमुना में एक बार कटाव शुरू हो गया तो न केवल किसानों के यमुना से लगते खेत नदी में समा जाएंगे बल्कि आसपास के रिहायशी इलाके और गांवों भी डूब सकते हैं। ऐसे में प्रशासन को जरूरत है कि अवैध खनन पर गंभीरता से अंकुश लगाकर कड़े निर्णय ले और सख्त कार्रवाई करते हुए पूर्णतया इस पर प्रतिबंध लगाएं।

यमुना में चंद्राव के पास अवैध रेत खनन से परेशान ग्रामीणों ने संभावित बाढ़ के खतरे को भांपते हुए एसडीएम इंद्री को भी दो दिन पहले शिकायत की थी। उनका कहना था कि उनके यहां से यमुना में से भारी मात्रा में रेत निकाला जा रहा है और ओवरलोडेड रेत से भरी ट्राॅलियां गांव की फिरनी और पुल से रोजाना गुजर रही हैं। अवैध रेत खनन के काम में शामिल लोगों का पूरा गिरोह काम करता है। रास्ते में सड़कों पर जगह-जगह अपने लोगों को खड़ा करके नजर रखते हैं और अपने साथियों को पुलिस और माइनिंग की गाड़ियों से बचाने के लिए पूरी स्थिति की जानकारी देने का कार्य करते हैं। लेकिन यहां भी प्रश्न यह उठता है कि खनन रोकने में तैनात अधिकारियों की टीम की नजर से सड़क पर से ये रेत की सैकड़ों ट्रॉलियां कैसे निकल रही हैं।

खबरें और भी हैं...