Hindi News »Haryana »Karnal» मिठास का खजाना लिए यमुना क्षेत्र का लजीज तरबूज

मिठास का खजाना लिए यमुना क्षेत्र का लजीज तरबूज

भला गर्मियों के मौसम में तरबूज के स्वाद का लुत्फ कौन नहीं लेना चाहेगा। क्योंकि गर्मियों में तरबूज तेज गर्मी से...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 03, 2018, 02:25 AM IST

मिठास का खजाना लिए यमुना क्षेत्र का लजीज तरबूज
भला गर्मियों के मौसम में तरबूज के स्वाद का लुत्फ कौन नहीं लेना चाहेगा। क्योंकि गर्मियों में तरबूज तेज गर्मी से राहत पाने के लिए सभी लोगों का एक पंसदीदा फल है। तरबूज की बात की जाए तो भला यमुना के मीठे तरबूज का नाम हमारे जहन में न आए ऐसा तो हो ही नहीं सकता। क्योंकि यमुना का मीठा लजीज तरबूज अपने स्वाद के लिए मशहूर है। इस तरबूज का जायका लेने का इंतजार अब खत्म हो चुका है। क्योंकि यमुना क्षेत्र का तरबूज अब क्षेत्रीय मंड़ियों में बिकने के लिए आना शुरू हो चुका है। किसानों ने 30 अप्रैल के आसपास तरबूज तोड़ना शुरू कर दिया है। कई महीनों से यमुना में प्लेज तैयार करने में जुटे किसानों की मेहनत अब रंग ला रही है। क्योंकि अब उनकी प्लेज में तरबूज की बेलों पर छोटे-छोटे फल समय के साथ बड़े-बड़े तरबूजों का रूप ले चुके है, जिनसे सारी प्लेज भरी नजर आ रही है। किसान इन तरबूजों को तोड़कर अब क्षेत्रीय मंड़ियों में बेचने के लिए भी लाने लगे है। हालांकि कई दिन पहले किसानों ने तरबूज के साथ प्लेजों में उगाई गई सब्जियां घीया, ककड़ी, खीरा, करेला बेचना शुरू कर दिया था।

दूसरे प्रदेशों में भी जाता है

मैं यमुना में तरबूज व खरबूजे की खेती हर साल करता हूं। इस बार तरबूज व खरबूजे की फसल अच्छी तैयार हुई है। जो कि दिल्ली, पंजाब, देहरादून, चंडीगढ़, सहारनपुर आदि मंड़ियों में बिकने के लिए हर साल जाता है। -फारूख, किसान

इस बार फसल अच्छी

इस साल बरसात कम हुई है। लगातार प्लेजो को पानी भी देना पड़ता है। वैसे इस बार तरबूज का आकार अपेक्षाकृत सही है। एक बार की तुड़ाई में 150 क्विंटल के करीब तरबूज मिल जाता है। लेकिन इस बार फल भी ठीक ठाक ही निकल रहा है। -निजामुद्दीन, किसान

बारिश की जरूरत है

बेलों में पानी की कमी नहीं आए, इसलिए जरूरत अनुसार पानी दे रहे हैं। लेकिन फिर भी कुछ किसानों की यमुना में बेल सूख रही हैं। अगर बारिश हो जाए तो खेतों में लगी सब्जियों के लिए फायदेमंद साबित हो सकती है। -जुल्फान, किसान

अच्छी वैरायटी के भाव अच्छे

मैंने अपने खेत में 28 हजार रुपए प्रति किलो के हिसाब से मिलने वाला बीज लगाया है। इस वैरायटी के तरबूज की खासियत यह होती है कि इनसे पैदा होने वाले तरबूज भी मंहगे दाम पर बिकते हैं। इसलिए इससे अामदनी भी अच्छी होती है। -सिद्दू, किसान

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Karnal

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×