विज्ञापन

खुशी ढूंढने से नहीं, शांत रहने से मिलती है, कल्पना से बाहर निकलें : सुधांशु

Dainik Bhaskar

Mar 17, 2019, 05:20 AM IST

Karnal News - सुधांशु महाराज ने कहा कि भावनाओं से विचार पैदा होते हैं और विचारों से भावनाएं आती हैं। विचारों से सद्‌विचार आएं और...

Karnal News - haryana news not by finding joy by staying calm get out of imagination sudhanshu
  • comment
सुधांशु महाराज ने कहा कि भावनाओं से विचार पैदा होते हैं और विचारों से भावनाएं आती हैं। विचारों से सद्‌विचार आएं और भावनाओं से सद-भावना बने। मनुष्य को इस प्रकार के सार्थक प्रयास करने चाहिए। सुधांशु महाराज मेरठ चौक के निकट पावन धाम आश्रम में प्रातःकालीन सत्र में श्रद्धालुओं को प्रवचन सुना रहे थे। सत्संग के पश्चात उन्होंने साधकों को ध्यान साधना भी करवाई। उन्होंने कहा कि जैन धर्म में प्रेक्षा ध्यान होता है जिसका अर्थ होता है देखना, मनुष्य को साक्षी भाव में जीना चाहिए। मनुष्य में जब दृष्टा भाव रहेगा तभी वह सार्थक होगा। मनुष्य का जब दिमाग खाली होगा तभी शांति आएगी।

इस मामले में हम सब को बच्चों से प्रेरणा लेनी चाहिए, क्योंकि उनका दिमाग हर समय खाली होता है। इसलिए वह बगैर किसी दबाव के हर समय खिला हुआ महसूस करते हैं और खिलखिलाते रहते हैं। मनुष्य की वृद्धा अवस्था ठीक इसके विपरीत है उस समय दिमाग भरा होता है। नींद भी चेन की नहीं आती। इसका एक मात्र उपाय है कि अपने आप को शांत करें, शांति से जीवन जीएं, कल्पना से बाहर निकलें, खुशी ढूंढने से नहीं मिलती, बेचैनी से नहीं मिलती, शांत रहने से सहज रहने से मिलती है। उन्होंने कहा कि मनुष्य को चाहिए कि प्रात:कालीन में सात्विक भावना ही होनी चाहिए। अगर ऐसा होगा तो सारा दिन सुखमय होगा। वातावरण शांति वाला होना चाहिए। जापान का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि वहां छोटे-छोटे घरों में भी हरियाली है। विदेशों में जहां धूप नहीं आती वहां रिफ्लेक्टर लगाकर वह ले लेते हैं। हमें यह चीजें सहज रूप से प्राप्त हैं। इसलिए यहां इनकी कोई कद्र नहीं करता। मनुष्य के मन में होना चाहिए, खिलना है, मुरझाना नहीं है और खिलने के लिए शांति चाहिए, जिन विचारों से खलबली पैदा हो उससे दूर रहना। शांति, प्रेम, सद्भावना के विचार मन में पैदा करने हैं व आत्म निरीक्षण पर ज्यादा ध्यान देना है। इस मौके पर मुख्य रूप से राजिंद्र भारती, सुभाष वत्स, सोमदत्त सैनी, सुरेश बाहेती, ओपी सलुजा, रमेश अत्रेजा, धर्मपाल खैंची, कमलेश भारती, रजनी बाहेती, मीना पाल तथा सुषमा सहित भारी संख्या में श्रद्धालु जन उपस्थित थे।

X
Karnal News - haryana news not by finding joy by staying calm get out of imagination sudhanshu
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन