Hindi News »Haryana »Karnal» ट्रेड लाइसेंस के रेट नहीं हुए तय, आज होगी कमेटी की बैठक, छोटे दुकानदारों को मिल सकती है राहत

ट्रेड लाइसेंस के रेट नहीं हुए तय, आज होगी कमेटी की बैठक, छोटे दुकानदारों को मिल सकती है राहत

शहर में ट्रेड लाइसेंस को लेकर नगर निगम और व्यापारियों में खींचतान चल रही है। नगर निगम ने ट्रेड लाइसेंस को लेकर...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 03, 2018, 02:50 AM IST

ट्रेड लाइसेंस के रेट नहीं हुए तय, आज होगी कमेटी की बैठक, छोटे दुकानदारों को मिल सकती है राहत
शहर में ट्रेड लाइसेंस को लेकर नगर निगम और व्यापारियों में खींचतान चल रही है। नगर निगम ने ट्रेड लाइसेंस को लेकर सख्ती बरती तो व्यापारियों को ट्रेड लाइसेंस की फीस पर एतराज जताया। व्यापारियों का एतराज नगर निगम हाउस की बैठक में पहुंचा तो हाउस ने फिर से रेट निर्धारण का जिम्मा सीनियर डिप्टी मेयर के अलावा तीन अन्य पार्षदों को सौंप दिया।

दो घंटे तक चली बैठक में ट्रेड लाइसेंस फीस पर विचार हुआ, लेकिन बैठक में व्यापारियों के शामिल हो जाने के कारण कोई फाइनल नहीं हो पाया। अब गुरुवार को फिर से ट्रेड लाइसेंस फीस के रेट निर्धारित करने के लिए बैठक होगी। इस बैठक में सिर्फ कमेटी सदस्य और संबंधित अधिकारी शामिल होंगे। हाउस ने इस बैठक को पूर्ण अधिकार दिया है कि कमेटी जो फैसला करेगी वह पूरे हाउस का निर्णय होगा। हाउस का यह निर्णय सभी के लिए मान्य होगा। मीटिंग द्वारा निर्धारित रेट को अधिकारी भी कम ज्यादा नहीं कर सकेंगे। बैठक में व्यापारियों को आश्वस्त किया गया है कि सभी पहलुओं पर विचार-विमर्श करके ही ट्रेड लाइसेंस के रेट में संभावित फेरबदल किया जाएगा।

करनाल. शहर में ट्रेड लाइसेंस की फीस पर विचार-विमर्श करते कमेटी के सदस्य। फोटो | भास्कर

व्यापारियों ने ट्रेड लाइसेंस की फीस अधिक होने का उठाया मुद्दा

नगर निगम की सख्ती के बाद व्यापारियों ने ट्रेड लाइसेंस की फीस अधिक होने का मुद्दा उठाया। बुधवार को नगर निगम स्थित सीनियर डिप्टी मेयर कृष्ण गर्ग व डिप्टी मेयर मनोज वधवा के ऑफिस में आयोजित गठित कमेटी की बैठक में व्यापारियों के प्रतिनिधिमंडल ने एक समान फीस करने की डिमांड रखी। करनाल व्यापार मंडल के जिलाध्यक्ष जेआर कालड़ा ने बताया कि उन्होंने अधिकारियों व कमेटी के सामने यह बात रखी है ट्रेड लाइसेंस फीस सबकी एक जैसी होनी चाहिए। चाहे कोई टोका चलाता हो या कोई फाइव स्टार होटल। हां इसमें कैटेगरी निर्धारित हो सकती है। उन्होंने कहा कि अधिकारियों ने उन्हें निराश न करने का आश्वासन दिया है।

निर्धारित फीस को लागू किया जाएगा

नगर निगम हाउस ने ट्रेड लाइसेंस फीस के लिए कमेटी गठित की हुई है। कमेटी की मीटिंग हुई थी, लेकिन कमेटी ने गुरुवार को ट्रेड लाइसेंस फीस निर्धारित करने की बात कही है। कमेटी जो फीस निर्धारित करेगी उसे लागू कर दिया जाएगा। -धीरज कुमार, ईओ नगर निगम करनाल।

दूसरे नगर निगमों से मंगवाई है रेट लिस्ट, उन्हें देख करेंगे डिसीजन

ट्रेड लाइसेंस फीस निर्धारण कमेटी के सदस्य डिप्टी मेयर मनोज वधवा ने कहा कि उन्होंने सोनीपत, पानीपत, यमुनानगर जैसे दूसरे नगर निगमों से रेट लिस्ट मंगवाई है। दूसरे जिलों की रेट लिस्ट एग्जामिन करके करनाल के ट्रेड लाइसेंस फीस निर्धारित किए जाएंगे। वे व्यापारियों का भी भला चाहते हैं और नगर निगम का भी विकास चाहते हैं। हालांकि व्यापार मंडल की तरफ से मांग आई है कि हजार से ज्यादा किसी की भी फीस न की जाए, लेकिन वे इस बात का फैसला दूसरे जिलों की रेट लिस्ट के आधार पर ही लेंगे। इसमें कैटेगरी बनाने की जरूरत पड़ी तो बनाई जाएगी।

शराब के ठेकों का भी लेना होगा ट्रेड लाइसेंस

नगर निगम क्षेत्र में चल रहे शराब के ठेकों का भी ट्रेड लाइसेंस बनवाना होगा। ठेकों पर ट्रेड लाइसेंस की फीस क्या हो, इस पर मंथन किया जा रहा है। गुरुवार को होने वाली बैठक में कमेटी सदस्य डिप्टी मेयर मनोज वधवा, पार्षद सोनिया पंडित, कुमुदबाला अग्घी, जोगेंद्र चौहान इसका फैसला करेंगे।

सिर्फ 400 दुकानदारों ने लिया ट्रेड लाइसेंस

नगर निगम के ट्रेड लाइसेंस इंचार्ज जितेंद्र मलिक ने बताया कि अब तक 400 दुकानदारों ने ट्रेड लाइसेंस लिया है। नगर निगम के क्षेत्र में 3600 के लगभग दुकानें और व्यवसायिक प्रतिष्ठान संचालित हो रहे हैं।

सालाना होगी 2 करोड़ रुपए की आमदनी

निगम अधिकारियों के अनुसार वर्तमान की ट्रेड लाइसेंस फीस के अनुसार सभी प्रतिष्ठान ट्रेड लाइसेंस ले लेते हैं तो नगर निगम को सालाना 2 करोड़ रुपए की आमदनी होगी। लेकिन ट्रेड लाइसेंस के प्रति दुकानदार रूचि नहीं देखा रहे हैं। पिछले मात्र 10 रुपए ट्रेड लाइसेंस फीस के तौर पर मिले, जबकि सख्ती करने पर इस बार चार महीने में ही 11 लाख रुपए की आमदनी गई है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Karnal

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×